यूट्यूब से गायब हुआ ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का ट्रेलर; अनुपम खेर ने किया गुस्से का इजहार

अब तक लगभग चार करोड़ लोग यूट्यूब पर इसका ट्रेलर देख चुके हैं।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह की बायोपिक ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब ताजा मामला यूट्यूब से फिल्म के ट्रेलर के गायब हो जाने का है। बता दें कि फिल्म का ट्रेलर रिलीज होते ही कांग्रेस ने फिल्म के प्रदर्शन रोकने की धमकी दी थी। विरोध प्रदर्शनों के बाद फिल्म के अभिनेता अनुपम खेर ने यहाँ तक कहा था कि अगर डॉक्टर सिंह चाहते हैं तो उनके लिए फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग रखी जा सकती है।

अनुपम खेर ने ट्वीट कर के कहा कि विडियो स्ट्रीमिंग वेबसाइट यूट्यूब पर फिल्म के ट्रेलर का विडियो खोजने पर चोटी के 50 परिणामों में भी ट्रेलर नहीं आ रहा है। अनुपम खेर ने कहा;

“प्रिय यूट्यूब, मुझे कई सन्देश और कॉल मिल रहे हैं जिनमे कहा जा रहा है कि आपकी वेबसाइट पर अगर #TheAccidentalPrimeMinister का ट्रेलर टाइप किया जाता है तो यह दिखाई नहीं देता है या पचासवें स्थान पर है। हम कल नंबर एक पर ट्रेंड कर रहे थे। कृपया मदद करें।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ इसी नाम से लिखी गई संजय बारू की किताब पर आधारित है। संजय पूर्व प्रधानमंत्री सिंह के मीडिया सलाहकार रहे हैं और उनके साथ करीब से काम किया है। इस फिल्म में संजय बारू का किरदार अक्षय खन्ना निभा रहे हैं। फिल्म में मनमोहन सिंह के किरदार में अनुपम खेर लोगों को खासे पसंद आ रहे हैं और अब तक लगभग चार करोड़ लोग यूट्यूब पर इसका ट्रेलर देख चुके हैं। इसे 11 जनवरी से सिनेमाघरों में प्रदर्शित किया जायेगा।

भारतीय जनता पार्टी ने भी अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस फिल्म के ट्रेलर को शेयर किया था जिसके बाद काफी सियासी बवाल मच गया था। उधर मध्य प्रदेश में कांग्रेस के छात्र संगठन के अध्यक्ष विपीन वानखेड़े ने सिनेमाघरों के मालिकों को चेतावानी देते हुए कहा है कि अगर उन्होंने फिल्म का प्रदर्शन किया तो वो परिणाम भुगतने के लिए भी तैयार रहें। उन्होंने कहा कि इसके लिए उन्हें होने वाले नुकसान के जिम्मेवार वो खुद होंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

महाराष्ट्र ओपिनियन पोल
देवेंद्र फडणवीस को 39% लोगों ने मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद माना है जबकि 6% लोग उद्धव ठाकरे के पक्ष में थे। बता दें कि उद्धव की शिवसेना भी राजग का हिस्सा है।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

92,030फैंसलाइक करें
15,511फॉलोवर्सफॉलो करें
98,500सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: