Friday, May 24, 2024
Homeराजनीतिअरुणाचल प्रदेश में नीतीश की JDU को बड़ा झटका: पार्टी के 6 विधायक भाजपा...

अरुणाचल प्रदेश में नीतीश की JDU को बड़ा झटका: पार्टी के 6 विधायक भाजपा में शामिल

इस मुद्दे पर जदयू की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार की जदयू ने 2019 में हुए प्रदेश के विधानसभा चुनावों में 15 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें 7 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इस जीत के साथ जदयू अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी।

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को अरुणाचल प्रदेश में बड़ा झटका लगा है, पार्टी के कुल 6 विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। यह जानकारी विधानसभा द्वारा जारी किए गए बुलेटिन में साझा की गई। इसके अलावा पीपुल्स पार्टी ऑफ़ अरुणाचल (PPA) के इकलौते लिकबाली (Likabali) विधानसभा क्षेत्र से विधायक कार्दो निगोर (Kardo Nyigor) ने भी भाजपा की सदस्यता ले ली। पंचायत और निकाय चुनावों के नतीजों के ठीक एक दिन पहले यह बात सामने आई है। 

इसके अलावा शनिवार (26 दिसंबर 2020) से ही जदयू (JDU) की पटना में राष्ट्रीय परिषद की बैठक होने वाली है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ इन विधायकों के ठहरने की व्यवस्था की गई थी लेकिन अब यह भाजपा में शामिल हो चुके हैं। भाजपा की सदस्यता लेने वालों में जदयू के 6 विधायकों में तलेम तबोह (रुमगोंग), हायेंग मंगफी (तयांग तजो), जिक्के टको (टाली), दोर्जी वांगडी खरमा (कालाकतांग), डोंगऊ सियोंगजू (बोमदिला), कांगगोंग टाकू (मरियांग-गेकू) शामिल हैं। 

26 नवंबर 2020 को जदयू ने सियोंगजू, खरमा और टाकू को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए ‘कारण बताओ नोटिस’ भेजा था, इसके बाद उन्हें पार्टी से निलंबित भी किया था। जदयू के इन 6 विधायकों ने तलेम तबोह को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की जानकारी के बगैर विधायक दल का नेता चुन लिया था। इस महीने की ही शुरुआत में PPA विधायक को भी पार्टी से निलंबित किया गया था। इस पर अरुणाचल भाजपा अध्यक्ष बीआर वाघे ने कहा, “हमने उनके पार्टी में शामिल होने के उद्देश्य से दिए गए पत्र को स्वीकार कर लिया है।” 

फ़िलहाल इस मुद्दे पर जदयू की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। उल्लेखनीय है कि नीतीश कुमार की जदयू ने 2019 में हुए प्रदेश के विधानसभा चुनावों में 15 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें 7 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इस जीत के साथ जदयू अरुणाचल प्रदेश में भाजपा के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी। भाजपा ने इस चुनाव में कुल 41 सीटों पर अपना कब्ज़ा जमाया था।

जदयू के 6 और PPA के एक विधायक को मिला कर भाजपा के विधायकों की संख्या 48 हो गई है। वहीं जदयू के पास सिर्फ एक विधायक शेष है, कॉन्ग्रेस व एनपीपी के पास 4-4 विधायक मौजूद हैं। गौरतलब है कि भाजपा और जदयू बिहार के भीतर गठबंधन में सरकार चलाते हैं लेकिन अन्य राज्यों में अलग-अलग चुनाव लड़ते हैं। हाल ही में जदयू ने पश्चिम बंगाल के आगामी विधानसभा चुनावों में 75 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है।  

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -