Friday, June 14, 2024
Homeराजनीतिदिल्ली के सीलमपुर में बुर्का वाली पार्षद, जीत के बाद भी कोई नहीं देख...

दिल्ली के सीलमपुर में बुर्का वाली पार्षद, जीत के बाद भी कोई नहीं देख सका चेहरा: लोगों ने कसा तंज – महिला सशक्तिकरण की बड़ी जीत

वीडियो पर संजय नाम के एक यूजर ने कमेंट किया कि क्या आपको यकीन है कि वह शकीला बेगम हैं या उनकी जगह कोई और?

दिल्ली एमसीडी चुनाव में जीत हासिल करने वाली एक बुर्के वाली पार्षद का वीडियो वायरल हो रहा है। दरअसल, दिल्ली एमसीडी चुनाव में तीन वार्डों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत हासिल की। इन्हीं में से एक सीलमपुर वार्ड नंबर 225 सीट से शकीला बेगम नाम की उम्मीदवार को कामयाबी मिली। जीत मिलने के बाद वह पत्रकारों के सामने आईं तो सिर से पाँव तक बुर्के में ढँकी हुई थी। यहाँ तक कि उनका चेहरा भी नहीं दिख है था। उन्होंने रिपोर्टरों को बाइट भी बुर्के में ही दी।

शकीला बेगम के बगल में बैठे शख्स उनकी मदद कर रहे थे। वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि जीत के बाद जब ‘नवभारत टाइम्स’ के पत्रकार ने शकीला बेगम से प्रतिक्रिया माँगी तो पहले वह कुछ समझ नहीं सकीं, फिर उन्होंने कहा, “सीलमपुर की जनता को मैं बहुत मुबारकबाद देती हूँ और दुआ करती हूँ कि हमारा ऐसा ही साथ हमेशा बना रहे। ऐसे ही हमें उनका प्यार मिलता रहे। लोगों के कर्ज तो उतर जाते हैं लेकिन हमारे इलाके की जनता ने जो अहसान किया है, वह कभी नहीं उतरेगा।”

शकीला ने लोगों के लिए काम करने का भरोसा दिलाया। शकीला बेगम जिस सीट से जीत कर आई हैं वह महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए आरक्षित की गई थी। जीत हासिल करने के बाद जिस तरह शकीला बेगम मीडिया के सामने पेश हुईं वह ट्विटर पर कौतूहल का विषय बन गया। पत्रकार स्वाति गोयल शर्मा ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “महिलाओं के लिए आरक्षित सीट सीलमपुर से विजयी उम्मीदवार शकीला बेगम, महिला सशक्तिकरण और हिजाब की बड़ी जीत”

महेश विक्रम हेगड़े नाम के यूजर ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “शकीला बेगम से मिलें जो निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में दिल्ली के सीलमपुर वार्ड से जीती हैं। कोई टिप्पणी नहीं।”

वीडियो पर संजय नाम के एक यूजर ने कमेंट किया कि क्या आपको यकीन है कि वह शकीला बेगम हैं या उनकी जगह कोई और? उन्होंने लिखा कि लोगों का प्रतिनिधित्व करने वाला राजनीतिक व्यक्ति जिसे लोगों ने चुना है वह लोगों को अपना चेहरा भी नहीं दिखा सकती। यूजर ने पूछा कि जब जनता के सामने अपना चेहरा दिखाने से भी डरते हैं तो सार्वजनिक जीवन में क्यों आते हैं?

वहीं कुछ यूजर्स तो मजाक उड़ाते भी नजर आए।

आपको बता दें कि शकीला बेगम तीसरी बार एमसीडी में पार्षद बनी हैं। 2017 के चुनाव में भी शकीला बेगम ने सीलमपुर से जीत हासिल की थी। इस साल उन्होंने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा की सीमा शर्मा को 4262 वोटों के अंतर से हराया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इंशाअल्लाह, राम मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है’: धमकी के बाद अयोध्या में अलर्ट जारी कर कड़ी की गई सुरक्षा, 2005 में...

"बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।"

‘हरियाणा से समझौता करो’: दिल्ली में जल संकट पर लड़ रहे I.N.D.I. गठबंधन में शामिल कॉन्ग्रेस और AAP, सुप्रीम कोर्ट में अपने कहे से...

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा है कि हिमाचल के पास जितना 'एक्स्ट्रा' पानी है, वो दिल्ली ही नहीं किसी भी अन्य राज्य को देने को तैयार हैं, लेकिन पहले दिल्ली सरकार हरियाणा के साथ सहमति बनाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -