Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीति'कश्मीर हमारा है, हमें पाकिस्तान से वापस लेना चाहिए POK, अगर अब पाक से...

‘कश्मीर हमारा है, हमें पाकिस्तान से वापस लेना चाहिए POK, अगर अब पाक से बात होगी तो सिर्फ़ उसी पर’

"हम किसी पर हमला नहीं करते, लेकिन जो हम पर हमला करेगा, हम उसे मुँहतोड़ जवाब देंगे, हम युद्धोन्मादी नहीं हैं। ना हम किसी के मामले में दखल देते हैं और ना चाहते हैं हमारे आंतरिक मामले में दखल हो।"

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बाद POK को वापस लेने पर उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू ने हुँकार भरी है। उन्होंने कहा है कि अब पाकिस्तान से अगर बात होगी तो सिर्फ़ पीओके पर।

उन्होंने विशाखापत्तनम में नौसेना विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला के स्वर्ण जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताया और कहा कि हम शांतिप्रिय राष्ट्र हैं, हम युद्ध नहीं चाहते।

उपराष्ट्रपति ने इस दौरान कहा कि पाकिस्तान से अब केवल पीओके पर बात होगी। इसके अलावा पाकिस्तान से किसी भी तरह की बातचीत नहीं होगी। उन्होंने कहा, “हम किसी पर हमला नहीं करते, लेकिन जो हम पर हमला करेगा, हम उसे मुँहतोड़ जवाब देंगे, हम युद्धोन्मादी नहीं हैं। ना हम किसी के मामले में दखल देते हैं और ना चाहते हैं हमारे आंतरिक मामले में दखल हो।

गौरतलब है कि इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी हरियाणा में 18 अगस्त को पाकिस्तान को उसकी हरकतों पर चेतावनी दे चुके हैं। उन्होंने कहा था भारत के खिलाफ पाकिस्तान आतंकवाद फैलाना बंद कर दे, नहीं तो हम किसी भी तरह के हालात से निपटने के लिए तैयार हैं। इसके अलावा सदन में अमित शाह भी बयान दे चुके हैं कि POK कश्मीर का हिस्सा है, उसे पाने के लिए जान दे देंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe