Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतितजिंदर बग्गा और नव-कॉन्ग्रेसी उदित राज में ट्विटर पर तीखी झड़प, याद दिलाए पुराने...

तजिंदर बग्गा और नव-कॉन्ग्रेसी उदित राज में ट्विटर पर तीखी झड़प, याद दिलाए पुराने दिन

गरियाने में राहुल गाँधी के प्रति स्वामिभक्ति दिखाने के साथ-साथ उदित राज ने खुद को भी अवसरवादी नहीं बल्कि बलिदानी और कमजोरों का मसीहा दिखाने की कोशिश की। पर उद्यमी और दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने उनकी कोशिश पर तीखा तंज कस दिया।

कहते हैं समुदाय विशेष में नए-नए पहुँचे लोग अपनी निष्ठा साबित करने के लिए प्याज का अत्यधिक ही सेवन करने लगते हैं। कुछ ऐसा ही मंजर आज ट्विटर पर देखने को मिला जब दलितों के स्वघोषित सर्वश्रेष्ठ नेता डॉ. उदित राज ने भाजपा को बुरा भला कहना शुरू कर दिया। उदित राज अभी-अभी भाजपा छोड़कर (घोषित रूप से, टिकट न मिलने की नाराजगी के कारण) कॉन्ग्रेस में शामिल हुए हैं, और इसलिए जाहिर तौर पर उनके लिए जरूरी था कि वे कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के प्रति ‘स्वामिभक्ति’ साबित करें- जो कि कॉन्ग्रेस के सुप्रीमो कल्चर का हिस्सा है।

मोदी और भाजपा को, जिनके साथ वह खाली एक हफ्ते पहले तक इस हद तक खड़े थे कि नाम में भी चौकीदार लगा लिया था, गरियाने में राहुल गाँधी के प्रति स्वामिभक्ति दिखाने के साथ-साथ उदित राज ने खुद को भी अवसरवादी नहीं बल्कि बलिदानी और कमजोरों का मसीहा दिखाने की कोशिश की। पर उद्यमी और दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने उनकी कोशिश पर तीखा तंज कस दिया।

तिलमिलाए उदित राज ने उन्हें छोटा मुँह बड़ी बात कहने वाला कहने के साथ यह जताने की भी कोशिश की कि जब भाजपा में बग्गा की कोई सुनवाई नहीं थी, तब उदित राज ने उन्हें ‘सहारा’ दिया था। यानि फिर से खुद को बग्गा की ‘गद्दारी’ का पीड़ित दिखाने की कोशिश। (जोकि अपने आप में हास्यास्पद है, यह देखते हुए कि खुद उदित राज ने एक टिकट कटते ही भाजपा को गच्चा दे दिया)

बग्गा भी पीछे नहीं रहे। उन्होंने भी उदित राज को कुछ पुराने दिन याद दिला दिए…

सोशल मीडिया ने लेने शुरू किए मजे

इस बीच सोशल मीडिया यूजर्स ने भी डॉ. उदित राज के मजे लेने शुरू कर दिए।

एक ने लिखा:

इसी बीच किसी ने उनके ही पुराने tweet उठा कर स्क्रीनशॉट चिपकाने शुरू कर दिए, जिनमें उदित राज ने कॉन्ग्रेस की घनघोर आलोचना की थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाप कम्युनिस्ट हो, सत्ता में वामपंथी हों तो प्यार न करें, प्यार हो जाए तो माँ न बने: अपने ही बच्चे के लिए भटक...

अजीत और अनुपमा को एक-दूसरे से प्यार हुआ और एक बच्चे का जन्म हुआ। कम्युनिस्ट पिता को ये रिश्ता और बच्चा दोनों नागवार थे। बच्चा इस जोड़े से छीन लिया गया...

नाम में खान इसलिए शाहरुख का बेटा निशाना: रिया चक्रवर्ती के लिए ‘महिला कार्ड’ खेलने वाली मीडिया का अब ‘मुस्लिम’ प्रलाप

'मिड डे' ने लिखा है कि शाहरुख़ खान ने भाजपा नेताओं के साथ सेल्फी नहीं डाली और जन्मदिन की शुभकामनाएँ नहीं दी, इसीलिए उनके बेटे के खिलाफ कार्रवाई हुई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe