Wednesday, June 19, 2024
HomeराजनीतिBJP सांसद वीरेंद्र कुमार होंगे लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर, 17 जून से शुरू होगा...

BJP सांसद वीरेंद्र कुमार होंगे लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर, 17 जून से शुरू होगा नया सत्र

17वीं लोकसभा का पहला सत्र 17 जून से 26 जुलाई तक आयोजित किया जाएगा। सत्र के पहले दो दिनों तक नवनिर्वाचित सांसदों को शपथ दिलाई जाएगी।

17वीं लोकसभा के गठन के लिए तैयारियाँ शुरू हो गई हैं। मंगलवार (जून 11, 2019) को सरकार ने भाजपा सांसद डॉ वीरेंद्र कुमार को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया है, जो नए सांसदों को शपथ दिलवाएँगे। मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार सभी सांसदों को शपथ दिलाएँगे। मध्य प्रदेश के दलित नेता वीरेंद्र कुमार 7वीं बार लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बने हैं और 1996 से लगातार जीत रहे हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वीरेंद्र कुमार को महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री बनाया गया था।

दरअसल, प्रोटेम स्पीकर उन्हें कहा जाता है, जो चुनाव के बाद पहले सत्र में स्थायी अध्यक्ष का चुनाव होने तक लोकसभा का संचालन करते हैं। सामान्यतः सदन के वरिष्ठतम सदस्य को यह जिम्मेदारी सौंपी जाती है। प्रोटेम स्पीकर तब तक अपने पद पर बने रहते हैं, जब तक सदन द्वारा स्थायी अध्यक्ष का चुनाव न हो जाए।

जानकारी के मुताबिक, 17वीं लोकसभा का पहला सत्र 17 जून से 26 जुलाई तक आयोजित किया जाएगा। सत्र के पहले दो दिनों तक नवनिर्वाचित सांसदों को शपथ दिलाई जाएगी। पहले दो दिनों में नए सांसदों के शपथ लेने के बाद 19 जून को अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा। जिसके बाद 20 जून को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे। संसद का यह सत्र 40 दिनों तक चलेगा और और इसमें 30 बैठकें होंगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीपफेक वीडियो और ऑनलाइन फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम, ‘मोदी 3.0’ लेकर आ रहा ‘डिजिटल इंडिया बिल’: डेटा प्रोटेक्शन के बाद अब YouTube और...

अमित शाह का वीडियो वायरल कर दिया गया और दावा किया गया कि वो आरक्षण खत्म करने की बात कर रहे हैं। कई हस्तियाँ डीपफेक की शिकार बन चुकी हैं।

कश्मीर को अलग बताने वाली अरुंधति रॉय ने गुजरात दंगों को लेकर भी बोले थे झूठ: एहसान जाफरी की बेटियों से रेप और जिंदा...

साल 2002 के गुजरात दंगों को अरुंधति रॉय ने अपने लेख के जरिए कई तरह के झूठ और भ्रम फैलाने की कोशिश की थी। इसके लिए उन्हें माफी भी माँगनी पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -