Saturday, July 31, 2021
Homeविविध विषयमनोरंजनयूट्यूब से गायब हुआ 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' का ट्रेलर; अनुपम खेर ने किया...

यूट्यूब से गायब हुआ ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर; अनुपम खेर ने किया गुस्से का इजहार

अब तक लगभग चार करोड़ लोग यूट्यूब पर इसका ट्रेलर देख चुके हैं।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह की बायोपिक ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब ताजा मामला यूट्यूब से फिल्म के ट्रेलर के गायब हो जाने का है। बता दें कि फिल्म का ट्रेलर रिलीज होते ही कांग्रेस ने फिल्म के प्रदर्शन रोकने की धमकी दी थी। विरोध प्रदर्शनों के बाद फिल्म के अभिनेता अनुपम खेर ने यहाँ तक कहा था कि अगर डॉक्टर सिंह चाहते हैं तो उनके लिए फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग रखी जा सकती है।

अनुपम खेर ने ट्वीट कर के कहा कि विडियो स्ट्रीमिंग वेबसाइट यूट्यूब पर फिल्म के ट्रेलर का विडियो खोजने पर चोटी के 50 परिणामों में भी ट्रेलर नहीं आ रहा है। अनुपम खेर ने कहा;

“प्रिय यूट्यूब, मुझे कई सन्देश और कॉल मिल रहे हैं जिनमे कहा जा रहा है कि आपकी वेबसाइट पर अगर #TheAccidentalPrimeMinister का ट्रेलर टाइप किया जाता है तो यह दिखाई नहीं देता है या पचासवें स्थान पर है। हम कल नंबर एक पर ट्रेंड कर रहे थे। कृपया मदद करें।”

बता दें कि ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ इसी नाम से लिखी गई संजय बारू की किताब पर आधारित है। संजय पूर्व प्रधानमंत्री सिंह के मीडिया सलाहकार रहे हैं और उनके साथ करीब से काम किया है। इस फिल्म में संजय बारू का किरदार अक्षय खन्ना निभा रहे हैं। फिल्म में मनमोहन सिंह के किरदार में अनुपम खेर लोगों को खासे पसंद आ रहे हैं और अब तक लगभग चार करोड़ लोग यूट्यूब पर इसका ट्रेलर देख चुके हैं। इसे 11 जनवरी से सिनेमाघरों में प्रदर्शित किया जायेगा।

भारतीय जनता पार्टी ने भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस फिल्म के ट्रेलर को शेयर किया था जिसके बाद काफी सियासी बवाल मच गया था। उधर मध्य प्रदेश में कांग्रेस के छात्र संगठन के अध्यक्ष विपीन वानखेड़े ने सिनेमाघरों के मालिकों को चेतावानी देते हुए कहा है कि अगर उन्होंने फिल्म का प्रदर्शन किया तो वो परिणाम भुगतने के लिए भी तैयार रहें। उन्होंने कहा कि इसके लिए उन्हें होने वाले नुकसान के जिम्मेवार वो खुद होंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिवाजी से सीखा, 60 साल तक मुगलों को हराते रहे: यमुना से नर्मदा, चंबल से टोंस तक औरंगज़ेब से आज़ादी दिलाने वाले बुंदेले की...

उनके बारे में कहते हैं, "यमुना से नर्मदा तक और चम्बल नदी से टोंस तक महाराजा छत्रसाल का राज्य है। उनसे लड़ने का हौसला अब किसी में नहीं बचा।"

हिंदू मंदिरों की संपत्तियों का दूसरे धर्म के कार्यों में नहीं होगा उपयोग, कर्नाटक में HRCE ने लगाई रोक

कर्नाटक के हिन्दू रिलीजियस एण्ड चैरिटेबल एंडोवमेंट्स (HRCE) विभाग द्वारा जारी किए गए आदेश में यह कहा गया है कि हिन्दू मंदिर से प्राप्त किए गए फंड और संपत्तियों का उपयोग किसी भी तरह के गैर -हिन्दू कार्य अथवा गैर-हिन्दू संस्था के लिए नहीं किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe