Thursday, June 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयरूस से वीडियो बना फैसल खान भारतीयों को फँसाता, फिर नौकरी का लालच दे...

रूस से वीडियो बना फैसल खान भारतीयों को फँसाता, फिर नौकरी का लालच दे सेना में कराता शामिल: 2 नागरिकों की मौत, भारत सरकार बोली- कार्रवाई हो

फैसल खान नाम का यूट्यूबर भारतीयों को मोटी तनख्वाह की लालच देकर रूस बुलाता था। वो बाबा व्लॉग्स नाम से यूट्यूब चैनल भी चलाता है।

रूस में भारतीयों को सेना में जबरन भर्ती कराए जाने के आरोपों के बीच एक नाम सामने आया है, ये नाम है यूट्यूबर फैसल खान का, जिसका पूरा नाम अब्दुल मुतल्लिब खान है। वो इस पूरे रैकेट को चलाता था और बाबा व्लॉग्स नाम से यूट्यूब चैनल भी चलाता था। महज पाँचवीं कक्षा तक पढ़े फैसल खान पर जबरन धर्मांतरण जैसे आरोप भी हैं, जिसमें उससे पूछताछ भी की गई थी। बाद में वो दुबई चला गया और फिर मैन-पॉवर मैनेजमेंट की एक कंपनी चलाने लगा।

भारत की जाँच एजेंसियों ने युवकों को धोखे से रूसी सेना में भर्ती कराने वाले एक रैकेट को पकड़ा है, जिससे जुड़े 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। ये लोग भारतीयों को रूस की नागरिकता एवं अन्य लालच देकर उन्हें रूस बुलाते थे। फिर उन्हें सेना में भर्ती करा देते थे। इस रैकेट से ही फैसल खान के भी जुड़ने की जानकारी आ रही है। वो अपने वीडियो में कहता था कि उन लोगों को रूसी सेना के साथ जोड़ा जाएगा, लेकिन उनका काम सहायकों का होगा, लड़ाकू भूमिका की नहीं। जबकि रूस के अग्रिम मोर्चे पर दो भारतीयों की जान जा चुकी है, जिसके बाद एजेंसियों ने इस पूरे रैकेट का भंडाफोड़ किया है।

इस पूरे मामले में जिस फैसल खान का नाम सामने आ रहा है, वो लोगों को रूसी सेना में हर महीने 2 लाख की सैलरी दिलाने का वादा करके भेजता था। फैसल खान बाबा व्लॉग्स नाम से यूट्यूब चैनल चलाता है। वो वीडियो के माध्यम से लोगों को रूस आने की लालच देता था। सितंबर 2023 में ऐसे ही एक वीडियो में फैसल खान ने अपने सब्सक्राइबर्स से वादा किया था कि रूसी सेना में शामिल होने वालों को मोटी तनख्वाह के अलावा एक सरकारी कार्ड भी मिलेगा। यह उन्हें स्थाई निवास पाने में मदद करेगा।

फैसल ने कथित तौर पर रूसी सेना में सहायक भूमिकाओं में नौकरी का वादा करके बड़ी संख्या में भारतीयों को रूस भेजा। उनमें से एक मोहम्मद अफसान थे, जिसकी यूक्रेन में रूस के अग्रिम मोर्चे पर लड़ाई के दौरान मौत हो गई। इस वीडियो में फैसल लोगों को लालच दे रहा है।

इस पूरे मुद्दे पर भारत सरकार के विदेश मामलों के मंत्रालयय (MEA) का बयान भी सामने आया है, जिसमें सरकार ने कहा है कि उसने रूसी प्रशासन से ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कहा है, जो भारतीयों को धोखा देकर रूस बुला रहे हैं और उन्हें सेना में भर्ती करा रहे हैं। अभी भी कई भारतीय रूस में हैं, जिन्हें वापस लाने की कोशिश की जा रही है।

कौन है फैसल खान, जिसके वीडियो के बाद रूस गए भारतीय

फैसल खान एक मैनपावर कंसल्टेंसी फर्म चलाते हैं, जो कई देशों में कर्मचारी उपलब्ध कराती है। उसकी उम्र लगभग 30 वर्ष के बीच है। फैसल खान का दावा है कि उसने 35 लोगों को रूस भेजा। उन्हें रूस ने बताया था कि भारतीयों को युद्ध के अग्रिम मोर्चे पर तैनात नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह खुद पीड़ित हैं।

फैसल खान ने दावा किया कि उन्होंने उन्हें वापस लाने की कोशिश की। उन्होंने यह भी कहा कि इन लोगों के रूस पहुँचने के बाद जो हुआ वह उनके नियंत्रण से बाहर था। खान ने कहा कि जो लोग रूस गए वे सभी जोखिमों से अवगत थे। उन्होंने कहा कि अगर उनका इरादा उन्हें धोखा देने का होता तो वह कोई सबूत नहीं छोड़ते। उन्होंने कहा कि उन्होंने रूस पर अपने वीडियो नहीं हटाए हैं क्योंकि वह दोषी नहीं हैं।

फैसल खान मुंबई के दादर का रहने वाला है। वो साल 2008 में दुबई गया था और शुरू में सेल्समैन के तौर पर काम किया था। साल 2026 में उसने अपनी कंसल्टेंसी बाबाव्लॉग्स शुरू किया था। जानकारी के मुताबिक, साल 2018 में उससे धर्म परिवर्तन के मामले में पूछताछ भी की गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -