Wednesday, September 29, 2021
Homeविविध विषयअन्यअच्छी ख़बर: वैश्विक स्तर पर भारत सबसे भरोसेमंद राष्ट्रों में से एक

अच्छी ख़बर: वैश्विक स्तर पर भारत सबसे भरोसेमंद राष्ट्रों में से एक

भारत उन देशों में शामिल है, जिस पर सरकार, व्यापार, एनजीओ और मीडिया के मामले में वैश्विक स्तर पर यकीन किया जाता है।

हमारे भारत देश को वैश्विक स्तर पर सरकार,व्यापार, एनजीओ और मीडिया के मामले में सबसे अधिक विश्वस्नीय माना गया। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि 2019 की आई एक रिपोर्ट में यह बात है।

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की बैठक से पहले 2019 का एडेलमैन ट्रस्ट बैरोमीटर का ग्लोबल ट्रस्ट इंडेक्स 21 जनवरी 2019 को जारी किया गया है। जिसके अनुसार भारत उन देशों में शामिल है, जिस पर सरकार, व्यापार, एनजीओ और मीडिया के मामले में वैश्विक स्तर पर यकीन किया जाता है। लेकिन, इसी रिपोर्ट के अनुसार देश के ब्रांड को सबसे कम विश्वसनीय माना जाता है। 65 पेज की इस रिपोर्ट को आप यहाँ पढ़ सकते हैं।

इस रिपोर्ट में भारत को वैश्विक विश्वास सूचांक में 3 प्वॉइंट की बढ़ोतरी मिली है। जबकि जागरूक जनता और सामान्य जनसंख्या क्षेत्रों में चीन विश्वास सूचांक में सबसे ऊपर है। वहीं भारत जागरूक जनता श्रेणी में दूसरे स्थान पर है और सामान्य जनसंख्या में तीसरे स्थान पर है।

बता दें कि यह सूचांक एनजीओ, व्यापार,सरकार और मीडिया में विश्वास का औसत प्रतिशत है। इन परिणामों के लिए 27 बाज़ारों में ऑनलाइन सर्वेक्षण कराया गया था, जिसमें 33,000 लोगों ने उत्तर दिया। ये कार्य 19 अक्टूबर 2018 से 16 नवंबर 2018 संचालित किया गया था।

ऐसे बाजार जहाँ कंपनियों के मुख्यालय हैं, सबसे ज्यादा विश्वस्नीय कंपनियाँ स्विट्जरलैंड,जर्मनी और कनाडा से हैं। इन देशों के ब्रांडों को विश्वास के मामले में 70 अंक दिए गए हैं जबकि जापान को इसमें 69 अंक प्राप्त हुए हैं।

इसी रिपोर्ट के अनुसार, भारत, मैक्सिको और ब्राजील में जिन कंपनियों के मुख्यालय हैं, वे सबसे कम विश्वसनीय हैं। इसके बाद चीन और दक्षिण कोरिया का स्थान आता है। बता दें कि भारत और ब्राजील का स्कोर 40 प्रतिशत है जबकि मैक्सिको और चीन का स्कोर क्रमशः 36 प्रतिशत और 41 प्रतिशत है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,032FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe