Wednesday, August 10, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'जिहादी दुल्हन' शमीमा बेगम को सता रहा है डर, जेल से निकालने के लिए...

‘जिहादी दुल्हन’ शमीमा बेगम को सता रहा है डर, जेल से निकालने के लिए वकीलों से लगाई गुहार: 15 साल की उम्र में भागी थी सीरिया

बांग्लादेशी मूल की शमीमा बेगम का जन्म लंदन में हुआ था और 2014 में इंग्लैंड से भागकर सीरिया चली गई थी और आतंकी संगठन आईएसआईएस में शामिल हो गई थी। जिहाद के लिए भागने वाली अब 22 साल की हो चुकी शमीमा बेगम की उम्र उस समय केवल 15 साल थी।

दुनिया भर में ‘जिहादी दुल्हन’ के नाम से कुख्यात और आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) में कभी शामिल रही इंग्लैंड की शमीमा बेगम एक बार फिर सुर्खियों में है। शमीमा बेगम का कहना है कि आईएस के आतंकियों द्वारा जेल शिविर में उसके तंबू में आग लगाने की कोशिश करने के बाद उसे अपनी जान का डर सता रहा है।

पिछले हफ्ते आगजनी के प्रयास के बाद बेगम ने खुद को जेल से बाहर निकालने के लिए वकीलों से मदद की गुहार लगाई है। ‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, आशंका जताई जा रही है कि जेल से निकलने के लिए कई बार झूठ बोलने वाली पूर्व जेहादी बेगम अब एक और झूठ को बढ़ा-चढ़ाकर सबके सामने पेश कर रही है।

इससे पहले सितंबर में शमीमा बेगम ने ISIS से तौबा करते हुए कहा था कि उसे अपने किए ​गए कामों पर पछतावा हो रहा है। उसने ‘गुड मार्निंग ब्रिटेन’ शो के लाइव इंटरव्यू में कहा था कि वह दहशतगर्दों के पास जाने की बजाए मरना पसंद करेगी। शमीमा ने ब्रिटेन के लोगों से माफी माँगते हुए यह भी कहा कि वह अपने देश आकर आतंकवाद के सभी मामलों का सामना करने को तैयार है। कभी लंदन के लोगों को मारने की कसम खाने वाली शमीमा बेगम सीरिया के अल-रोज जेल शिविर में बंद है और वह लंदन वापस लौटना चाहती है।

बता दें कि बांग्लादेशी मूल की शमीमा बेगम का जन्म लंदन में हुआ था और 2014 में इंग्लैंड से भागकर सीरिया चली गई थी और आतंकी संगठन आईएसआईएस में शामिल हो गई थी। जिहाद के लिए भागने वाली अब 22 साल की हो चुकी शमीमा बेगम की उम्र उस समय केवल 15 साल थी। उसने वहाँ जाकर ISIS के एक आतंकी से निकाह कर लिया था और इस शादी से उसे 2 बच्चे भी हुए।

रिपोर्ट के अनुसार एक विशेषज्ञ ने कहा कि शमीमा बेगम ‘वेस्टर्नाइज्ड’ दिखने की कोशिश कर रही हैं। शमीमा बेगम ने आईटीवी प्रसारक के ‘गुड मार्निंग ब्रिटेन’ शो में कहा, ”मैं ब्रिटेन के लोगों से माफी माँगती हूँ। मैंने बहुत ही कम उम्र में एक बड़ी गलती की थी और उस उम्र के अधिकतर बच्चों को पता भी नहीं होता है कि उन्हें अपने जीवन में क्या करना है। इस उम्र में अधिकतर बच्चे भ्रमित हो जाते हैं और वे आसानी से इस तरह की चीजों के झाँसे में आकर आसानी से बेवकूफ बन जाते हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जजों से जुड़ी सूचनाओं पर न्यायपालिका का पहराः हाई कोर्ट ने खुद याचिका दायर करवाई, फिर सुनवाई कर खुद को ही दे दी राहत

पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने केंद्रीय सूचना आयोग के उस आदेश पर रोक लगा दी है, जिसमें जजों के खिलाफ आई शिकायतों के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाने को कहा गया था।

जिस पालघर में पीट-पीटकर हुई थी साधुओं की हत्या, वहाँ अब ST महिला के घर में घुसे ईसाई मिशनरी के एजेंट: धर्मांतरण का बना...

महाराष्ट्र के पालघर में ईसाई मिशनरी के एजेंटों ने एक वनवासी महिला के घर में घुस कर उसके ऊपर धर्मांतरण का दबाव बनाया। जब वो नहीं मानी तो इन लोगों ने उसे धमकियाँ दीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,697FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe