Wednesday, September 28, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय26 जनवरी को खालिस्तानी झंडा फहराने पर आतंकी समूह SFJ देगा $2.5 लाख: विदेशी...

26 जनवरी को खालिस्तानी झंडा फहराने पर आतंकी समूह SFJ देगा $2.5 लाख: विदेशी नागरिकता का भी किसानों को दिया लालच

SFJ पंजाब के किसानों से चाहता है कि वह अपना विरोध दर्ज करवाएँ लेकिन 26 जनवरी को एक बार खालिस्तान का झंडा भी फहरा दें। आतंकी समूह का कहना है कि जो कोई भी ऐसा करेगा उसे कानूनी सहायता दी जाएगी और यूके में बतौर शरणार्थी रहने का प्रबंध भी किया जाएगा।

किसान आंदोलन की आड़ में खालिस्तानियों ने खुल कर ऐलान कर दिया है कि 26 जनवरी 2021 को जो कोई भी खालिस्तान का झंडा इंडिया गेट पर लहराएगा, उसे $2.5 लाख से नवाजा जाएगा। स्वतंत्र पत्रकार आदित्य राज कौल ने अपने ट्विटर पर सिख फॉर जस्टिस नाम के खालिस्तानी आतंकी समूह के बयान को साझा करते हुए इस बात की जानकारी दी।

उन्होंने लिखा, “सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) ने एक बयान में सिंघू सीमा पर प्रदर्शन कर रहे पंजाब के किसानों से 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड को बाधित करने के लिए इंडिया गेट पर खालिस्तान का झंडा उठा कर विरोध प्रदर्शन करने को कहा है। SFJ ने इसके लिए $ 250,000 के इनाम का ऐलान किया है।”

कौल द्वारा शेयर किए गए बयान में देख सकते हैं कि SFJ पंजाब के किसानों से चाहता है कि वह अपना विरोध दर्ज करवाएँ लेकिन 26 जनवरी को एक बार खालिस्तान का झंडा भी फहरा दें। आतंकी समूह का कहना है कि जो कोई भी ऐसा करेगा उसे कानूनी सहायता दी जाएगी और यूके में बतौर शरणार्थी रहने का प्रबंध भी किया जाएगा।

बयान में किसानों को यह कहकर भी लालच दी गई है कि वह चाहें तो पर्मानेंट अपने परिवार के साथ या जो कोई भी राजनीतिक मत जैसे खालिस्तानी झंडे को फहराहने का समर्थन करने के कारण अत्याचार का शिकार हो रहा है, उन सबके साथ वहाँ बस सकता है। 

इस बयान में एसएफजे के जनरल काउंसल गुरपतवंत सिंह पन्नू की वीडियो मैसेज का उल्लेख है जिसमें उसने पंजाब किसानों के प्रदर्शन और खालिस्तान के जनमत संग्रह को शांतिपूर्ण कैंपेन कहा है। साथ ही ये भी कहा है कि भारत सरकार की ओर से अनदेखी, इन्हें दबाने की प्रक्रिया, इन्हें हिंसा में बदल सकती है।

गौरतलब है कि एक ओर जहाँ खालिस्तानी समूह ने 11 जनवरी 2021 को बयान जारी करके अपना झंडा फहराहने की बात कही है। वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार खालिस्तानियों की प्रदर्शन में घुसपैठ को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा दायर कर सकती है। मंगलवार को सरकार की ओर से कोर्ट को बताया गया कि उन्हें खूफिया ब्यूरो से खबर मिली है कि खालिस्तानी इस प्रदर्शन में शामिल हो रहे हैं।

बता दें कि SFJ जैसे समूह किसान आंदोलन के प्रदर्शनकारियों को राष्ट्रविरोधी गतिविधियों की ओर आकर्षित करने में लगे हुए हैं। हालिया बयान से पता चलता है कि उन्हें पैसे और विदेशी नागरिकता का लोभ दिया जा रहा है। आतंकी समूह उनसे कह रहा है कि दुनिया के कानून आपके साथ हैं। यदि भारत सरकार आप पर उंगली उठाती है, तो आपको और आपके परिवारों को संयुक्त राष्ट्र कानूनों के तहत विदेशों में लाया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ब्रह्मांड के केंद्र’ में भारत माता की समृद्धि के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने की प्रार्थना, मेघालय के इसी जगह पर है ‘स्वर्णिम...

सेंग खासी एक सामाजिक-सांस्कृतिक और धार्मिक संगठन है जिसका गठन 23 नवंबर, 1899 को 16 युवकों ने खासी संस्कृति व परंपरा के संरक्षण हेतु किया था।

अब पलटा लेस्टर हिंसा के लिए हिन्दुओं को जिम्मेदार ठहराने वाला BBC, फिर भी जारी रखी मुस्लिम भीड़ को बचाने की कोशिश: नहीं ला...

बीबीसी ने अपनी पिछली रिपोर्टों के लिए कोई माफी नहीं माँगी है, जिसमें उसने हिंदुओं पर झूठा आरोप लगाया था कि हिंसा के लिए वे जिम्मेदार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,688FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe