Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीति'जीवन का पल-पल, शरीर का कण-कण राष्ट्र को समर्पित' : माँ भारती के चरणों...

‘जीवन का पल-पल, शरीर का कण-कण राष्ट्र को समर्पित’ : माँ भारती के चरणों में बैठ PM मोदी ने दोहरया संकल्प, तपस्या पूरी कर साझा किया ‘अलौकिक’ अनुभव

PM मोदी ने इस स्थान पर तीसरे और अपने अंतिम दिन की साधना समाप्त की। साधना पूरी के बाद केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक पत्र शेयर किया है जिसे नरेंद्र मोदी द्वारा लिखा गया है। इस पत्र में मोदी ने अपने जीवन का एक-एक क्षण भारत माता की सेवा में बिताने का संकल्प दोहराया है।

लोकसभा चुनाव 2024 के लिए सभी 7 चरणों का प्रचार खत्म होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार (30 मई 2024) को कन्याकुमारी पहुँचे थे। यहाँ शनिवार (1 जून 2024) को उन्होंने विवेकानंद रॉक मेमोरियल सूर्योदय के समय सूर्य को अर्ध्य दिया।

PM मोदी ने इस स्थान पर तीसरे और अपने अंतिम दिन की साधना समाप्त की। साधना पूरी के बाद केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक पत्र शेयर किया है जिसे नरेंद्र मोदी द्वारा लिखा गया है। इस पत्र में मोदी ने अपने जीवन का एक-एक क्षण भारत माता की सेवा में बिताने का संकल्प दोहराया है।

निर्मला सीतारमण ने शनिवार की शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पत्र अपने X हैंडल पर शेयर किया है। इस पत्र में PM मोदी ने कन्याकुमारी के विवेकानंद शिला स्मारक को एक अलौकिक और दिव्य अनुभूति देने वाला स्थान बताया है।

शिला का इतिहास बताते हुए PM मोदी ने लिखा, “इसी शिला पर माँ पार्वती और स्वामी विवेकानंद जी ने तपस्या की थी। आगे चल कर इस शिला स्मारक के रूप में एकनाथ रानाडे जी ने स्वामी विवेकानंद जी के विचारों को जीवंत कर दिया।”

स्वामी विवेकानंद को आध्यात्मिक नवजागरण का प्रणेता बताते हुए नरेंद्र मोदी ने उन्हें अपना आदर्श, अपनी ऊर्जा व साधना का स्रोत माना है। विवेकानंद रॉक मेमोरियल के बारे में बताते हुए मोदी ने लिखा है कि कई साल पहले पूरा देश भ्रमण कर के जब स्वामी विवेकानंद वहाँ पहुँचे थे तो उनको इसी जगह पर भारत के पुनरुत्थान की दिशा मिली थी। मोदी ने यह भी कहा कि आज में आ रहा बदलाव स्वामी विवेकानंद के सपनों के अनुरूप है। कन्याकुमारी में की गई इस साधना को मोदी ने अपने जीवन में कभी न भूल पाने वाला समय बताया है।

पत्र के अंत में PM मोदी ने स्वयं को माँ भारती की सेवा में समर्पित रखने का संकल्प लिया है। उन्होंने लिखा, “मेरे जीवन का पल-पल और शरीर का कण-कण सदैव राष्ट्र की सेवा में समर्पित रहेगा। राष्ट्र की उन्नति और देशवासियों के कल्याण की कामना के साथ माँ भारती को कोटि-कोटि नमन।” नीचे नरेंद्र मोदी के हस्ताक्षर और 1 जून 2024 की तारीख पड़ी हुई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -