Thursday, May 23, 2024
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीबच्चे नहीं होने के पीछे भारतीय मर्दों के ये 8 Genes हैं जिम्मेदार, इनके...

बच्चे नहीं होने के पीछे भारतीय मर्दों के ये 8 Genes हैं जिम्मेदार, इनके कारण ही कम हो रहे शुक्राणु: हैदराबाद में वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

यह रिसर्च वैज्ञानिक पत्रिका ह्यूमन मॉलिक्यूलर जेनेटिक्स (Human Molecular Genetics) में प्रकाशित हुई है।

हैदराबाद स्थित ‘सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (CCMB)’ के वैज्ञानिकों ने उन आठ जीन (Genes) की पहचान की है, जो भारतीय पुरुषों में बच्चे पैदा करने की क्षमता ख़त्म करने के लिए जिम्मेदार हैं। शोधकर्ताओं ने इन जीनों में उत्परिवर्तन (Mutations) पाया है, जिससे भारतीय पुरुषों के वीर्य में शुक्राणु कम हो रहे हैं। यह रिसर्च वैज्ञानिक पत्रिका ह्यूमन मॉलिक्यूलर जेनेटिक्स (Human Molecular Genetics) में प्रकाशित हुई है। पहचाने गए जीन नए हैं और अब तक भारतीय पुरुषों के प्रजनन में कमी से जुड़े नहीं पाए गए थे।

हैदराबाद की रिसर्च टीम सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (CCMB), सेंटर फॉर डीएनए फिंगरप्रिंटिंग एंड डायग्नोस्टिक्स (CDFD) और ममता फर्टिलिटी हॉस्पिटल (Mamata Fertility Hospital) से ली गई थी। इन्होंने आठ जीन BRDT, CETN1, CATSPERD, GMCL1, SPATA6, TSSK4, TSKS और ZNF का अध्ययन किया। टीम ने जीन CETN1 में उत्परिवर्तन का अध्ययन किया, ताकि यह पता लगाया जा सके कि यह शुक्राणु को कैसे प्रभावित करता है। ये जीन उत्परिवर्तन कोशिकाओं के विभाजन को रोकता है और इस प्रकार वीर्य में शुक्राणु कम होने लगते हैं।

सीडीएफडी के निदेशक डॉ. के थंगराज (Dr K Thangaraj), जो सीसीएमबी के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक भी हैं, उन्होंने कहा कि रिसर्च में जिन 8 जीन की पहचान की गई है, वे पुरुषों की प्रजनन क्षमता ख़त्म होने के लिए जिम्मेदार हैं। देश में बच्चे पैदा न होने के आधे मामले पुरुषों में कई समस्याओं के कारण हैं। वह आगे कहते हैं, “यह मानना गलत है कि एक दंपति केवल महिला के कारण बच्चे नहीं पैदा कर सकता है।”

वहीं, सीसीएमबी के निदेशक डॉ विनय कुमार नंदीकूरी ने कहा कि यह रिसर्च बताती है कि ये जीन ‘Infertility’ की समस्या वाले पुरुषों में Diagnostic Markers विकसित करते हैं। है। सीसीएमबी के वैज्ञानिकों ने अपनी पहले की गई रिसर्च में पाया था कि इस समस्या वाले 38% पुरुषों में स्पेसिफिक कारण गायब हैं। या फिर उनके वाई-क्रोमोसोम में असामान्यताएँ या उनके माइटोकॉन्ड्रियल और ऑटोसोमल जीन में उत्परिवर्तन हैं। लेकिन, ताजा अध्ययन केवल पुरुषों के प्रजनन क्षमता की समस्याओं के कारणों को ध्यान में रखते हुए किया गया है। इस अध्ययन में आठ नए जीन पाए गए हैं, जो पुरुषों में प्रजनन क्षमता की गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार हैं।

अध्ययन के प्रमुख लेखक डॉ सुधाकर दिगुमर्थी, सीसीएमबी के पूर्व पीएचडी छात्र और अब मुंबई में आईसीएमआर-नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन रिप्रोडक्टिव एंड चाइल्ड हेल्थ के वैज्ञानिक ने कहा, “हमने पहले सभी जीनों (लगभग 30,000) के बारे में आवश्यक जानकारी जुटाई। इसके बाद 47 ‘Infertile’ पुरुषों में अगली पीढ़ी के अनुक्रमण (Generation Sequencing) का प्रयोग किया। तब जाकर हमने भारत के विभिन्न हिस्सों के लगभग 1500 ऐसे पुरुषों में पहचाने गए आनुवंशिक परिवर्तनों की पुष्टि की।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बाबरी का पक्षकार राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आ गया, लेकिन कॉन्ग्रेस ने बहिष्कार किया’: बोले PM मोदी – इन्होंने भारतीयों पर मढ़ा...

प्रधानमंत्री ने स्पष्ट ऐलान किया कि अब यह देश न आँख झुकाकर बात करेगा और न ही आँख उठाकर बात करेगा, यह देश अब आँख मिलाकर बात करेगा।

कॉन्ग्रेस नेता को ED से राहत, खालिस्तानियों को जमानत… जानिए कौन हैं हिन्दुओं पर हमले के 18 इस्लामी आरोपितों को छोड़ने वाले HC जज...

नवंबर 2023 में जब राजस्थान में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी चरम पर थी, जब जस्टिस फरजंद अली ने कॉन्ग्रेस उम्मीदवार मेवाराम जैन को ED से राहत दी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -