Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयईशनिंदा पर पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने कुछ 'ज्ञान' दिया, UN Watch ने लगाई...

ईशनिंदा पर पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने कुछ ‘ज्ञान’ दिया, UN Watch ने लगाई लताड़

“आप (पाकिस्तान) हिम्मत मत करिएगा खुद को मुस्लिमों का रक्षक बताने की क्योंकि पाकिस्तान की सरकार उईगर के साथ कैम्प में हो रहे जानवरों जैसे बर्ताव पर चीनी सरकार की सराहना करती है।”

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के रवैये और नज़रिए को लेकर अक्सर सार्वजनिक मंचों पर सवाल खड़े किए जाते हैं। चाहे वह पाकिस्तान के आंतरिक राजनीतिक और रक्षा संबंधी उतार-चढ़ाव हों या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छवि। ताज़ा मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के नज़रिए पर प्रश्न खड़े किए गए, जब उन्होंने ईशनिंदा को लेकर टिप्पणी की। टिप्पणी का स्वरूप कुछ ऐसा था, जिसकी बड़े पैमाने पर आलोचना हुई। 

पाकिस्तानी सरकार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक बयान साझा किया गया। यह बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का था। ईशनिंदा पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा था, “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में ईशनिंदा अस्वीकार्य और असहनीय है।” ट्विटर पर पाकिस्तानी सरकार की तरफ से की गई इमरान खान की टिप्पणी को लेकर काफी प्रतिक्रिया आई। 

इसी बीच यूएन वॉच (UN Watch) ने भी इसका जवाब दिया। यूएन वॉच ने साफ़ शब्दों में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (U.N. Human Rights Council) में पाकिस्तान की मौजूदगी को ही असहनीय बता दिया। यूएन वॉच ने अपने ट्वीट में लिखा, “संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में आपकी (पाकिस्तान) की मौजूदगी ही असहनीय है।” यानी यूएन वॉच ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की साफ़ शब्दों में आलोचना की। 

दरअसल यूएन वॉच संयुक्त राष्ट्र का इकलौता मान्यता प्राप्त गैर सरकारी समूह (NGO) है, जो मानवाधिकार से संबंधित अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं पर निगरानी रखता है, मानवाधिकारों की रक्षा करता है और तानाशाही सरकारों का सामना करता है। यूएन वॉच ने इसके बाद चीन में उईगर समुदाय से जुड़े लोगों पर हो रहे अत्याचार पर पाकिस्तान के द्विआयामी रवैये की आलोचना करते हुए ट्वीट किया। 

इस ट्वीट में यूएन वॉच ने लिखा, “आप (पाकिस्तान) हिम्मत मत करिएगा खुद को मुस्लिमों का रक्षक बताने की क्योंकि पाकिस्तान की सरकार उईगर के साथ कैम्प में हो रहे जानवरों जैसे बर्ताव पर चीनी सरकार की सराहना करती है।” यूएन वॉच की तरफ से यह प्रतिक्रिया तब आई, जब पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के फोकल पर्सन (डिजिटल मीडिया प्रवक्ता) अर्सलान खालिद ने इस यूएन वॉच पर टिप्पणी की थी।          

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

‘5 अगस्त की तारीख बहुत विशेष’: PM मोदी ने हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन और 370 हटाने का किया जिक्र

हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन, आर्टिकल 370 हटाने का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने 5 अगस्त को बेहद खास बताया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,121FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe