Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिअरुण जेटली AIIMS में भर्ती, पीएम मोदी देखने पहुॅंचे

अरुण जेटली AIIMS में भर्ती, पीएम मोदी देखने पहुॅंचे

भाजपा के वरिष्ठ नेता जेटली पिछले करीब 2 साल से बीमार चल रहे हैं। किडनी की बीमारी के साथ-साथ जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं। वह सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीड़ित हैं।

काफी समय से बीमार चल रहे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को AIIMS में भर्ती कराया गया है। साँस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद उन्हें मेडिकल जाँच के लिए शुक्रवार सुबह 11 बजे एम्स में भर्ती कराया गया। उन्हें सीएन (न्यूरो कार्डियक) सेंटर में एडमिट कराया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एम्स पहुॅंचकर जेटली का हाल जाना। उनसे पहले केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला भी AIIMS पहुॅंचकर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कमजोरी और घबराहट की वजह से जेटली को भर्ती कराया गया है। इससे पहले, सितंबर 2014 में डायबिटीज मैनेज के लिए उनकी गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी भी हो चुकी है, जबकि साल 2005 में उनका दिल से जुड़ा ऑपरेशन भी हुआ था।

भाजपा के वरिष्ठ नेता जेटली पिछले करीब 2 साल से बीमार चल रहे हैं। किडनी की बीमारी के साथ-साथ जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं। वह सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीड़ित हैं। जेटली के बाएँ पैर में कैंसर (सॉफ्ट टिश्यू) है। वह इसकी सर्जरी के लिए जनवरी 2019 में अमेरिका भी गए थे। पिछले साल मई में उन्हें किडनी प्रत्यारोपित की गई थी।

अपनी अस्वस्थता के कारण ही जेटली ने मोदी सरकार की दूसरी कैबिनेट में शामिल होने से मना कर दिया था। इसको लेकर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी भी लिखी थी।

जेटली ने उस चिट्ठी को ट्विटर पर भी शेयर करते हुए लिखा था, “पिछले 18 महीने से मैं बीमार हूँ। मेरी तबीयत खराब है, इसलिए मुझे मंत्री न बनाने पर विचार करें।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe