Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाउमड़ने लगा 'बुरहान वानी प्रेम'... आतंकवादी को 'शहीद' साबित करने में जुटे अलगाववादी

उमड़ने लगा ‘बुरहान वानी प्रेम’… आतंकवादी को ‘शहीद’ साबित करने में जुटे अलगाववादी

तब मशहूर 'पत्रकार' बरखा दत्त ने बुरहान वानी को ‘स्कूल के हेडमास्टर का बेटा’ बताया था। और अब लोग उसे आतंकवादी की जगह शहीद के तौर पर याद कर रहे।

आज ट्विटर पर तमाम पाकिस्तानी और कश्मीर अलगाववादी एक आतंकवादी को याद कर रहे हैं। आज से ठीक चार साल पहले भारी सेना ने आतंकवादी बुरहान वानी को मार गिराया था। उसी की मौत को आज अलगावादियों का एक बड़ा समूह याद कर रहा है। ट्विटर पर उसकी तारीफ में यह समूह जुटा हुआ है। साथ ही ये लोग कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटाने का विरोध भी कर रहे। 

आज ट्विटर पर इस तरह के ट्वीट की भरमार है, जिसमें सिर्फ बुरहान वानी का ज़िक्र हो रहा है। लेकिन अफ़सोस एक आतंकवादी के तौर पर नहीं बल्कि एक शहीद के तौर पर। 

पाकिस्तान के लोग बुरहान वानी को शहीद का दर्जा दे रहे हैं। 

इनमें से कुछ लोग उसे नस्लीय घृणित वामपंथी चे ग्वेरा का भी दर्जा दे रहे हैं। 

संभावित रूप से पाकिस्तान का ट्वीटर एकाउंट, तुर्की महिला के नाम से बुरहान वानी की प्रशंसा कर रहा है। 

सकीबुल नाम का व्यक्ति, जिसके ट्विटर नाम के ठीक आगे बंग्लादेश का झंडा लगा है, वह बंग्लादेश से होने का दावा कर रहा है। उसने बुरहान वानी को शहीद बताया है। 

एक और ट्विटर एकाउंट जो खुद कश्मीर से होने का दावा कर रहा है, उसने यह लिखा कि वानी के मरने के बाद घाटी में कई वानी पैदा होंगे।

साल 2016 के जुलाई महीने में सुरक्षाबलों और आतंकवादी बुरहान वानी के बीच काफी गोलीबारी हुई थी। अनंतनाग ज़िले के कोंकणनाग में चली इस गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने बुरहान वानी को मार गिराया था।

पिछले कई सालों से सुरक्षाबल इस आतंकवादी की तलाश में जुटे हुए थे। हैरानी की बात यह थी कि वानी की मौत के बाद तमाम लोग और मीडिया समूह उसकी छवि बतौर ‘शहीद’ स्थापित करने में जुट गए थे। 

मशहूर ‘पत्रकार’ बरखा दत्त ने बुरहान वानी को ‘स्कूल के हेडमास्टर का बेटा’ बताया था। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला सेना को शुभकामनाएँ देने की जगह बुरहान वानी की चिंता में अधिक व्यस्त थे। सामाजिक कार्यकर्ता कविता कृष्णन ने इस कार्रवाई पर खेद जताते हुए इसे असंवैधानिक बताया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe