Tuesday, August 9, 2022
Homeविविध विषयअन्यअनोखी पहल: वोट डालिए और पेट्रोल भरवाने पर पाइये 50p प्रति ली की छूट

अनोखी पहल: वोट डालिए और पेट्रोल भरवाने पर पाइये 50p प्रति ली की छूट

उम्मीद है कि 58,000 डीलर सदस्यों में से लगभग 90 फीसदी लोग इस मुहिम में हिस्सा लेंगे। इस सब्सिडी का बोझ तेल कंपनियाँ नहीं बल्कि डीलर्स उठाएँगे।

चुनाव आयोग के साथ हर पार्टी वोट डालने के लिए मतदाताओं को जागरूक करने में जुटी हुई है। इसी कड़ी में मतदाताओं को वोटिंग लिए प्रेरित करने हेतु अब पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन भी आगे आया है। इसके लिए पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने वोटिंग के दिन मतदान करने के बाद पेट्रोल-डीजल की कीमत में छूट देने का ऐलान किया है। यानी, यदि आप मतदान के दिन वोट डालने के बाद पेट्रोल या डीजल भरवाते हैं, तो आपको पेट्रोल या डीजल के बिल में 50 पैसे प्रति लीटर की छूट दी जाएगी।

शुक्रवार (अप्रैल 5, 2019) को ऑल इंडिया पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन (AIPDA) ने अपने एक बयान में कहा, “हम मतदाताओं को वोटिंग के प्रति जागरूक करने के इरादे से ‘प्रमोट वोटिंग’ मुहिम शुरू कर रहे हैं, जिसके तहत वोट डालने पर 50 पैसे/लीटर की छूट मिलेगी। यह ऑफर इस मुहिम में हिस्सा लेने वाले पेट्रोल पंपों पर सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक उपलब्ध होगा। लाभ लेने के लिए ग्राहकों को अपनी उँगली पर लगे स्याही का निशान दिखाना होगा।”

AIPDA के अध्यक्ष अजय बंसल ने कहा कि वोटिंग के दिन हर ग्राहक 20 लीटर ईंधन पर छूट पा सकेगा। बंसल ने उम्मीद जताई है कि 58,000 डीलर सदस्यों में से लगभग 90 फीसदी लोग इस मुहिम में हिस्सा लेंगे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस सब्सिडी का बोझ तेल कंपनियाँ नहीं बल्कि डीलर्स उठाएँगे। देश में आम चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई तक 7 चरणों में होंगे और चुनाव परिणाम 23 मई को आएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने दिए 9 साल में सिर्फ 857 ऑनलाइन जॉब्स, चुनावी राज्यों में लाखों नौकरियों के वादे: RTI से खुलासा

केजरीवाल के रोजगार को लेकर बड़े-बड़े वादों और विज्ञापनों की पोल दिल्ली में नौकरियों पर डाले गए एक RTI ने खोल दी है।

जब सिंध में हिन्दुओं-सिखों का हो रहा था कत्लेआम, 10000 स्वयंसेवकों के साथ पहुँचे थे ‘गुरुजी’: भारत-Pak विभाजन के समय कहाँ थे कॉन्ग्रेस नेता?

विभाजन के दौरान पाकिस्तान में हिन्दुओं-सिखों की मदद के लिए न आई कोई राजनीतिक पार्टियाँ और ना ही आए वह नेता, जो उस समय इतिहास में खुद को दर्ज कराना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,564FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe