Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीतिशिवसेना बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ के खिलाफ चाहती है FIR: ममता सरकार के...

शिवसेना बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ के खिलाफ चाहती है FIR: ममता सरकार के अपमान को लेकर की कार्रवाई की माँग

शिवसेना ने राज्य पुलिस को पत्र लिखकर प्रदेश के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के खिलाफ जाँच करने को कहा है। ममता बनर्जी की अगुवाई वाली राज्य सरकार को अपमानित करने का आरोप लगाते हुए शिवसेना ने गवर्नर के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की माँग की है।

शिवसेना की पश्चिम बंगाल इकाई ने राज्य पुलिस को पत्र लिखकर प्रदेश के राज्यपाल जगदीप धनखड़ के खिलाफ जाँच करने को कहा है। ममता बनर्जी की अगुवाई वाली राज्य सरकार को अपमानित करने का आरोप लगाते हुए शिवसेना ने गवर्नर के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की माँग की है।

पश्चिम बंगाल शिवसेना राज्य इकाई के महासचिव अशोक सरकार ने बिधाननगर पूर्व पुलिस स्टेशन के इंचार्ज अफसर को एक चिट्ठी लिखी है। पत्र में उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल के गवर्नर लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई राज्य सरकार के खिलाफ फर्जी अफवाहें फैला रहे हैं। धार्मिक कार्ड खेलते हुए शिवसेना नेता ने आगे कहा कि राज्यपाल द्वारा दिए गए कई बयानों से बंगालियों और बंगाल की संस्कृति का अपमान हो रहा है, जो उनके भावनाओं को आहत कर रहा है

उन्होंने राज्य पुलिस से आग्रह किया कि उक्त व्यक्ति (गवर्नर) के खिलाफ़ जाँच शुरू हो और उन्हें ऐसी गतिविधियों में लिप्त होने से मना किया जाए।

उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और सीएम ममता बनर्जी के बीच मतभेदों के बारे में सबको मालूम है। धनखड़ ने जिस दिन से राज्य के राज्यपाल का पद संभाला है, उस दिन से दोनों एक दूसरे के विरोध में हैं।

जगदीप धनखड़ ने ममता सरकार के प्रशासन के तहत राज्य पुलिस को राज्य में कानून और व्यवस्था के बारे में “शुतुरमुर्ग रुख” के लिए हमेशा लताड़ा है। वहीं पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस से मुकाबला करने में विफल और बढ़ते प्रसार को लेकर कई बार सरकार पर आरोप लगाया है। पश्चिम बंगाल में ममता सरकार के रुख को लेकर जगदीप धनखड़ कटाक्ष करने से कभी पीछे नहीं हटे।

हाल ही में, जगदीप धनखड़ ने अल-कायदा के पाकिस्तान-प्रायोजित मॉड्यूल से जुड़े नौ आतंकवादियों की गिरफ्तारी के बाद राज्य में कानून-व्यवस्था में “चिंताजनक गिरावट (alarming decline)” पर सवाल उठाए थे। उन्होंने राज्य पुलिस पर ममता सरकार की तुष्टिकरण की राजनीति से बेहद पक्षपातपूर्ण और सरकार के लिए राज्य के साथ छल करने का आरोप भी लगाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe