Friday, July 1, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयओसामा के सहयोगी जिहादी के साथ पकड़ा गया पाकिस्तानी PM इमरान खान का सलाहकार

ओसामा के सहयोगी जिहादी के साथ पकड़ा गया पाकिस्तानी PM इमरान खान का सलाहकार

खलील एबटाबाद में लादेन के मारे जाने के पहले तक उसके सम्पर्क में था। इसके अलावा खलील वॉल स्ट्रीट जर्नल के पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या में भी लिप्त रहा था।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के सलाहकार फिरदौस आशिक अवान को हरकत-उल-मुजाहिदीन के संस्थापक और जिहादी मौलाना फज़लुर रहमान खलील के साथ मंच साझा करते हुए पकड़ा गया। अवान खलील के साथ इस्लामाबाद में 16 सितंबर, 2019 को हुई ऑल पार्टी कश्मीर कॉन्फ़्रेंस में शिरकत कर रहे थे

लादेन के सम्पर्क में था, डेनियल पर्ल हत्याकांड में संलिप्त

अवान सूचना मामलों पर इमरान खान के विशेष सलाहकार हैं। उन्हें जिस फज़लुर रहमान खलील के साथ देखा गया, वह न केवल हरकत-उल-मुजाहिदीन को बनाने वाला सरगना है, बल्कि पूर्व नंबर 1 आतंकी ओसामा बिन लादेन का भी करीबी रहा है। बताते चलें कि ऐसा माना जाता है कि खलील एबटाबाद में लादेन के मारे जाने के पहले तक उसके सम्पर्क में था। इसके अलावा खलील वॉल स्ट्रीट जर्नल के पत्रकार डेनियल पर्ल की हत्या में भी लिप्त रहा था

FATF को जवाब देना होगा मुश्किल

पाकिस्तान के लिए इस मामले के चलते अब Financial Action Task Force (FATF) को जवाब देना और ब्लैक लिस्ट होने से बचना और भी मुश्किल हो जाएगा। पहले ही पाकिस्तान FATF की ग्रे-लिस्ट में है, यानि जिहादियों को पैसा देने वाले ‘संदिग्धों’ की सूची में है, और उसके पास केवल अक्टूबर तक का समय है, वैश्विक समुदाय को यकीन दिलाने के लिए कि वह जिहाद के लिए पैसा देने वाले सभी स्रोतों और माध्यमों पर लगाम लगा चुका है। अगर वह ऐसा करने में नाकाम रहता है, तो उसके ब्लैकलिस्ट होने के बाद कोई देश या वैश्विक आर्थिक संस्थान उसे आर्थिक सहायता नहीं दे पाएगा। FATF का एशिया प्रशांत समूह (APG) उसे पहले ही ‘ब्लैक लिस्ट’ कर चुकी है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसी को ईद तक तो किसी को 17 जुलाई तक मारने की धमकी, पटाखों का जश्न तो कहीं सिर तन से जुदा के स्टेटस:...

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल के कत्ल के बाद कहीं पर फोड़े गए पटाखे तो कहीं पर हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता को मिली कत्ल की धमकी।

कन्हैया, उमेश, किशन… हत्या का एक जैसा पैटर्न, लिंक की पड़ताल कर रही NIA: रिपोर्ट में बताया- PFI कनेक्शन की भी हो रही जाँच

उदयपुर में कन्हैया लाल को काटा गया। अमरावती में उमेश कोल्हे तो अहमदाबाद में किशन भरवाड की हत्या की गई। बताया जा रहा है कि एनआईए इनके बीच लिंक की पड़ताल कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,558FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe