Saturday, April 13, 2024
Homeराजनीति'आपकी पार्टी में महिलाएँ सुरक्षित क्यों नहीं': AAP पार्षद की प्रताड़ना के बाद कार्यकर्ता...

‘आपकी पार्टी में महिलाएँ सुरक्षित क्यों नहीं’: AAP पार्षद की प्रताड़ना के बाद कार्यकर्ता ने केजरीवाल से किया सवाल, FIR दर्ज

आम आदमी पार्टी में शामिल होने के लिए रिजनल हेड की नौकरी छोड़ने पर अफसोस जताते हुए महिला ने अरविंद केजरीवाल से सवाल किया, "आपकी पार्टी में महिलाएँ सुरक्षित क्यों नहीं हैं?''

केजरीवाल सरकार का महिलाओं की सुरक्षा को लेकर बड़े-बड़े वादे करना, अपने घोषणा-पत्र में महिलाओं की सुरक्षा को सर्वोपरि बताना एक कोरा झूठ है। दरअसल, आम आदमी पार्टी (AAP) की एक महिला कार्यकर्ता को उनकी ही पार्टी के नेता द्वारा पिटवाने और दुर्व्यवहार करने का मामला सामने आया है। सोमवार (31 मई 2021) को मटियाला वार्ड से ‘आप’ के पार्षद रमेश मटियाला के खिलाफ दो अन्य कार्यकर्ताओं की मदद से अपनी ही पार्टी की महिला कार्यकर्ता के साथ दुर्व्यवहार और मारपीट करने के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है। म​हिला ने बीते दिनों खुद फेसबुक पर भी अपनी आपबीती सुनाई थी।

कथित तौर पर 28 मई 2021 को हुई घटना के बाद ‘आप’ पार्षद के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। सोशल मीडिया पर पीड़िता एक वीडियो भी सामने आया है। वायरल वीडियो में पीड़िता का कहना है कि रमेश मटियाला ने पार्टी की दो महिला कार्यकर्ताओं को बुलाकर उनके सामने थप्पड़ मारने का कहा।

पीड़िता के अनुसार, जो आम आदमी पार्टी की सदस्य भी हैं, उन्होंने मटियाला में दिल्ली सरकार की मदद से आरटी-पीसीआर टेस्ट कैंप लगवाया था। महिला ने अकेले ही इस कैंप को लगवाया था, इसलिए उन्होंने अपनी फोटो वाला एक बैनर वहाँ लगा रखा था। घटना वाले दिन जब रमेश मटियाला वहाँ पहुँचे तो वह बैनर देखकर भड़क गए।

महिला कार्यकर्ता ने शुक्रवार (28 मई 2021) को बताया कि रमेश मटियाला मुझे धमकी देते हैं कि मैंने अपना बैनर यहाँ क्यों लगवाया है, जबकि ये सब कुछ आयोजित करवाने वाली मैं हूँ, विधायक जी से बात करके इस कैंप को लगवाने वाली मैं हूँ। मटियाला में केवल एक ही जाँच कैंप था, लेकिन मैंने गुलाब जी से बात करके इसे लगवाया। सुबह से मैं यहाँ थी, पब्लिक के बीच में लोगों का टेस्ट करवा रही थी। इसी बीच दिल्ली जल बोर्ड के एक अधिकारी का मुझे कॉल आया और मैं कुछ अन्य जरूरी काम से वहाँ चली गई, लेकिन जब मैं वहाँ से आई तो मैंने देखा रमेश मटियाला यहाँ आया हुआ है। उसने अपनी उपस्थिति में दो महिला कार्यकार्ताओं को बुलवाया और मुझ पर हमला करवाया। रमेश ने उन्हें मुझे थप्पड़ मारने को भी कहा। इसके अलावा मेरे पोस्टर और बैनर जो मैंने टेस्ट कैंप के लिए लगवाया था, महिलाओं से उसे फाड़ने को कहा।

‘आप’ नेता के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 323 (चोट पहुँचाना), 341 (गलत तरीके से रोकना), 509 (गलत शब्दों का प्रयोग या किसी महिला को अपमानित करने का इरादा) और 506 (धमकी देना) के तहत दिल्ली के बिंदापुर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई है।

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, डीसीपी (द्वारका जिला) संतोष कुमार मीणा ने कहा कि हमें ‘आप’ पार्टी की कार्यकर्ता से शिकायत मिली थी। हमने एफआईआर दर्ज करने से पहले एक जाँच भी की है। वास्तव में क्या हुआ, यह पता लगाने के लिए आगे की जाँच भी जारी है।

आम आदमी पार्टी में शामिल होने के लिए रिजनल हेड की नौकरी छोड़ने पर अफसोस जताते हुए महिला ने अरविंद केजरीवाल से सवाल किया, “आपकी पार्टी में महिलाएँ सुरक्षित क्यों नहीं हैं?” इस बीच, दिल्ली पुलिस ने कहा कि वह आने वाले दिनों में किसी भी गिरफ्तारी से पहले पीड़िता को सीआरपीसी की धारा 164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष अपना बयान दर्ज कराने के लिए बुलाएगी। इस संबंध में संपर्क किए जाने पर रमेश मटियाला का कहना है कि उन्हें ऐसी किसी शिकायत या एफआईआर की जानकारी नहीं है। शिकायत खुद देखने के बाद ही वे इस पर प्रतिक्रिया दे पाएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शबरी के घर आए राम’: दलित महिला ने ‘टीवी के राम’ अरुण गोविल की उतारी आरती, वाल्मीकि बस्ती में मेरठ के BJP प्रत्याशी का...

भाजपा के मेरठ लोकसभा सीट से उम्मीदवार और अभिनेता अरुण गोविल जब शनिवार को एक दलित के घर पहुँचे तो उनकी आरती उतारी गई।

संदेशखाली में यौन उत्पीड़न और डर का माहौल, अधिकारियों की लापरवाही: मानवाधिकार आयोग की आई रिपोर्ट, TMC सरकार को 8 हफ़्ते का समय

बंगाल के संदेशखाली में टीएमसी से निष्कासित शेख शाहजहाँ द्वारा महिलाओं के उत्पीड़न के मामले में NHRC ने अपनी रिपोर्ट जारी की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe