Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इमरान खान अच्छा आदमी नहीं, उसे घर मत आने दो': तलाक पर बुशरा बीबी...

‘इमरान खान अच्छा आदमी नहीं, उसे घर मत आने दो’: तलाक पर बुशरा बीबी के पूर्व शौहर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी

मानेका ने इमरान खान पर आरोप लगाया कि वो उनकी रजामंदी के बगैर उनके घर आते थे और वह उनके साथ उस वक्त उनकी बीवी रही बुशरा की मुलाकात से खुश नहीं थे।

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री और तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) सुप्रीमो इमरान खान पर पत्नी बुशरा बीबी के पहले पति खावर फरीद मानेका ने सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। मानेका का आरोप है कि PTI चीफ ने उनकी शादीशुदा खुशहाल जिंदगी बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बता दें कि क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान का यह तीसरा निकाह था।

जियो न्यूज आज शाहजेब खानजादा शो में मानेका ने सोमवार (20 नवंबर, 2023) को ये खुलासे किए हैं। उनका दावा है कि इमरान ने “पीर मुरीदी” की आड़ में बुशरा बीबी के साथ उनकी शादीशुदा जिंदगी तबाह कर दी

उन्होंने कहा, “हमारी शादी 28 साल तक चली थी। हमारी शादीशुदा जिंदगी बहुत खुशहाल थी और इमरान खान ने पीर-मुरीदी (एक दीनी उस्ताद और मुरीद के बीच का रिश्ता) की आड़ में इसे बर्बाद कर दिया।”

बताते चलें कि मुस्लिमों की पीरी मुरीदी प्रथा में मुस्लिम पीर अपने मुरीद की कोई रहस्यमयी बात बताकर खुद को सूफ़ी संतों के बराबर साबित करते हैं। बुशरा बीबी यही काम करती हैं। इसके चलते ही इमरान खान से उनकी नजदीकियाँ बढ़ी। बुशरा की बहन ने दोनों की मुलाकात करवाई थी। इमरान बुशरा के मुरीद बने तो घर में उनका आना-जाना बढ़ता गया।

मानेका ने इमरान पर आरोप लगाया कि वो उनकी रजामंदी के बगैर उनके घर आते थे और वह उनके साथ उस वक्त उनकी बीवी रही बुशरा की मुलाकात से खुश नहीं थे। उन्होंने ऐसे ही एक वाकए का जिक्र कर बताया कि एक बार उन्होंने अपने घरेलू नौकर की मदद से इमरान को घर से बाहर खदेड़ दिया था।

मानेका ने आगे कहा कि बुशरा बीबी को नवंबर 2017 में उन्होंने तलाक दिया था। इसके डेढ़ महीने बाद ही बुशरा ने इमरान से निकाह कर लिया। उन्होंने कहा कि दोनों के निकाह के बारे में उनको कोई खबर नहीं थी।

उन्होंने आगे कहा, “मुझे और मेरे बच्चों को इस निकाह के बारे में पता नहीं था। जब जियो और द न्यूज ने इसकी की खबर दी, तो मैंने इससे इनकार कर दिया।” बता दें कि इमरान खान ने जनवरी 2018 में बुशरा बीबी से निकाह किया था। उस दौरान बुशरा इद्दत में थीं।

मुस्लिमों में ये उस वक्त को कहा जाता है जब कोई औरत अपने खाबिंद से तलाक के बाद अलगाव में होती हैं। मार्च 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक, यही वजह रही कि इस निकाह को पाकिस्तानी आवाम से छिपाने के लिए इसकी तस्वीरें 18 फरवरी को जारी की गईं।

ऐसे बढ़ीं इमरान की बुशरा से नजदीकियाँ

मानेका का कहना है कि इस्लामाबाद में पीटीआई के विरोध प्रदर्शन के दौरान ही बुशरा की बहन मरियम वाटो ने और उनकी बीवी और इमरान खान की मुलाकात करवाई थी। इस मुलाकात के बाद दोनों के बीच इस्लामाबाद में अक्सर मुलाकातों का दौर चलने लगा था।

मानेका ने ये भी कहा, “मेरी अम्मी कहती थीं कि इमरान खान अच्छे इंसान नहीं हैं, उन्हें घर में मत आने दो।” दोनों के बीच के रिश्तों का खुलासा करते हुए उन्होंने बताया कि पीटीआई चीफ के कहने पर फराह गोगी ने उनकी तत्कालीन बीवी बुशरा को एक फोन नंबर दिया था। इस नंबर पर वो रात भर गुप्त तरीके से इमरान से बात करती थीं।

उनका आरोप है कि इस्लामाबाद के बानी गाला इलाके में इमरान के घर पर उनकी इजाजत के बगैर दोनों मिलते थे। मानेका ने कहा, “इमरान से निकाह करने से छह महीने पहले बुशरा बीबी मुझसे अलग हो गई और पंजाब के पाकपट्टन शहर में अपने घर चली गई। मेरे बुलाने के बाद भी घर लौटने से इनकार कर दिया।”

मानेका ने आगे बताया कि एक दिन उन्हें फराह गोगी से एक टेक्स्ट मैसेज मिला था इसमें उन्होंने ‘पिंकी’ (बुशरा बीबी का निकनेम) को तलाक देने के लिए कहा था। उन्होंने कहा, “मैं बुशरा के पास गया और उनसे पूछा कि क्या आप तलाक चाहती हैं? उसने अपना सिर झुका लिया और कोई जवाब नहीं दिया।”

बताते चलें कि फराह का पूरा नाम फरहत शहजादी है। वह बुशरा बीबी की बेस्ट फ्रेंड हैं। फेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (FIA) ने गोगी पर मार्च 2023 में पाकिस्तान में करीबन 849 मिलियन की मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया।

उन्होंने आगे बताया कि 14 नवंबर, 2017 को फराह गोगी के जरिए ही उनकी तत्कालीन बीवी ने उन्हें को तलाक के कागजात भेजे थे। उन्होंने कहा कि बाद में फराह गोगी और पीटीआई चीफ के करीबी सहयोगी जुल्फी बुखारी ने उनसे कागजात पर तलाक की तारीख बदलने और चुप रहने के लिए कहा क्योंकि इमरान खान प्रधानमंत्री बनना चाहते थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -