Friday, December 2, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा6 जगह, 32 बॉक्स, हर बॉक्स में 960 सिम कार्ड: बेंगलुरु में पाकिस्तानी जासूस...

6 जगह, 32 बॉक्स, हर बॉक्स में 960 सिम कार्ड: बेंगलुरु में पाकिस्तानी जासूस चला रहे थे अवैध टेलीफोन एक्सचेंज

पुलिस आयुक्त ने बताया कि जो ग्राहक इनके पास नए फोन कनेक्शन के लिए पहुँचते थे, उनका फिंगरप्रिंट ये दोनों इस्तेमाल कर सिम हासिल करते थे।

कर्नाटक पुलिस और सैन्य खुफिया की दक्षिणी कमान ने पाकिस्तान के लिए जासूसी करने वाले एक अवैध नेटवर्क का खुलासा किया है। नेटवर्क से जुड़े लोग छह टेलीफोन एक्सचेंज की मदद से सैन्य प्रतिष्ठानों की सूचनाओं और सेना की गतिविधियों को अपने पाकिस्तानी आकाओं तक पहुँचाते थे।

अप्रैल में सेना की सिलीगुड़ी हेल्पलाइन पर सेना की गतिविधियों की जानकारी माँगने वाले कई कॉल आने के बाद सेना के अधिकारियों के कान खड़े हो गए। कॉल करने वाला पाकिस्तानी जासूस खुद को सैन्य अधिकारी बताकर जानकारियाँ हासिल करना चाह रहा था।

जाँच में खुफिया एजेंसी ने पाया कि इस तरह के फोन कॉल मूवमेंट कंट्रोल ऑफिस (एमसीओ) के साथ-साथ प्रधान रक्षा लेखा नियंत्रक (पीसीडीए) के दफ्तरों में भी आए थे। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ने इन कॉल के लिए अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का इस्तेमाल किया ताकि वे भारतीय नागरिकों और सैन्य प्रतिष्ठानों में फोन कर जानकारियाँ जुटा सकें।

जाँच में पता चला कि ये कॉल बेंगलुरू से फॉरवर्ड किए जा रहे हैं। उसके बाद सेना ने बेंगलुरु पुलिस से संपर्क किया। सैन्य खुफिया और आतंकवाद निरोधी प्रकोष्ठ (एटीसी) ने 7 जून को संयुक्त छापेमारी कर दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया, जबकि एक हवाला संचालक को तटीय कर्नाटक के भटकल से गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा नेटवर्क से जुड़े दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि तमिलनाडु और केरल के रहने वाले दो लोगों को शहर से सात जून को गिरफ्तार किया गया था। उन दोनों की पहचान केरल के मलप्पुरम के इब्राहिम पुलत्ती बिन मोहम्मद कुट्टी और शहर के बीटीएम लेआउट में रहने वाले तिरुपुर, तमिलनाडु के गौतम बी विश्वनाथन के रूप में हुई है। दोनों ने बीटीएम लेआउट में छह अवैध टेलीफोन एक्सचेंजों का नेटवर्क स्थापित किया था। वहाँ से 32 सिम बॉक्स जब्त किए हैं जिनमें 960 सिम कार्ड एक बार में इस्तेमाल हो सकते हैं। इन्होंने शहर के छह अलग-अलग हिस्सों में ये 32 सिम बॉक्स लगाए थे।

खुफिया अधिकारियों के मुताबिक पाकिस्तानी एजेंसियाें ने अवैध टेलीफोन एक्सचेंजों में निवेश किया। इनके जरिए वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल को भारतीय मोबाइल कॉल में परिवर्तित कर सैन्य ठिकानों में सेंध लगाने की कोशिश। ‘दुश्मन देश’ अक्सर इन अवैध सिम बॉक्स का उपयोग संवेदनशील जानकारी प्राप्त करने और दूसरे देशों में अपने एजेंटों के साथ संपर्क बनाए रखने के लिए करते हैं और इन्हें ट्रेस करना आसान भी नहीं होता है।

बेंगलुरु शहर के पुलिस आयुक्त कमल पंत ने बताया कि जो ग्राहक इनके पास नए फोन कनेक्शन के लिए पहुँचते थे, उनका फिंगरप्रिंट ये दोनों इस्तेमाल करके सिम हासिल करते थे। वहीं, भटकल का रहने वाला हवाला के जरिए रकम की हेरफेर करता था।

बकौल पुलिस प्रमुख, इब्राहिम दुबई में ड्राइवर का काम कर चुका है और वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल (वीओआईपी) का इस्तेमाल कर बेंगलुरु में टेलीफोन एक्सचेंज स्थापित करने के लिए लौटा था। तमिलनाडु का रहने वाला गौतम एक्सचेंज का संचालन करता था। पंत ने बताया कि अधिकतर फोन कॉल्स पश्चिम एशिया से आते थे और वहाँ कुछ लोग कॉल करने में इब्राहिम की मदद करते थे। कॉल के लिए भुगतान दुबई में होता था और धन शोधन नेटवर्क के जरिए उसे भारत पहुँचाया जाता था।

पुलिस ने गिरफ्तार किए गए लोगों पर भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण और सरकारी खजाने को अवैध रूप से एक टेलीफोन एक्सचेंज बनाकर धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया गया है। वहीं, सेना की खुफिया और कानून प्रवर्तन प्रेस नोट में कहा गया है कि गिरफ्तार किए गए लोगों पर देश की सुरक्षा को बाधित करने का भी आरोप लगाया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मंदिर की जमीन पर शव दफनाने की अनुमति नहीं’: मद्रास हाईकोर्ट ने दिया अतिक्रमण हटाने का निर्देश

मद्रास हाईकोर्ट ने कहा कि शवों को दफनाने के लिए मंदिर की जमीनों का उपयोग नहीं किया जा सकता। कोर्ट ने अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया है।

हिंदुओं के 40 साल तक अवैध पार्टनर, मुस्लिम फॉर्मूला से 18 साल में लड़की की शादी करो… उपजाऊ जमीन में बीज बोओ: बदरुद्दीन अजमल

"आप उपजाऊ जमीन में बीज बोएँगे तभी खेती अच्छी होगी। 18-20 साल की उम्र में लड़कियों की शादी करा दो और फिर देखो कितने बच्चे पैदा होते हैं।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,564FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe