Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'भारतीय रास्ते में आने वाले कुत्ते' और PM मोदी को अपशब्द: जर्मनी में पाकिस्तानियों...

‘भारतीय रास्ते में आने वाले कुत्ते’ और PM मोदी को अपशब्द: जर्मनी में पाकिस्तानियों ने खालिस्तान के लिए किया प्रदर्शन

सिख कट्टरवादियों की खालिस्तान माँग को पाकिस्तान हवा दे रहा है। इसी कारण से जर्मनी में पाकिस्तानी कट्टरपंथी 'खालिस्तान ज़िंदाबाद' और भारत-विरोधी नारा लगा रहे हैं। जिसके विरोध में एक अकेले भारतीय ने कहा - "बाप, बाप होता है। बेटा, बेटा होता है।"

जर्मनी के प्रान्त हेसेन के सबसे बड़े शहर फ्रैंकफर्ट में भारत विरोधी नारे लगाए गए। साथ ही भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर अपशब्द भी कहे गए। ट्विटर पर वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि वहाँ जमे पाकिस्तानी कट्टरपंथी ‘खालिस्तान ज़िंदाबाद’ और भारत-विरोधी नारा लगा रहे हैं और भारत को खंडित कर के सिखों के लिए अलग मुल्क की माँग कर रहे हैं। फ्रैंकफुर्ट के इस वीडियो की लोग आलोचना कर रहे हैं।

जर्मनी में भारतीय मूल के सिविल इंजीनियर प्रशांत वंगुरलेरकर ने ट्विटर पर इस वीडियो को शेयर किया। इसमें एक व्यक्ति हाथ में तिरंगा झंडा लिए हुए है और उधर खालिस्तानी गिरोह विरोध प्रदर्शन कर रहा है। उनका भारत विरोधी रवैया देख कर ये शख्स कहता है, “बाप, बाप होता है। बेटा, बेटा होता है।” गौर करने लायक बात ये है कि खालिस्तान के लिए हो रहे इस प्रदर्शन में पाकिस्तानी झंडे लहरा रहे थे।

वीडियो में पाकिस्तानी झंडा लिए लोगों को देखा जा सकता है और सिखों की संख्या न के बराबर है। इससे साफ़ पता चलता है कि खालिस्तान सिख कट्टरवादियों की माँग कम है और पाकिस्तान इसे ज्यादा हवा दे रहा है। साथ ही इस विरोध प्रदर्शन में ‘बन के रहेगा पाकिस्तान’ नारा भी लगाया जा रहा है। साथ ही इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भी ‘हाय-हाय’ के नारे लगाए जा रहे हैं। अपशब्द भी कहे गए।

फ्रैंकफर्ट के इस वीडियो में देखा जा सकता है कि जैसे ही ये पाकिस्तानी एक भारतीय को वहाँ तिरंगा लिए देखते हैं, वो उग्र हो जाते हैं और भला-बुरा कहने लगते हैं। साथ ही नारेबाजी भी तेज हो जाती है। एक पाकिस्तानी बुजुर्ग उग्र होकर रेलिंग पर चढ़ने का प्रयास करता है, जिसे पुलिस द्वारा हटाया जाता है। उन्होंने दावा किया कि वो सच्चाई पर चलते हैं और साथ ही भारतीयों के लिए ‘रास्ते में आने वाले कुत्ते’ जैसे शब्दों का प्रयोग किया।

इससे पहले पंजाब के मोगा में स्वतंत्रता दिवस समारोह से पहले खालिस्तानी तत्वों ने मुख्य प्रशासनिक भवन के ऊपर ही खालिस्तान का झंडा फहरा दिया था। इतना ही नहीं, खालिस्तान समर्थकों ने वहाँ लगे तिरंगे झंडे को भी हटा दिया था। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस घटना को सख्ती से लिया और जिला प्रशासन को ऐसा करने वाले असामाजिक तत्वों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

औरतों का चीरहरण, तोड़फोड़, किडनैपिंग, हत्या: बंगाल हिंसा पर NHRC की रिपोर्ट से निकली एक और भयावह कहानी

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने 14 जुलाई को बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा पर अपनी अंतिम रिपोर्ट कलकत्ता हाईकोर्ट को सौंपी थी।

विधानसभा से मंत्री का ही वॉकआउट: छत्तीसगढ़ कॉन्ग्रेस की लड़ाई में नया मोड़, MLA ने कहा था- मेरी हत्या करा बनना चाहते हैं CM

अपनी ही सरकार के रवैये से आहत होकर छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री TS सिंह देव सदन से वॉकआउट कर गए। उन पर आदिवासी विधायक ने हत्या के प्रयास का आरोप लगाया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe