Friday, August 6, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयहिंदू छात्रा की हत्या में अली शान और मेहरान गिरफ्तार, नमृता का क्रेडिट कार्ड...

हिंदू छात्रा की हत्या में अली शान और मेहरान गिरफ्तार, नमृता का क्रेडिट कार्ड यूज करता था मेहरान

मेडिकल छात्रा नमृता के साथ ही पढ़ते थे गिरफ्तार संदिग्ध। लोगों के सड़क पर उतरने के बाद हरकत में आया प्रशासन। शुरुआत में आत्महत्या बता मामले को रफा-दफा करने की हुई थी कोशिश।

पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में हिन्दू लड़की नमृता चंदानी की हत्या के मामले में पुलिस ने 2 को गिरफ्तार किया है। लरकाना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए दोनों संदिग्ध नमृता के करीबी दोस्त और सहपाठी हैं। इनकी पहचान अली शान मेमन और मेहरान अब्रो के तौर पर हुई है।

मेडिकल की छात्रा नमृता घोटकी शहर से ताल्लुक रखती थी, जहाँ हाल ही में एक हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई थी। नमृता का शव 17 सितंबर को उसके हॉस्टल के कमरे में चारपाई पर संदिग्ध हालत में मिली थी। उसका कमरा अंदर से बंद था और गले में रस्सी बंधी थी।

ARY न्यूज के अनुसार, मेहरान अब्रो, नमृता का क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर रहा था। वहीं, नमृता के परिवार ने मामले की गहन जाँच की माँग की है। नमृता के भाई, विशाल जो कि एक मेडिकल कंसल्टेंट हैं, ने कहा कि शुरुआती जाँच से पता चला है कि उसकी हत्या की गई थी।

विशाल ने कहा, “यह आत्महत्या नहीं है। आत्महत्या के निशान अलग होते हैं। मुझे उसकी गर्दन के चारों ओर केबल के निशान मिले थे। उसके हाथ पर भी निशान थे। लेकिन उसकी दोस्तों ने बताया था कि उसने नमृता के गले पर दुपट्टा बँधा देखा था।”

जब विशाल से पूछा गया कि क्या नमृता किसी तरह की परेशानी या समस्या का सामना कर रही थी, तो उन्होंने कहा कि नहीं, ऐसा कुछ भी नहीं है। उन्होंने 2 दिन पहले ही नमृता से बात की थी। वह बहुत ब्रिलिएंट स्टूडेंट थी। विशाल ने इस मामले में निष्पक्ष रूप से जाँच करने की माँग की है और साथ ही न्याय के लिए नागरिकों को परिवार का समर्थन करने की अपील की है।

नमृता की हत्या की गुत्थी ने लोगों के मन में यह संशय पैदा कर दिया कि कहीं ये जबरन धर्म परिवर्तन का मामला तो नहीं था। इस घटना के बाद कराची में बड़े पैमाने पर विरोध-प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारियों ने इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करते हुए नमृता लिए न्याय की माँग की। प्रशासन ने शुरुआत में इस मामले को आत्महत्या बता रफा-दफा करने की कोशिश की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe