Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिदिलबर नेगी के हत्यारों को उत्तराखंड की जनता जमानत जब्त कर भगाएगी: केजरीवाल पर...

दिलबर नेगी के हत्यारों को उत्तराखंड की जनता जमानत जब्त कर भगाएगी: केजरीवाल पर कपिल मिश्रा का निशाना

दिल्ली में फरवरी 2020 में हुए हिन्दू विरोधी दंगों के दौरान संप्रदाय विशेष की हिंसक भीड़ ने दिलबर नेगी के अंगों को काट दिया था और उसे मिठाई की दुकान के अंदर जिंदा जला दिया था। दिलबर नेगी उत्तराखंड के मूल निवासी थे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अ​रविंद केजरीवाल ने घोषणा की है कि पहली बार उनकी आम आदमी पार्टी (AAP) उत्तराखंड के विधानसभा चुनावों में शिरकत करेगी। इसके कुछ घंटो बाद बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने ट्विटर के जरिए उन पर निशाना साधा। मिश्रा ने कहा कि दिलबर नेगी के हत्यारों को उत्तराखंड की जनता मुॅंहतोड़ जवाब देगी। नेगी को इस साल फरवरी में दिल्ली में हुए दंगों में जिंदा झोंक दिया गया था।

मिश्रा ने ट्वीट में कर कहा, “दिलबर नेगी के हत्यारों को उत्तराखंड की जनता जमानत जब्त करवा कर भगाएगी।”

बता दें, दिल्ली में फरवरी 2020 में हुए हिन्दू विरोधी दंगों के दौरान संप्रदाय विशेष की हिंसक भीड़ ने दिलबर नेगी के अंगों को काट दिया था और उसे मिठाई की दुकान के अंदर जिंदा जला दिया था। दिलबर नेगी उत्तराखंड के मूल निवासी थे।

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल ने बताया था कि उत्तराखंड में सर्वे कराने के बाद उन्होंने वहाँ चुनाव लड़ने का फैसला किया है। घोषणा के बाद बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने इसका जवाब दिया है। केजरीवाल ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि दिल्ली में रहने वाले कई उत्तराखंड मूल निवासी उनके पास आए और उनसे विधानसभा चुनाव लड़ने का अनुरोध किया।

मतलब दिल्ली के सीएम यह कहना चाहते है कि उत्तराखंड के मूल निवासी दिल्ली में पिछले 5 सालों में उनकी पार्टी द्वारा किए गए कार्यों से इतने प्रभावित हो गए कि वे चाहते है कि अब आप पार्टी उत्तराखंड के लिए भी ऐसा ही करें।

दिल्ली हिंदू विरोधी दंगों में आप पार्टी का कनेक्शन

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता ताहिर हुसैन ने इस साल फरवरी में पूर्वोत्तर दिल्ली में हुए दंगों की साजिश रचने का आरोप कबूल कर लिया है। दिल्ली पुलिस ने दंगों के शामिल मुख्य साजिशकर्ताओं, गैर सरकारी संगठनों और राजनीतिक समूहों जैसे पिंजरा तोड़ और पीएफआई के साथ ताहिर का नाम भी जाँच के दौरान लिया था।

पार्षद ताहिर हुसैन के दंगों में पूरी तरह संलिप्तता सामने आने के बाद आप ने निलंबित कर दिया था। दिल्ली दंगों के दौरान हिंदुओं को निशाना बनाने के लिए ताहिर के घर का इस्तेमाल हुआ था। इसी घर में आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या का आरोप है।

दिल्ली दंगों पर ऑपइंडिया की विस्तृत रिपोर्ट अब किंडल पर भी उपलब्ध है। इसमें दंगों से जुड़े हर मामले को विस्तार से बताया गया है कि किस तरह संप्रदाय विशेष के लोगों द्वारा हिंदुओं को निशाना बनाया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -