Tuesday, February 27, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपुलिस प्रमुख का राष्ट्रपति पर आरोप, बंद करवाई थी इस्लामिक आतंकियों की जाँच: श्री...

पुलिस प्रमुख का राष्ट्रपति पर आरोप, बंद करवाई थी इस्लामिक आतंकियों की जाँच: श्री लंका धमाके में खुलासा

गुप्तचर अधिकारी सिसिरा मेंडिस ने संसदीय पैनल को बताया कि इन धमाकों को रोका जा सकता था। मेंडिस के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठकें नियमित अंतराल पर नहीं होतीं थीं, जिससे ऐसे हमलों की धमकी...

पिछले महीने श्री लंका में हुए आतंकी हमलों के मामले ने एक नया मोड़ ले लिया है। सुरक्षा व्यवस्था में लापरवाही बरतने और भारत से मिली गुप्त जानकारी को हल्के में लेने के आरोप में निलंबित चल रहे पुलिस इंस्पेक्टर-जनरल पूजित जयासुंदरा ने देश के सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना पर आरोप लगाया कि हमले के पहले पुलिस द्वारा की जा रही इस्लामी कटटरपंथियों की जाँच सिरिसेना ने रुकवा दी थी। जयासुंदरा के मुताबिक इसके लिए सिरिसेना ने खुद को डायरेक्ट रिपोर्ट करने वाली स्टेट इंटेलिजेंस सर्विस (एसआईएस) का इस्तेमाल किया था।

गुप्तचर व सुरक्षा विभागों में संवाद की कमी

अपनी 20 पन्नों की शिकायत में जयासुंदरा राष्ट्रपति सिरिसेना के अंतर्गत आने वाले और सीधे उन्हें रिपोर्ट करने वाले सुरक्षा विभाग और गुप्तचर एजेंसियों के बीच गंभीर रूप से संवाद की कमी को रेखांकित किया है। उन्होंने यह कहा कि देश की चोटी की गुप्तचर एजेंसी एसआईएस ने पुलिस को आदेश दिया था कि इस्लामिक उग्रवादियों के खिलाफ पुलिस की चल रही जाँच चलने दी जाए। यह जाँच पुलिस का टेररिस्ट इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (आतंकी जाँच विभाग) कर रहा था, और इसमें शामिल संस्थाओं में से एक नेशनल तौहीद जमात भी थी, जिस पर इस समय धमाकों का शक है।

जयासुंदरा के आरोप ऐसे समय आए हैं जब राष्ट्रपति सिरिसेना पहले ही राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीरता से न लेने के आरोपों से दो-चार हैं। एक दूसरे गुप्तचर अधिकारी सिसिरा मेंडिस ने संसदीय पैनल को बताया कि इन धमाकों को रोका जा सकता था। मेंडिस के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठकें नियमित अंतराल पर नहीं होतीं थीं जिससे ऐसे हमलों की धमकी जैसे खतरों की समीक्षा नहीं हो पाई।

जयासुंदरा ने एसआईएस पर पुलिस को भारत से मिली श्री लंका में (तब) संभावित इस्लामी आतंकी हमले की ‘टिप’ साझा नहीं साझा करने का भी आरोप लगाया है। इससे पहले इकोनॉमिक टाइम्स में पद से हटाए गए श्री लंका पुलिस के प्रमुख (यानी जयासुंदरा) के ही हवाले से दावा किया गया था कि उन्हें मिली टिप पर भारत-पाकिस्तान के तल्ख रिश्तों को देखते हुए भरोसा नहीं हुआ था

जिम्मेदारी न लेने के कारण हटाए गए थे जयासुंदरा

सिरिसेना ने ईस्टर धमाकों के बाद जयासुंदरा को इसलिए निलंबित कर दिया था क्योंकि जयासुंदरा ने हमले के लिए खुद को जिम्मेदार ठहराए जाने देने से मना कर दिया था। उनके मुताबिक उन्हें यह भी पेशकश मिली थी कि यदि वे जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दें तो उन्हें कोई कूटनीतिक पद दे दिया जाएगा। उनका यह भी कहना है कि पिछले वर्ष अक्टूबर में प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे और राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना के बीच मतभेद बढ़ने के बाद से ही उन्हें हाशिए पर डाल दिया गया था

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लंदन में पढ़ाई, करोड़ों की नौकरी… सब छोड़ अबू धाबी के हिंदू मंदिर में सेवा कर रहे विशाल पटेल, रेगिस्तान में ढोए कंक्रीट: PM...

स्वामीनारायण मंदिर में सेवा करने का रास्ता चुनने वाले व्यक्ति का नाम विशाल पटेल है। 43 वर्षीय विशाल पटेल का जन्म एक गुजराती परिवार में लंदन में हुआ था। वह 2016 में लंदन से UAE आकर बस गए थे। वह पहले लंदन में बैंकिंग क्षेत्र में काफी अच्छी नौकरी करते थे।

आलम,अशरफ, इरफान, फुरकान… रामनवमी हिंसा में NIA ने 16 को पकड़ा, फुटेज से हुई पहचान: बंगाल में छतों से शोभा यात्रा पर बरसाए थे...

पश्चिम बंगाल में राम नवमी हिंसा मामले की जाँच के दौरान राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ने 16 लोगों को गिरफ्तार किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe