Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयग्रामीणों ने बांग्लादेश के 3 सैनिकों को हिरासत में लिया, भारतीय नागरिक के अपहरण...

ग्रामीणों ने बांग्लादेश के 3 सैनिकों को हिरासत में लिया, भारतीय नागरिक के अपहरण की थी कोशिश

ग्रामीणों ने कहा कि पैराट्रूपर्स ने अबू खैहर का अपहरण करने की कोशिश की थी, जिनकी माँ का गुरुवार को भोर से पहले निधन हो गया था।

गुरुवार (10 अक्टूबर) को त्रिपुरा में सिपाहीजला ज़िले के एक इलाक़े में तनाव फैल गया जिसके बाद बांग्लादेश के सुरक्षा बल के सदस्यों ने कथित तौर पर एक भारतीय नागरिक का अपहरण करने की कोशिश की। ग्रामीणों ने बांग्लादेश की अर्धसैनिक बल रैपिड एक्शन बटालियन (RAB) के तीन लोगों को हिरासत में ले लिया और उनके साथ मारपीट की। यह हादसा सुबह 9 बजे कलामचरा के बॉर्डर पिलर नंबर-2059 के पास हुआ।

ख़बर के अनुसार, सीमा सुरक्षा बल (BSF) और पुलिस टीमों ने मौक़े पर पहुँचकर पैराट्रूपर्स को बचाया और उन्हें बीएसएफ की आशबाड़ी सीमा चौकी पर ले गए।

ग्रामीणों ने कहा कि पैराट्रूपर्स ने अबू खैहर का अपहरण करने की कोशिश की थी, जिनकी माँ का गुरुवार को भोर से पहले निधन हो गया था। बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (BGB) और बीएसएफ ने कलमाचरा में दोपहर में एक फ्लैग मीटिंग भी की।

वहीं, ढाका ट्रिब्यून की ख़बर में इस बात की पुष्टि की गई कि ग़लती से सीमा पार करने के बाद बांग्लादेशियों को हिरासत में लिया गया था। भारत की सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने रैपिड एक्शन बटालियन (RAB) के तीन सदस्यों और ब्राह्मणपारा अपज़िला, कोमिला के अंतर्गत आसबारी सीमा की दो महिला मुख़बिरों को हिरासत में लिया।

हालाँकि, बीएसएफ ने बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (BGB) के साथ की गई एक फ्लैग मीटिंग के बाद, एक ही सीमा बिंदु के माध्यम से 5 बजे के आसपास सभी पाँचों को सौंप दिया। इसकी पुष्टि, BGB की संगुकुएल BOP के कंपनी कमांडर सूबेदार नुरुल इस्लाम ने की। उन्होंने कहा, “जब उन्हें हमें सौंपा गया तो वे बीमार दिखाई दे रहे थे।”

RAB अधिकारियों की पहचान कॉन्स्टेबल्स रिगन बरुआ, अब्दुल मतीन और सैनिक वाहिदुल इस्लाम के रूप में हुई। सभी RAB, 11 की दूसरी अपराध रोकथाम कंपनी (सीपीसी 2) से जुड़े हैं।

महिला मुखबिरों में से एक की पहचान लिजा के रूप में की गई, जबकि दूसरी महिला के बारे में कहा गया कि वो उसी की ऑन्टी थी, लेकिन जब उसकी रिपोर्ट दर्ज कराई गई तो उसकी पहचान अनुपलब्ध थी।


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe