Saturday, January 28, 2023
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयPak एयरस्पेस बंद होने से फँसे हजारों भारतीय छात्र, छुट्टियों में नहीं आ पा...

Pak एयरस्पेस बंद होने से फँसे हजारों भारतीय छात्र, छुट्टियों में नहीं आ पा रहे घर

जून के महीने में अक्सर उच्च शिक्षण संस्थानों में छुट्टियाँ शुरू हो जाती हैं और वहाँ पढ़ रहे भारतीय छात्र घर आते हैं, लेकिन एयरस्पेस बंद होने के कारण इस बार छात्रों का टिकट रद्द हो रहा है और...

पाकिस्तान के ऊपर से भारत जाने और आने वाली उड़ानों के लिए हवाई क्षेत्र बंद हो जाने से हजारों भारतीय छात्र मध्य एशियाई देशों में फँस गए हैं। जून के महीने में अक्सर उच्च शिक्षण संस्थानों में छुट्टियाँ शुरू हो जाती हैं और वहाँ पढ़ रहे भारतीय छात्र घर आते हैं, लेकिन एयरस्पेस बंद होने के कारण इस बार छात्रों का टिकट रद्द हो रहा है और नए टिकटों की दरें सामान्य से 3-4 गुना तक महंगी है। इसके कारण छात्रों को काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

गौरतलब है IAF द्वारा बालाकोट पर हुई कार्रवाई के बाद से ही पाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस को बंद किया हुआ है। हिंदुस्तान में छपी खबर के अनुसार किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में स्टेट मेडिकल अकादमी से एमबीबीएस कर रहे एक छात्र ने उन्हें फोन पर बताया है कि उनका कॉलेज जून के आखिर में 2 महीने के लिए बंद होता है। इस दौरान वहाँ पढ़ रहे छात्र घर जाने और वापस आने के लिए पहले से ही टिकट बुक करवा लेते हैं, जिसमें करीब 20 हजार रुपए का खर्चा आता है।

हिन्दुस्तान से बातचीत में छात्र ने बताया कि इस बार अस्ताना और अन्य एयरलाइंस ने पाकिस्तान एयरस्पेस बंद होने का हवाला देकर जून की लगभग सभी उड़ाने निरस्त कर दीं, जिसके कारण उन्हें भारत आने के लिए दुबई से होते हुए आना होगा। इसमें खर्चा 60 हजार से भी अधिक आएगा। ऐसे में उनका सारा बजट बिगड़ रहा है क्योंकि इस खर्चे के बारे में उन्हें पहले से कोई भी जानकारी नहीं थी।

किर्गिस्तान के स्टेट मेडिकल अकादमी से करीब 4,000 भारतीय छात्र एमबीबीएस कर रहे हैं। वहाँ दूसरे विश्वविद्यालयों में भी बड़ी तादाद में भारतीय छात्र हैं। इसी प्रकार किर्गिस्तान के अलावा कजाखस्तान और उज्बेकिस्तान में भी ऐसे छात्र हैं जिन्हें एयरस्पेस बंद होने के कारण ऐसी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें पाकिस्तान का हवाई क्षेत्र 28 जून तक भारत के सभी विमानों की आवाजाही के लिए बंद रहेगा। इस बात की जानकारी नागरिक उड्डयन प्राधिकरण द्वारा जारी एक नोटिस में दी गई है।
.

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस लव जिहाद को इस्लामी-वामपंथी बताते थे कल्पना, उसे देश ने माना सच: सर्वे में 53% लोगों ने कहा- मुस्लिम पुरुष इसमें लिप्त हैं

देश में लव जिहाद की बढ़ती घटनाओं के बीच एक सर्वे रिपोर्ट सामने आई है। 53% लोगों का मानना है कि मुस्लिम पुरुष लव जिहाद में लिप्त रहते हैं।

हमारा सनातन धर्म भारत का राष्ट्रीय धर्म: बोले CM योगी, ऐतिहासिक नीलकंठ महादेव मंदिर में की पूजा

सीएम योगी ने देश की सुरक्षा और विरासत की रक्षा के लिए लोगों से व्यक्तिगत स्वार्थ से ऊपर उठकर राष्ट्रीय धर्म के साथ जुड़ने का आह्वान किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
242,751FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe