Thursday, June 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय...स्कर्ट वाली का रेप हो जाता: कंपनी ने Pak कर्मचारी को निकाला, कोर्ट ने...

…स्कर्ट वाली का रेप हो जाता: कंपनी ने Pak कर्मचारी को निकाला, कोर्ट ने कहा – ‘मूर्ख है, बर्खास्त मत करो, रख लो’

"सामान्य तौर पर जो लड़कियाँ छोटे स्कर्ट पहनती हैं, उसी के कारण उनका रेप होता है और उसके लिए वही जिम्मेदार होती हैं।" इस बात पर कंपनी ने पाकिस्तानी को नौकरी से निकाल दिया लेकिन कोर्ट ने फिर से नौकरी दिलवा कर...

ब्रिटेन के लंकाशायर में स्काई कंपनी के 44 वर्षीय एक पाकिस्तानी कर्मचारी ने अपनी महिला सहकर्मी को बताया कि अगर यह पाकिस्तान होता तो स्कर्ट पहनने वाली लड़कियों का बलात्कार हो जाता। यह घटना जून 2019 की है, जब लंकाशायर के एक शॉपिंग मॉल से शॉपिंग के बाद दो किशोर लड़कियाँ स्कर्ट पहन कर वहाँ से गुजर रही थीं। उसी दौरान राजा मिन्हास नाम के रिटेल सलाहकार ने किशोरियों पर यह टिप्पणी की।

इस दौरान वह अपनी सहकर्मी क्लेमेट्टी से स्काई कंपनी के प्रोडक्ट को लेकर बातचीत कर रहा था। मिन्हास ने क्लेमेट्टी से ये भी कहा, “सामान्य तौर पर जो लड़कियाँ छोटे स्कर्ट पहनती हैं, उसी के कारण उनका रेप होता है और उसके लिए वही जिम्मेदार होती हैं।”

दोनों के बीच करीब 10-15 मिनट तक गर्मागर्म बहस चली। यह बात कंपनी के बॉस तक पहुँची तो पाकिस्तानी युवक मिन्हास को सामान्य व्यवहार के नियमों का उल्लंघन करने के मामले में उसे नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया।

मूल रूप से पाकिस्तान के रहने वाले मिन्हास ने पुलिस को बताया, “मैंने दो लड़कियों को जाते हुए पीछे से देखा था, दोनों लड़कियों को गलत तरीके से कपड़े पहनाए गए थे। आप उनके शरीर की बनावट को उन कपड़ों में देख सकते थे। यदि यह पाकिस्तान होता तो लोग देख रहे होते और यह बलात्कार के लिए एक खुले निमंत्रण की तरह होता।”

मामला कोर्ट में पहुँचा तो रोजगार न्यायाधिकरण के न्यायाधीश रॉबिन्सन ने आरोपित की बर्खास्तगी को अनुचित बताते हुए उसे खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि मिन्हास ने क्लेमेट्टी के साथ चर्चा के दौरान सामान्य रूप से लोगों की पोशाक पर मूर्खतापूर्ण टिप्पणी की थी।

कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी कहा कि दोनों कर्मचारी एक-दूसरे से बात कर रहे थे। क्लेमेट्टी ने खुद से कोई शिकायत नहीं की थी और न ही कोर्ट को कोई सबूत दिया। जब मामला सामने आया तो उसे विश्वास ही नहीं हुआ कि ये इतना आगे जाएगा। आरोपित को कोर्ट ने दुराचार का दोषी ठहराया है, क्योंकि उससे बातचीत के दौरान क्लेमेट्टी को लगता था कि वो उसके सामने किस तरह के कपड़े पहनकर आए।

कोर्ट का कहना था, “मिन्हास ने कभी भी बलात्कार की घटनाओं की आलोचना नहीं की। यह उसका अपना विचार था कि एक खास तरह का पहनावा पुरुषों के व्यवहार को प्रभावित कर सकता है।”

क्लेमेट्टी ने इस मामले में कहा, “लड़कियों को वही पहनना चाहिए जो उन्हें अच्छा लगे। किसी को भी इस आधार पर बलात्कार के बारे में बात नहीं करनी चाहिए कि कोई क्या पहनता है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

UGC-NET जून 2024 परीक्षा रद्द, 18 जून को 11.21 लाख छात्रों ने दी थी परीक्षा: साइबर क्राइम सेल से मिला सेंधमारी का इनपुट,...

परीक्षा प्रक्रिया की उच्चतम स्तर की पारदर्शिता और पवित्रता सुनिश्चित करने के लिए भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने निर्णय लिया है कि यूजीसी-नेट जून 2024 परीक्षा रद्द की जाए।

मंच से उड़ा रहे थे भगवान राम और माता सीता का मजाक, नीचे से बज रही थी सीटी: एक्शन में IIT बॉम्बे, छात्रों पर...

भगवान का मजाक उड़ाने वाले छात्रों के खिलाफ 1.20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया। वहीं कुछ छात्रों को हॉस्टल से निलंबित भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -