Monday, July 22, 2024
Homeराजनीति'केवल मजहबी तालीम से नहीं चल सकती जिंदगी': कर्नाटक के मदरसों में आधुनिक शिक्षा...

‘केवल मजहबी तालीम से नहीं चल सकती जिंदगी’: कर्नाटक के मदरसों में आधुनिक शिक्षा पर विवाद

“हमारी योजना के तहत एक मानक पाठ्यक्रम तैयार किया जाएगा। इसके अंतर्गत बच्चों को SSLC की बराबरी का सर्टिफ़िकेट दिया जाएगा। इसकी मदद से छात्रों को कॉलेज में दाख़िला लेने में या पेशेवर पाठ्क्रमों का चुनाव करने में आसानी होगी। मज़हबी शिक्षा से उनकी ज़िंदगी नहीं चल सकती है।"

भाजपा शासित कर्नाटक में मदरसों की शिक्षा को आधुनिक बनाने के प्रस्ताव पर बहस छिड़ी गई है। इस संबंध में राज्य के ​अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री श्रीमंत पाटिल की एक टिप्पणी से विवाद खड़ा हो गया है। उन्होंने कहा कि मजहबी शिक्षा से बच्चों की जिंदगी नहीं चल सकती इसलिए सरकार मदरसों में शिक्षा को रेगुलराइज करने पर विचार कर रही है।

मुस्लिम समुदाय के कुछ नेताओं ने इसका स्वागत किया है, वहीं कई ने इस पर चिंता जताई है। ऐसे लोगों का आरोप है कि मदरसों पर प्रदेश सरकार नियंत्रण करना चाहती है।

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक़ मंगलुरु में बोलते हुए श्रीमंत पाटिल ने कहा कि कर्नाटक में हज़ारों मदरसे हैं। मदरसों में आने वाले बच्चों को सिर्फ मज़हबी तालीम दी जाती है। इसका उनके भविष्य में कोई उपयोग नहीं है। ऐसी शिक्षा से न तो उनके कौशल का विकास होता है और न ही वह रोज़गार के लायक बनते हैं।

कर्नाटक के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने कहा, “हमारी योजना के तहत एक मानक पाठ्यक्रम (standard syllabus) तैयार किया जाएगा। इसके अंतर्गत बच्चों को SSLC (सेकेंड्री स्कूल लीविंग) की बराबरी का सर्टिफ़िकेट दिया जाएगा। इसकी मदद से छात्रों को कॉलेज में दाख़िला लेने में या पेशेवर पाठ्क्रमों का चुनाव करने में आसानी होगी। मज़हबी शिक्षा से उनकी ज़िंदगी नहीं चल सकती है। इसलिए यह कदम बेहद ज़रूरी है और इसके लिए हमने अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों से बातचीत भी शुरू कर दी है। हमें इस मुद्दे पर काफी सकारात्मक प्रतिक्रियाएँ हासिल हुई हैं।”  

कर्नाटक सरकार के इस कदम पर जनता दल (सेक्यूलर) के अल्पसंख्यक नेता ने कहा, “अल्पसंख्यक समुदाय के सिर्फ 50 फ़ीसदी बच्चे स्कूल जाते हैं। उनमें से भी मदरसा जाने वालों की संख्या सिर्फ 4 फ़ीसदी है। सरकार को मदरसे में मज़हबी तालीम हासिल करने वालों की चिंता करने की जगह उन मुस्लिम बच्चों की चिंता करनी चाहिए जो स्कूल नहीं जाते हैं, या जिनकी पढ़ाई पूरी नहीं हो पाती है।”  

इससे पहले बीजेपी शासित असम में सरकार ने राज्य मदरसा बोर्ड को भंग कर उसकी सभी शैक्षणिक गतिविधियों को माध्यमिक शिक्षा निदेशालय को हस्तांतरित करने का फैसला किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काँवड़िए नहीं जान पाएँगे दुकान ‘अब्दुल’ या ‘अभिषेक’ की, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक: कहा- बताना होगा सिर्फ मांसाहार/शाकाहार के बारे में,

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कांवड़ रूट पर दुकानदारों के नाम दर्शाने वाले आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी है।

AAP विधायक की वकीलगिरी का हाई कोर्ट ने उतारा भूत: गलत-सलत लिख कर ले गया था याचिका, लग चुका है बीवी को कुत्ते से...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज ने सोमनाथ भारती की याचिका पर कहा कि वो नोटिस जारी नहीं कर सकते, उन्हें ये समझ ही नहीं आ रहा है, वो मामला स्थगित करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -