Tuesday, July 27, 2021
HomeराजनीतिVIDEO: तेजस्वी की रैली में लोगों ने लगाए 'मोदी-मोदी' के नारे, कहा 'यहाँ तो...

VIDEO: तेजस्वी की रैली में लोगों ने लगाए ‘मोदी-मोदी’ के नारे, कहा ‘यहाँ तो जहाज देखने आए हैं’

शेयर किए गए वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे तेजस्वी की रैली में आए लोग मोदी के गुण गाए जा रहे हैं। भाषण सुनने आए लोगों को हेलीकॉप्टर में ज्यादा दिलचस्पी रही, नेताजी में कम!

बिहार में पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की रैली में आए लोगों ने ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगाए। दरअसल, तेजस्वी की रैली में अच्छी-ख़ासी भीड़ थी लेकिन जब लोगों से पूछा गया कि क्या वे राजद समर्थक हैं, तो उन्होंने कहा कि वो तो बस ‘जहाज’ देखने आए हैं। जहाज से उनका तात्पर्य नेताओं के हेलीकॉप्टर से था। लोगों ने कहा कि चूँकि ‘सब कुछ मोदी ने किया है’, इसी लिए वो मोदी को ही वोट करेंगे। सभा में उपस्थित किशोरों व अन्य युवाओं ने भी मोदी को वोट करने की बात कही। इसके बाद सभी ‘मोदी-मोदी’ के नारे भी लगाने लगे। नीचे इंडिया टीवी के एंकर सुशांत सिन्हा द्वारा शेयर किए गए वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे तेजस्वी की रैली में आए लोग मोदी के गुण गाए जा रहे हैं।

सुशांत सिन्हा ने राजद पर चुटकी लेते हुए कहा कि लोग शूटिंग किसी और फ़िल्म की देख रहे हैं और टिकट किसी और फ़िल्म का ही ख़रीद रहे हैं। बता दें कि बिहार में राजग के ख़िलाफ़ कॉन्ग्रेस, राजद, रालोसपा, हम और वीआईपी ने महागठबंधन बनाया है। बग़ावत झेल रही कॉन्ग्रेस की हालत वैसे भी यहाँ पस्त नज़र आ रही है। पारिवारिक विवादों से घिरे यादव परिवार में भी सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। लालू यादव जेल में हैं। ऐसे में राजद नेताओं का कुनबा लगभग बिखरने के कगार पर है।

वहीं दूसरी तरफ़ नीतीश-मोदी के चेहरे के साथ राजग पूरे दम-खम से चुनावी समर में उतर चुका है। स्टार प्रचारक लगातार उड़ान भर रहे हैं। प्रधानमंत्री की भी रैलियाँ हुई हैं। अमित शाह ने कहा है कि इस बार राजग बिहार में 2014 से ज्यादा सीटें जीतेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe