Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचर्च में शादी नहीं कर सकते समलैंगिक, पर अब पादरी दे सकेंगे आशीष: पोप...

चर्च में शादी नहीं कर सकते समलैंगिक, पर अब पादरी दे सकेंगे आशीष: पोप फ्रांसिस का फैसला, कभी वेटिकन ने बताया था पाप

पोप फ्रांसिस ने नए फैसले में कहा है कि भगवान से प्यार और दया की आस रखने वालों को नैतिकता के पैमाने पर नहीं आँकना चाहिए। यह वेटिकन के दो साल पुराने फैसले के ठीक उलट है। तब कहा गया था कि समलैंगिक जोड़ों को आशीष नहीं दिया जा सकता है, क्योंकि भगवान 'पाप' को आशीष नहीं देते।

एलजीबीटीक्यू समुदाय को लेकर वेटिकन ने महत्वपूर्ण फैसला लिया है। पोप फ्रांसिस ने समलैंगिक जोड़ों को आशीष देने की इजाजत पादरियों को दे दी है। हालाँकि इस तरह की शादी अब भी चर्च में नहीं होंगी। इससे पहले 2021 में वेटिकन इस तरह के संबंधों को ‘पाप’ बताया था।

पोप फ्रांसिस ने नए फैसले में कहा है कि भगवान से प्यार और दया की आस रखने वालों को नैतिकता के पैमाने पर नहीं आँकना चाहिए। यह वेटिकन के दो साल पुराने फैसले के ठीक उलट है। तब कहा गया था कि समलैंगिक जोड़ों को आशीष नहीं दिया जा सकता है, क्योंकि भगवान ‘पाप’ को आशीष नहीं देते। अब पोप फ्रांसिस ने कहा कि समलैंगिक जोड़ों को कुछ शर्तों के साथ आशीष दिया जा सकता है। इसके तहत ऐसे लोग को आशीष तब ही मिलेगा जब वे चर्च में शादी के मकसद से न आएँ।

इन शर्तों के तहत समलैंगिक जोड़ों को आशीष मजहबी तरीकों के तहत नहीं दिया जाएगा। किसी भी तरह से इसे विवाह समारोह का रूप नहीं दिया जाएगा। साथ ही विवाह कराने वाले वाली पादरियों की पारंपरिक पोशाक वेस्टमेंट में नहीं होंगे। पादरियों को इस तरह की भाषा और भंगिमाओं का इस्तेमाल भी नहीं कर सकेंगे जिससे लगे कि वे शादी करवा रहे हैं। इसके अलावा समलैंगिक जोड़ों को आशीष देते वक्त जो प्रार्थना और शब्द बोले जाएँ वो कहीं लिखे नहीं जाएँगे।

पोप फ्रांसिस ने सोमवार (18 दिसंबर 2023) को यह अनुमति दी। उनके फैसले से जुड़ा दस्तावेज वेटिकन डॉक्ट्रिन ऑफिस (Doctrine Office) ने जारी किया है। बताते चलें की पोप फ्रांसिस ने दो कंजर्रवेटिव कार्डिनलों को इस बारे में विस्तार से बताते हुए एक पत्र लिखा था।

ये पत्र अक्टूबर में पब्लिश हुआ था। इसमें पोप फ्रांसिस ने सुझाव दिया कि कुछ हालातों में ऐसे आशीष दिए जा सकते हैं, लेकिन ये शादी के मजहबी तरीकों की तरह नहीं दिए जाने चाहिए। इन आशीषों को समलैंगिकों के शादी संस्कार समझने का भ्रम नहीं पालना चाहिए।

यही वजह रही कि पोप फ्रांसिस की तरफ से जारी किए गए नए दस्तावेज में समलैंगिक विवाह और एक पुरुष तथा महिला के बीच होने वाली शादी में अंतर साफ कर दिया गया है। इसमें कहा गया है कि विवाह एक पुरुष और महिला के बीच ताउम्र के लिए होने वाला मजहबी संस्कार है जो कभी टूट नहीं सकता है। यही वजह है कि समलैंगिक को दिया जाने वाला आशीष एक महिला या पुरुष के शादी की तरह नहीं लिया जा सकता है। लेकिन ऐसे जोड़ों को आशीष दिया जा सकता है, क्योंकि भगवान की प्रेम और दया पाने के लिए उनका आशीष पाने का सबको हक है।

इससे साफ है कि पोप फ्रांसिस ने समलैंगिक विवाह को सशर्त मंजूरी दी है। ये लोग विवाह तो कर सकते हैं, लेकिन चर्च में धार्मिक रीति-रिवाजों के तहत इनका विवाह नहीं हो सकता है। चर्च में पादरी इन जोड़ों को केवल आशीष दे सकते हैं। उनका विवाह नहीं करा सकते।

ये पहली बार नहीं है जब पोप फ्रांसिस ने इस तरह का फैसला लिया है। इससे पहले वो महिलाओं को चर्च में अहम भूमिकाएँ सौंपने जैसे फैसले भी ले चुके हैं। उनकी पहल से ही वेटिकन सिटी में उच्च पदों पर महिलाओं की नियुक्ति का रास्ता साफ हुआ है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -