Monday, June 27, 2022
Homeराजनीतिअरुणाचल प्रदेश में नीतीश की JDU को बड़ा झटका: पार्टी के 6 विधायक भाजपा...

अरुणाचल प्रदेश में नीतीश की JDU को बड़ा झटका: पार्टी के 6 विधायक भाजपा में शामिल

इस मुद्दे पर जदयू की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार की जदयू ने 2019 में हुए प्रदेश के विधानसभा चुनावों में 15 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें 7 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इस जीत के साथ जदयू अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी।

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को अरुणाचल प्रदेश में बड़ा झटका लगा है, पार्टी के कुल 6 विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। यह जानकारी विधानसभा द्वारा जारी किए गए बुलेटिन में साझा की गई। इसके अलावा पीपुल्स पार्टी ऑफ़ अरुणाचल (PPA) के इकलौते लिकबाली (Likabali) विधानसभा क्षेत्र से विधायक कार्दो निगोर (Kardo Nyigor) ने भी भाजपा की सदस्यता ले ली। पंचायत और निकाय चुनावों के नतीजों के ठीक एक दिन पहले यह बात सामने आई है। 

इसके अलावा शनिवार (26 दिसंबर 2020) से ही जदयू (JDU) की पटना में राष्ट्रीय परिषद की बैठक होने वाली है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ इन विधायकों के ठहरने की व्यवस्था की गई थी लेकिन अब यह भाजपा में शामिल हो चुके हैं। भाजपा की सदस्यता लेने वालों में जदयू के 6 विधायकों में तलेम तबोह (रुमगोंग), हायेंग मंगफी (तयांग तजो), जिक्के टको (टाली), दोर्जी वांगडी खरमा (कालाकतांग), डोंगऊ सियोंगजू (बोमदिला), कांगगोंग टाकू (मरियांग-गेकू) शामिल हैं। 

26 नवंबर 2020 को जदयू ने सियोंगजू, खरमा और टाकू को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए ‘कारण बताओ नोटिस’ भेजा था, इसके बाद उन्हें पार्टी से निलंबित भी किया था। जदयू के इन 6 विधायकों ने तलेम तबोह को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की जानकारी के बगैर विधायक दल का नेता चुन लिया था। इस महीने की ही शुरुआत में PPA विधायक को भी पार्टी से निलंबित किया गया था। इस पर अरुणाचल भाजपा अध्यक्ष बीआर वाघे ने कहा, “हमने उनके पार्टी में शामिल होने के उद्देश्य से दिए गए पत्र को स्वीकार कर लिया है।” 

फ़िलहाल इस मुद्दे पर जदयू की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार की जदयू ने 2019 में हुए प्रदेश के विधानसभा चुनावों में 15 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें 7 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इस जीत के साथ जदयू अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी। भाजपा ने इस चुनाव में कुल 41 सीटों पर अपना कब्ज़ा जमाया था।

जदयू के 6 और PPA के एक विधायक को मिला कर भाजपा के विधायकों की संख्या 48 हो गई है। वहीं जदयू के पास सिर्फ एक विधायक शेष है, कॉन्ग्रेस व एनपीपी के पास 4-4 विधायक मौजूद हैं। गौरतलब है कि भाजपा और जदयू बिहार के भीतर गठबंधन में सरकार चलाते हैं लेकिन अन्य राज्यों में अलग-अलग चुनाव लड़ते हैं। हाल ही में जदयू ने पश्चिम बंगाल के आगामी विधानसभा चुनावों में 75 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘लगातार मिल रही धमकियाँ, हमें और हमारे समर्थकों को जान का खतरा’: शिंदे गुट पहुँचा सुप्रीम कोर्ट, बोले आदित्य ठाकरे – हम शरीफ क्या...

एकनाथ शिंदे व उनके समर्थक नेताओं ने उस नोटिस के विरुद्ध कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है जिसमें 16 बागी विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने की बात है।

YRF की ‘शमशेरा’ में बड़ा सा त्रिपुण्ड तिलक वाला गुंडा, देश का गद्दार: लगातार फ्लॉप के बावजूद नहीं सुधर रहा बॉलीवुड, फिर हिन्दूफ़ोबिया

लगातार फ्लॉप फिल्मों के बावजूद बॉलीवुड नहीं सुधर रहा है। एक बार फिर से त्रिपुण्ड वाले 'हिन्दू विलेन' ('शमशेरा' में संजय दत्त) को लाया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,611FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe