Tuesday, July 27, 2021
Homeव्हाट दी फ*फेसबुक का 'haha' इस्लाम में हराम: मौलाना अहमदुल्‍लाह ने जारी किया फतवा, वीडियो को...

फेसबुक का ‘haha’ इस्लाम में हराम: मौलाना अहमदुल्‍लाह ने जारी किया फतवा, वीडियो को 20 लाख व्यूज

“...इरादा अगर उपहास करना, ताना मारना या सोशल मीडिया पर टीका टिप्‍पणी करना है तो यह इस्‍लाम में पूरी तरह से हराम है। अगर आप एक मुस्लिम को आहत करेंगे तो वह ऐसी भाषा का इस्‍तेमाल करेगा, जिसके बारे में आपने सोचा नहीं होगा।”

बांग्‍लादेश के एक चर्चित मौलाना ने फेसबुक के ‘हाहा’ इमोजी के खिलाफ फतवा जारी किया है। फेसबुक और यूट्यूब पर 30 लाख से ज्‍यादा फॉलोवर वाले मौलाना अहमदुल्‍लाह ने फेसबुक पर लोगों का मजाक उड़ाने के लिए ‘हाहा’ इमोजी इस्‍तेमाल करने के खिलाफ फतवा जारी किया है। मौलाना अहमदुल्‍लाह अक्‍सर टीवी पर आते हैं और मुस्लिम बहुल बांग्‍लादेश में धार्मिक विषयों पर बहस करते हैं।

पिछले दिनों मौलाना ने तीन मिनट का एक वीडियो पोस्‍ट किया और फेसबुक पर लोगों के उपहास उड़ाने का जिक्र किया। इसके बाद उन्‍होंने फतवा जारी कर दिया। साथ ही यह भी बताया कि यह किस तरह से मुस्लिमों के लिए ‘हराम’ है। अहमदुल्‍ला ने कहा, “आजकल हम फेसबुक के हाहा इमोजी का इस्‍तेमाल लोगों का मजाक उड़ाने के लिए करते हैं।” उनके इस वीडियो को अब तक 20 लाख बार देखा जा चुका है।

‘यह इस्‍लाम में पूरी तरह से हराम’

मौलाना अहमदुल्‍लाह ने कहा, “अगर आप केवल मजाक के लिए हाहा इमोजी का इस्‍तेमाल करते हैं और कंटेंट पोस्‍ट करने वाली की मंशा भी यही है तो यह ठीक है। लेकिन अगर आपकी प्रतिक्रिया का इरादा पोस्‍ट करने वाले का उपहास उड़ाना, ताना मारना या सोशल मीडिया पर टीका टिप्‍पणी करना है तो यह इस्‍लाम में पूरी तरह से हराम है। अल्‍लाह के लिए मैं आपसे अनुरोध करूँगा कि इस काम से बचें। किसी का मजाक उड़ाने के लिए हाहा इमोजी का इस्‍तेमाल नहीं करें। अगर आप एक मुस्लिम को आहत करेंगे तो वह ऐसी भाषा का इस्‍तेमाल करेगा, जिसके बारे में आपने सोचा नहीं होगा।”

मौलाना के इस वीडियो पर उनके हजारों की तादाद में फॉलोवर्स ने प्रतिक्रिया दी है। ज्‍यादातर लोगों ने इस पर सकारात्‍मक टिप्‍पणी की है। वहीं सैकड़ों की तादाद में ऐसे भी हैं, जिन्‍होंने ‘हाहा’ इमोजी बनाकर इस फतवे का मजाक भी उड़ाया। अहमदुल्‍लाह बांग्‍लादेश की नई पीढ़ी के मौलाना हैं, जो इंटरनेट पर काफी सक्रिय हैं। उनके एक-एक वीडियो काफी लोकप्रिय हैं और उन पर लाखों व्‍यूज आते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe