Thursday, January 27, 2022
Homeराजनीति22 की उम्र, ₹108 करोड़ संपत्ति: कॉन्ग्रेस नेता डीके शिवकुमार की बेटी ऐश्वर्या से...

22 की उम्र, ₹108 करोड़ संपत्ति: कॉन्ग्रेस नेता डीके शिवकुमार की बेटी ऐश्वर्या से ED करेगी पूछताछ

डीके शिवकुमार ने अपनी बेटी ऐश्वर्या शिवकुमार के नाम से विभिन्न कंपनियों में भारी रक़म निवेश किया है। ऐश्वर्या की उम्र तो मात्र 22 साल है लेकिन उनके नाम पर 108 करोड़ रुपए से भी अधिक की संपत्ति है।

कर्नाटक कॉन्ग्रेस के कद्दावर नेता डीके शिवकुमार के बाद अब मनी लॉन्ड्रिंग की आँच उनकी बेटी तक भी पहुँच गई है। डीके शिवकुमार को ईडी पहले ही गिरफ़्तार कर चुकी है। वह 13 सितम्बर तक ईडी की हिरासत में रहेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि डीके शिवकुमार ने अपनी बेटी ऐश्वर्या शिवकुमार के नाम से विभिन्न कंपनियों में भारी रक़म निवेश किया है। ऐश्वर्या की उम्र तो मात्र 22 साल है लेकिन उनके नाम पर 108 करोड़ रुपए से भी अधिक की संपत्ति है।

अगर 2018 के चुनावी शपथपत्र की बात करें तो डीके शिवकुमार ने 618 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की थी। ऐश्वर्या को कैफे कॉफी डे से 20 करोड़ रुपए क़र्ज़ मिलने की बात भी समाने आई है। कैफे कॉफी डे के संस्थापक वीजी सिद्धार्थ कॉन्ग्रेस की सरकार के दौरान कर्नाटक के मुख्यमंत्री रह चुके एसएम कृष्णा के दामाद थे। सिद्धार्थ ने कुछ दिनों पहले आत्महत्या कर ली थी। डीके शिवकुमार ने किसी बिजनेस करार के लिए 2017 में सिंगापुर की भी यात्रा की थी।

प्रवर्तन निदेशालय ने शिवकुमार की बेटी ऐश्वर्या को नोटिस भेजा है। डीके शिवकुमार अक्टूबर 1990 में ही पहली बार मंत्री बन गए थे और वह कर्नाटक की 4 अलग-अलग सरकारों में मंत्री रह चुके हैं। ईडी ने उनकी बेटी ऐश्वर्या को गुरुवार (सितम्बर 12, 2019) को पूछताछ के लिए बुलाया है। इस दौरान सिंगापुर ट्रिप से लेकर विभिन्न डाक्यूमेंट्स उनके सामने रखे जाएँगे और ईडी ‘प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट’ के तहत उनसे पूछताछ करेगी। ऐश्वर्या ईडी के सामने पेश होने के लिए दिल्ली निकल गई हैं।

टैक्स धोखाधड़ी और हवाला डीलिंग मामले में शिवकुमार के ख़िलाफ़ इनकम टैक्स विभाग ने मामला दर्ज किया था। शिवकुमार नोटबंदी के बाद से ही सरकारी एजेंसियों के राडार पर थे। अगस्त 2017 में उनके घर से 8.59 करोड़ रुपए कैश जब्त किया गया था। इसके बाद उनके ख़िलाफ़ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe