Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाBSF ने भारत-पाक बॉर्डर पर पकड़ी 150 गज लंबी सुरंग, सैंडबैग पर लिखा मिला...

BSF ने भारत-पाक बॉर्डर पर पकड़ी 150 गज लंबी सुरंग, सैंडबैग पर लिखा मिला ‘कराची’: पाकिस्तान से शुरू होकर सांबा में होती है समाप्त

"सैंडबैग्स के ऊपर पाकिस्तान की साफ-साफ मार्किंग हैं जो ये दिखाती हैं कि इसे (सुंरग) पूरी प्लानिंग और इंजीनियरिंग की कोशिशों के साथ खोदा गया है। पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य एजेंसियों की सहमति और अनुमोदन के बिना, इतनी बड़ी सुरंग का निर्माण नहीं किया जा सकता है।”

सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने एक बार फिर पाकिस्तान की बड़ी साजिश को नाकाम बना दिया है। भारतीय सीमा में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के इरादे से बनाई गई सुरंग का पता लगा है। यह सुरंग जिला सांबा में सीमा के साथ बनाई गई है जो पाकिस्तान में शुरू होती है और सांबा में समाप्त होती है।

जम्मू बीएसएफ आईजी एनएस जम्वाल ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि तलाशी अभियान के दौरान जवानों को यह सुरंग मिली। उन्होंने बताया कि इसका पता लगाने के लिए विशेष टीम गठित की गई। यह सुरंग जीरो लाइन से लगभग 150 गज लंबी है। यही नहीं सुरंग के मुँह को बजरी के बैग से बंद किया गया था ताकि किसी को इसका पता न चल सके। 

बीएसएफ आईजी एनएस जम्वाल का कहना है कि पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य एजेंसियों की मदद के बिना कोई भी घुसपैठिया इतनी बड़ी सुरंग का निर्माण नहीं कर सकता है। इससे साफ होता है कि इसमें पूरी तरह से पाकिस्तान की चाल है। बीएसएफ इसको लेकर पाकिस्तानी रेंजर्स के सामने विरोध दर्ज करवाएगी, ताकि दोषियों पर कार्रवाई हो सके। 

जम्मू बीएसफ के आईजी एनएस जम्वाल ने कहा, “सैंडबैग्स के ऊपर पाकिस्तान की साफ-साफ मार्किंग हैं जो ये दिखाती हैं कि इसे (सुंरग) पूरी प्लानिंग और इंजीनियरिंग की कोशिशों के साथ खोदा गया है। पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य एजेंसियों की सहमति और अनुमोदन के बिना, इतनी बड़ी सुरंग का निर्माण नहीं किया जा सकता है।”

अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ ने पूरे इलाके में बड़ा अभियान चलाया है ताकि पता लगाया जा सके कि कहीं और भी ऐसी सुरंगें तो नहीं हैं। इसके साथ ही, इस सुरंग को लेकर विश्लेषण किया जा रहा है, जिसका इस्तेमाल संभवत: आतंकवादियों की घुसपैठ और मादक पदार्थों और हथियारों की तस्करी के लिए किया गया हो।

अधिकारियों ने कहा कि सुरंग से लगभग 8-10 प्लास्टिक सैंडबैग बरामद किए गए हैं। इन बैगों पर ‘कराची और शकरगढ़’ लिखा हुआ है। बैग पर मैनुफैक्चरिंग और एक्सपायरी की तारीख भी है, जो यह दिखाता है कि उनका निर्माण हाल ही में किया गया था। उन्होंने कहा कि निकटतम पाकिस्तानी सीमा चौकी सुरंग से लगभग 400 मीटर दूर है।

बताया गया कि हाल में हुई बारिश के बाद कुछ स्थानों पर जमीन धँसने से बीएसएफ को आशंका हुई। अधिकारी ने बताया कि सुरंग का पता लगाने के लिए तत्काल मशीन मँगाई गई, मौके पर निरीक्षण करने पर पता चला कि सुरंग निर्माणाधीन है। जानकारी के मुताबिक, सुरंग करीब 25 फुट की गहराई में बनाई गई थी और यह बीएसएफ की ‘व्हेलबैक’ सीमा चौकी के नजदीक खुलती है।

बीएसएफ ने ऐसे अन्य किसी गुप्त ढाँचे का पता लगाने के लिए अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बड़ा अभियान चलाया है। गौरतलब है कि पाकिस्तान से लगती करीब 3,300 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी बीएसएफ के हाथों में है और पहले भी सीमा से लगते जम्मू के इलाकों में सुरंगों का पता चला है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रहे मदन लोकुर से पेगासस ‘इंक्वायरी’ करवाएँगी ममता बनर्जी, जिस NGO से हैं जुड़े उसे विदेशी फंडिंग

पेगासस मामले की जाँच के लिए गठित आयोग का नेतृत्व सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर करेंगे। उनकी नियुक्ति सीएम ममता बनर्जी ने की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,294FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe