Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान की शर्मनाक हरकत: वॉर म्यूजियम में अभिनन्दन को दिखाया कैदियों की तरह

पाकिस्तान की शर्मनाक हरकत: वॉर म्यूजियम में अभिनन्दन को दिखाया कैदियों की तरह

पाकिस्तानी पत्रकार अनवर लोधी ने ट्वीट किया, “पाकिस्तानी सेना ने संग्रहालय में अभिनंदन का पुतला लगाया है। इसे और दिलचस्प बनाया जा सकता था, अगर पुतले के हाथ में चाय का कप भी पकड़ा दिया जाता।”

भारत को नीचा दिखाने की जुगत में पाकिस्तान एक बार फिर से अपनी ओछी हरकतों पर उतर आया है। दरअसल, पाकिस्तान ने अपने वॉर म्यूजियम में IAF के पॉयलट विंग कमांडर अभिनंदन का पुतला लगाया है। जिसमें वे एक पाकिस्तानी सैनिक की पकड़ में नजर आ रहे हैं।

इस तस्वीर को खुद पाकिस्तानी पत्रकार और राजनैतिक टिप्पणीकार अनवर लोधी ने अपने ट्विटर पर पोस्ट किया है। लोधी ने अपने ट्वीट पर लिखा, “पाकिस्तानी सेना ने संग्रहालय में अभिनंदन का पुतला लगाया है। इसे और दिलचस्प बनाया जा सकता था, अगर पुतले के हाथ में चाय का कप भी पकड़ा दिया जाता।” 

इस तस्वीर में नजर आ रहा है कि अभिनंदन के पुतले को काँच के बॉक्स में रखा गया है। जिसमें उनका चेहरा झुका हुआ और पाकिस्तानी फौजी का सीना तना हुआ दिखाया जा रहा है। इसके अलावा अभिनंदन के पुतले के बगल में एक मग भी रखा हुआ है। जिसे ये दर्शाने के लिए लगाया गया है कि उन्होंने अपनी हिरासत में अभिनन्दन को चाय भी पिलाई थी। जिसे पीते हुए उनकी वीडियो बहुत वायरल हुई थी। इस वीडियो में उनसे पाकिस्तानी अधिकारी पूछते नजर आ रहे थे कि चाय कैसी है और उन्होंने कहा था, “चाय शानदार है, धन्यवाद।”

गौरतलब है कि अभिनन्दन को चाय पिलाने की वीडियो जारी होने के बाद पाकिस्तान ने विश्व कप से पहले भी इसका फूहड़ता से मजाक उड़ाया था। उस समय भी भारत को नीचा दिखाने की कोशिश हुई थी। हालाँकि, बाद में भारत ने भी अपनी ओर से एक अलग विज्ञापन बनाकर जवाब दे दिया था।

यहाँ बता दें कि बालाकोट के आतंकी कैंपों पर हुई IAF की कार्रवाई के बाद अगले दिन पाकिस्तान ने भारत पर हवाई हमला करने की कोशिश की थी। जिसके जवाब में अभिनंदन ने अपने मिग-21 से उनके एक एफ-16 को मार गिराया था और अपनी बहादुरी का परिचय देते हुए दूसरे को भी खदेड़ा था। इस दौरान वे पाकिस्तान की सीमा में जा गिरे थे और पाकिस्तानी अधिकारियों ने उन्हें हिरासत में लिया था। हालाँकि, वे पड़ोसी मुल्क में केवल कुछ ही घंटों के लिए थे, लेकिन इस प्रदर्शनी को देखकर लग रहा है, जैसे अभिनंदन को पकड़ना उनकी कोई उपलब्धि हो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe