Tuesday, June 18, 2024
Homeदेश-समाजपुणे पुलिस की गिरफ्त से भागे ISIS आतंकी शाहनवाज को दिल्ली पुलिस ने किया...

पुणे पुलिस की गिरफ्त से भागे ISIS आतंकी शाहनवाज को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार, बम धमाके की बना रहा था योजना: जामिया से दो साथी भी धराए

फरार होने वालों के नाम रिज़वान अब्दुल हाजी, अब्दुल्लाह फ़ैयाज़ शेख और तलहा लियाकत खान है। इन तीनों के साथ शाहनवाज पर भी 3-3 लाख रुपए का इनाम रखा गया था। शाहनवाज की गिरफ्तारी के बाद अधिकारियों का दावा है कि पुणे ISIS केस में फरार अन्य आरोपितों को भी जल्दी गिरफ्तार किया जाएगा।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ISIS के एक आतंकी शाहनवाज आलम उर्फ़ शैफी उज्जमा उर्फ अब्दुल्ला को गिरफ्तार किया है। शाहनवाज पर NIA ने 3 लाख रुपए का इनाम घोषित किया था। ISIS से जुड़े एक मामले में वह पुणे पुलिस की गिरफ्त से फरार था और दिल्ली में छिपकर रहता था।

शाहनवाज दिल्ली में आतंकी संगठन ISIS के स्लीपर सेल तैयार कर रहा था। शाहनवाज से हुई पूछताछ के आधार पर 2 अन्य संदिग्ध भी पकड़े गए हैं। इन सभी को जामिया इलाके से पकड़ा गया है। सोमवार (2 अक्टूबर 2023) को दिल्ली पुलिस ने इस कार्रवाई की पुष्टि की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गिरफ्तार आतंकी शाहनवाज मूल रूप से दिल्ली का रहने वाला है। पेशे से वह इंजिनियर है और पुणे में रहता था। शाहनवाज इसी साल महाराष्ट्र के पुणे में सामने आए ISIS मॉड्यूल का मेंबर था। तब उसके नेटवर्क में अब्दुल्ला शेख, रिज़वान अब्दुल हाजी और तलहा लियाकत खान भी शामिल मिले थे।

शाहनवाज को पुणे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन वो पुलिस कस्टडी से भाग निकला था। तब से उसकी तलाश NIA सहित बाकी एजेंसियाँ कर रहीं थीं। रविवार (1 अक्टूबर) को NIA ने दिल्ली के कुछ हिस्सों में दबिश भी डाली थी। हालाँकि तब शाहनवाज को गिरफ्तार नहीं किया जा सका था।

इस बीच दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को शाहनवाज के जामिया इलाके में होने की सूचना मिली। पुलिस ने दबिश डालकर शाहनवाज को गिरफ्तार कर लिया। शाहनवाज ने पूछताछ में अपने 2 साथियों के भी नाम बताए। पुलिस ने उन दोनों संदिग्धों को भी जामिया इलाके से दबोच लिया।

बताया जा रहा है कि आरोपितों के पास से कुछ तरल पदार्थ बरामद हुआ है। प्रथम दृष्टया इसे हथियार बनाने का सामान माना जा रहा है। हालाँकि, बरामद सामान को जाँच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा कि वह है क्या। पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ भी की जा रही है।

शाहनवाज ने ISIS के विदेशी आतंकियों से टेलीग्राम एप पर दोस्ती की थी। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक ये सभी विदेशी आकाओं से निर्देश ले रहे थे। तीनों मिलकर उत्तरी दिल्ली में किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में भी थे।

क्या था पुणे ISIS मॉड्यूल

दरअसल में पुणे पुलिस ने इसी साल जुलाई महीने में चोरी की बाइक के साथ 2 लोगों को पकड़ा था। इसमें शाहनवाज भी था। शुरुआत में पुलिस ने दोनों को वाहन चोर समझा पर जाँच में उनके ISIS नेटवर्क से जुड़े होने की बात सामने आई। इस बीच शाहनवाज पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया था।

ISIS का संबंध सामने आने के बाद इस मामले की जाँच में NIA भी शामिल हुई। इसके बाद इस साल अगस्त माह में पुणे के कोंढवा स्थित एक घर में दबिश डाली। दबिश के दौरान बम बनाने और ब्लास्ट करने की ट्रेनिंग लेते हुए 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इस दौरान 3 अन्य संदिग्ध फरार हो गए थे।

फरार होने वालों के नाम रिज़वान अब्दुल हाजी, अब्दुल्लाह फ़ैयाज़ शेख और तलहा लियाकत खान है। इन तीनों के साथ शाहनवाज पर भी 3-3 लाख रुपए का इनाम रखा गया था। शाहनवाज की गिरफ्तारी के बाद अधिकारियों का दावा है कि पुणे ISIS केस में फरार अन्य आरोपितों को भी जल्दी गिरफ्तार किया जाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दलितों का गाँव सूना, भगवा झंडा लगाने पर महिला का घर तोड़ा… पूर्व DGP ने दिखाया ममता बनर्जी के भतीजे के क्षेत्र का हाल,...

दलित महिला की दुकान को तोड़ दिया गया, क्योंकि उसके बेटे ने पंचायत चुनाव में भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ा था। पश्चिम बंगाल में भयावह हालात।

खालिस्तानी चरमपंथ के खतरे को किया नजरअंदाज, भारत-ऑस्ट्रेलिया संबंधों को बिगाड़ने की कोशिश, हिंदुस्तान से नफरत: मोदी सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार में जुटी ABC...

एबीसी न्यूज ने भारत पर एक और हमला किया और मोदी सरकार पर ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानियों की हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -