Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'150 लोगों ने मेरे शरीर के हर हिस्से को नोचा': महिला पत्रकार ने बताया...

‘150 लोगों ने मेरे शरीर के हर हिस्से को नोचा’: महिला पत्रकार ने बताया ‘आज़ादी दिवस’ के दिन क्या हुआ था मजार-ए-कैद पर

"मुझे हर प्रकार की अश्लील गालियाँ दी गईं। अंत में किसी ने मेरा हाथ पकड़ा और किसी तरह उस सेक्सुअली फ़्रस्ट्रेटेड भीड़ से अलग निकाला।"

पाकिस्तान में महिला उत्पीड़न की हालिया घटनाओं का विरोध हो रहा है। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए आवाज़ उठाई जा रही है। मीनार-ए-पाकिस्तान पर हुई एक घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहा है। डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता और मल्टीमीडिया पत्रकार सबीन आगा ने भी अपने साथ हुई प्रताड़ना का वाकया साझा किया है। उन्होंने बताया कि उनके साथ कराची के मजार-ए-कैद पर दुर्व्यवहार किया गया था।

कुछ वर्षों पहले हुई इस घटना के बारे में उन्होंने बताया कि वो कोई टिकटॉकर या यूट्यूबर नहीं, बल्कि एक पत्रकार हैं। उन्होंने बताया कि 14 अगस्त को पाकिस्तान में मनाए जाने वाले ‘आज़ादी दिवस’ को कवर करने के लिए वो कराची के मजार-ए-शरीफ गई हुई थीं। उन्होंने बताया कि वो रिपोर्टिंग कर रही थीं, अपनी ड्यूटी में लगी थीं, हाल ही में टिकटॉकर लड़की पर जो आरोप लगे, वो किसी को किस वगैरह नहीं दे रही थीं।

उन्होंने बताया कि तभी 100-150 के करीब लोगों ने उन पर और उनके कैमरामैन पर हमला बोल दिया। उनके कैमरामैन व उसके कैमरे को इधर-उधर धक्का दिया गया। सबीन आगा ने बताया कि उनके शरीर के हर हिस्से को दबोचा गया। लोगों ने उनके कपड़े व दुपट्टे को खींचा। उन्होंने बताया कि इसी बीच एक व्यक्ति ने उनके दुपट्टे को उनके ही गले में डाल कर उन्हें जान से मारने की भी कोशिश की।

उन्होंने अपने अनुभव साझा करते हुए लिखा है, “मुझे हर प्रकार की अश्लील गालियाँ दी गईं। अंत में किसी ने मेरा हाथ पकड़ा और किसी तरह उस सेक्सुअली फ़्रस्ट्रेटेड भीड़ से अलग निकाला। मैं काँपते हुए मजार-ए-कैद के पास स्थित पुलिस थाने में शिकायत है, जहाँ के पुलिसकर्मी सब देख कर भी अनजान बने हुए थे। जब मैंने उनसे पूछा कि वो मदद के लिए क्यों नहीं आए, तो उन्होंने कहा – ‘बीबी हम 4 थे और वो 150.. कैसे रोक सकते थे?'”

पुलिसकर्मियों ने उलटा उस महिला से ही पूछा कि आप यहाँ आई ही क्यों हैं? पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की बेटी बख्तावर भुट्टो ने इस घटना के बाद सार्वजनिक स्थानों पर पुरुषों पर पाबंदी की माँग की है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए महिलाएँ ही तैनात की जानी चाहिए। बता दें कि मजार-ए-कैद मोहम्मद अली जिन्ना की मजार है। इसे ‘नेशनल म्यूजियम’ भी कहा जाता है।

बता दें कि मीनार-ए-पाकिस्तान पर 400 लोगों ने एक युवती के साथ छेड़छाड़ व जबरदस्ती की, जिसमें एक सिक्युरिटी गार्ड भी शामिल था। उलटा पीड़िता पर ही आरोप लगे जा रहे हैं कि उसने भीड़ से बच कर भागने की कोशिश नहीं की। उस पर पब्लिसिटी स्टंट के आरोप लगाए जा रहे हैं। TikTok चलाने को लेकर भी पीड़िता पर कई आरोप लगे जा रहे हैं। पुलिस ने भी महिला पर भ्रमित करने का आरोप लगाया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -