Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइमरान खान का 'न्यू पाकिस्तान': PM ऑफिस की बत्ती होगी गुल, बिजली विभाग ने...

इमरान खान का ‘न्यू पाकिस्तान’: PM ऑफिस की बत्ती होगी गुल, बिजली विभाग ने भेजा नोटिस

पाक प्रधानमंत्री के सेक्रेटेरिएट ने करोड़ों का बिजली बिल बकाया रखा है। इस्लामाबाद इलेक्ट्रिक सप्लाई कम्पनी ने सेक्रेटेरिएट को नोटिस जारी कर बकाये बिल का भुगतान करने को कहा है।

कुछ दिनों पहले ख़बर आई थी कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान प्रधानमंत्री आवास को निकाह का मंडप के रूप में प्रयोग कर रहे हैं। एक शादी समारोह की तस्वीर भी सामने आई थी। कहा गया था कि ऐसा वे सरकारी खजाने में रुपए डालने के लिए कर रहे हैं। अब नई ख़बर आई है, जो पाकिस्तान के दिवालियेपन को उजागर करती दिख रही है। परमाणु युद्ध की धमकी देने वाले और मिसाइल परीक्षण की तैयारी कर रहे पाक पीएम बिजली बिल भी नहीं चुका रहे हैं।

पाक प्रधानमंत्री के सेक्रेटेरिएट ने करोड़ों का बिजली बिल बकाया रखा है। बुधवार (अगस्त 28, 2019) को इस्लामाबाद इलेक्ट्रिक सप्लाई कम्पनी ने सेक्रेटेरिएट को नोटिस जारी कर बकाये बिल का भुगतान करने को कहा है। ऐसा नहीं करने पर बिजली काटने की चेतावनी दी गई है।

बिजली कम्पनी द्वारा प्रधानमंत्री सेक्रेटरिएट को कई बार नोटिस भेजा गया लेकिन फिर भी वे बकाया चुकाने में नाकाम रहे हैं। पाकिस्तान में बिजली की समस्या अब और गहरी हो गई है। गर्मी के दिनों में भी पाक के बड़े महानगरों तक में बिजली गुल होना आम बात है। पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति बदहाली के दौर से गुज़र रही है। पाकिस्तानी मंत्री लंदन में जाकर अण्डों से पिटते हैं और अपने देश पहुँच कर युद्ध की तारीख का ऐलान करते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -