Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिटॉयलेट में 'SP रंग' की टाइल्स देख बौखलाई समाजवादी पार्टी: साधा BJP पर निशाना,...

टॉयलेट में ‘SP रंग’ की टाइल्स देख बौखलाई समाजवादी पार्टी: साधा BJP पर निशाना, रेलवे ने सच्चाई बता बोलती बंद की

"टाइल्स को लगाने का उद्देश्य बेहतर साफ सफाई सुनिश्चित करना है। इसका किसी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है। आइए मिलकर स्वच्छ भारत मिशन में सहयोग करें।"

गोरखपुर के रेलवे अस्पताल की पब्लिक टॉयलेट पर राजनीति शुरू हो गई है । दरअसल गोरखपुर मेडिकल अस्पताल में सार्वजनिक टॉयलेट की दीवारों पर लाल और हरे रंग के टाइल्स लगे हुए हैं। यह बिल्कुल समाजवादी पार्टी के झंडे के रंग का है। टॉयलेट का रंग देखकर समाजवादी पार्टी ने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए एक ट्वीट किया।

अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए पार्टी ने रेलवे अस्पताल के शौचालयों की तस्वीरें भी साझा की और लिखा, “दूषित सोच रखने वाले सत्ताधीशों द्वारा राजनीतिक द्वेष के चलते गोरखपुर रेलवे अस्पताल में शौचालय की दीवारों को सपा के रंग में रंगना लोकतंत्र को कलंकित करने वाली शर्मनाक घटना! एक प्रमुख राजनीतिक पार्टी के ध्वज के रंगों का अपमान घोर निंदनीय। संज्ञान ले हो कार्रवाई, तत्काल बदला जाए रंग।”

ट्वीट करते हुए समाजवादी पार्टी ने साफ़ तौर पर आरोप लगाया कि सरकार ने पार्टी का अनादर करने के लिए टॉयलेट के लिए टाइल्स पर जानबूझकर रंगों का इस्तेमाल किया है।

वहीं सपा के ट्वीट पर पूर्वोत्तर रेलवे (एनईआर) ने जवाब देते हुए स्पष्ट किया, “टाइल्स को लगाने का उद्देश्य बेहतर साफ सफाई सुनिश्चित करना है। इसका किसी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है। आइए मिलकर स्वच्छ भारत मिशन में सहयोग करें।” रेलवे ने बताया कि ये टाइल्स स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत काफी पहले लगाई गई थीं। इसका किसी राजनीतिक दल या राजनीति से कोई सम्‍बन्‍ध नहीं। साथ ही कहा समाजवादी पार्टी से स्वच्छता बनाए रखने में सहयोग करने का आग्रह किया।

अखिलेश यादव ने जब सरकारी आवास के उखड़वाए थे टाइल्स

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव पर आरोप लगा था कि उन्होंने सरकारी आवास को खाली करने से पहले उसे काफी नुकसान पहुँचाया था। कथित तौर पर अखिलेश यादव ने करोड़ों के बंगले में शिफ्ट होने से पहले अपने सरकारी घर में बने जिम को तोड़ दिया, घर में लगे पौधों, दर्पणों और संगमरमर की टाइलों को निकाल लिया था और यहाँ तक ​​कि जाने से पहले उन्होंने स्विमिंग पूल में टाइल्स को भी उखड़वा दिया था। रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने सरकारी बंगले से बाथरूम की फिटिंग भी हटा दी थी।

वहीं इस खबर के वायरल होने और जनता में उनकी थू-थू होने के बाद अखिलेश यादव ने पत्रकारों को 11 लाख रुपए की पेशकश करते हुए उन पत्रकारों के नाम बताने की अपील की, जिन्होंने सरकारी आवास में हुए नुकसान की तस्वीरें और वीडियो लिए थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe