Sunday, May 29, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबुर्के में होंगी मेडिकल की छात्राएँ, नमाजी टोपी में उनसे 2 मीटर दूर रहेंगे...

बुर्के में होंगी मेडिकल की छात्राएँ, नमाजी टोपी में उनसे 2 मीटर दूर रहेंगे छात्र: वैलेंटाइन डे पर पाकिस्तानी कॉलेज का फरमान

“इस्लामाबाद इंटरनेशनल मेडिकल कॉलेज ने एक नोट जारी कर विद्यार्थियों को वैलेंटाइन डे समारोहों और इससे जुड़ी ऐसी गतिविधियाँ, जो युवाओं को गलत रास्ते पर ले जाती हैं, उनमें शामिल होने से मना किया गया है।”

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में एक मेडिकल कॉलेज ने अपने स्टूडेंट्स को वैलेंटाइन डे पर दिशानिर्देश जारी किए हैं। इनमें लड़कियों को हिजाब (बुर्का) पहनने और लड़कों को नमाज वाली सफेद टोपी पहनने के लिए कहा गया है। इसके अलावा लड़कों को लड़कियों से दो मीटर की दूरी बनाए रखने के भी निर्देश दिए हैं।

पाकिस्तान के अखबार ‘फ्राइडे टाइम्स’ की खबर के मुताबिक, “इस्लामाबाद इंटरनेशनल मेडिकल कॉलेज ने शनिवार (12 फरवरी 2022) को एक नोट जारी कर विद्यार्थियों को वैलेंटाइन डे समारोहों और इससे जुड़ी ऐसी गतिविधियाँ, जो युवाओं को गलत रास्ते पर ले जाती हैं, उनमें शामिल होने से मना किया गया है।”

छात्राओं के लिए हिजाब और मर्दों के लिए सफेद टोपी पहनने का निर्देश

नोट में कहा गया है, ‘‘सभी छात्राओं को विश्वविद्यालय ड्रेस कोड के अनुसार हिजाब के साथ सिर, गर्दन और छाती को अच्छी तरह से ढका हुआ होना चाहिए। सभी छात्रों को नमाज वाली सफेद टोपी पहनने का सख्त आदेश दिया गया है।’’ 

वैलेंटाइन डे मनाने से रोकने के लिए गश्त करेंगे स्टाफ के लोग

नोटिस में यह भी चेतावनी दी गई है कि इन दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने वाले विद्यार्थियों को पकड़ने के लिए कॉलेज स्टॉफ के सदस्य परिसर में गश्त करेंगे। जो भी लोग इन नियमों का उल्लंघन करते पाए जाएँगे, उन पर 5,000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। कॉलेज के सर्कुलर के हवाले से खबर में कहा गया है कि इन नियमों का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगाया जाएगा।

बता दें कि यह रिफा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी से संबद्ध एक मेडिकल स्कूल है जिसकी स्‍थापना 1996 में की गई थी। मालूम हो कि ‘वैलेंटाइन डे’ (Valentine’s Day) हर साल 14 फरवरी को मनाया जाता है। वैसे यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्‍तान में छात्राओं के लिए ऐसे ड्रेस कोड के निर्देश किसी कालेज की ओर से जारी किए गए हैं। पाकिस्‍तान में पहले भी ऐसी घटनाएँ सामने आ चुकी हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe