Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाएनकाउंटर स्पेशलिस्ट ACP ललित मोहन नेगी करेंगे लाल किले पर हुई हिंसा की जाँच:...

एनकाउंटर स्पेशलिस्ट ACP ललित मोहन नेगी करेंगे लाल किले पर हुई हिंसा की जाँच: देखें वायरल हुई सारी वीडियो और तस्वीरें

आज लाल किले के अंदर और बाहर की एक वीडियो साझा किया गया है। इसमें आप दंगाइयों के आक्रामक रवैए को देख सकते हैं। वीडियो में सभी प्रदर्शनकारियों के हाथों में डंडे हैं। वहीं कई लोग घोड़े पर सवार देखे जा सकते हैं। कहीं दंगाई पुलिस की गाड़ियों को तोड़फोड़ रहे हैं तो कहीं आक्रामक तरीके से ट्रैक्टर चलाते हुए दिखाई दे रहे हैं।

गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले में हुई हिंसा और बर्बरता की घटना की जाँच के लिए कथिततौर पर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट एसीपी ललित मोहन नेगी को यूएपीए का नया इन्वेस्टिगेटिंग ऑफिसर नियुक्त किया गया है। बता दें, 26 जनवरी के दौरान हुए बवाल में शामिल लोगों के खिलाफ यूएपीए और देशद्रोह की कुछ धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जा रहा है।

न्यूज़ एजेंसी ANI ने आज लाल किले के अंदर और बाहर की एक वीडियो साझा की है। इसमें आप दंगाइयों के आक्रामक रवैए को देख सकते हैं। वीडियो में सभी प्रदर्शनकारियों के हाथों में डंडे हैं। वहीं कई लोग घोड़े पर सवार देखे जा सकते हैं। कहीं दंगाई पुलिस की गाड़ियों को तोड़फोड़ रहे हैं तो कहीं आक्रामक तरीके से ट्रैक्टर चलाते हुए दिखाई दे रहे हैं।

याद दिला दें, लाल किले पर गणतंत्र दिवस के दिन किसान दंगाइयों ने खूब उत्पात मचाया था। प्रदर्शनकारियों ने तिरंगे का अपमान करते हुए वहाँ कथिततौर पर ‘खालिस्तानी’ झंडा फहराया था। किले के अंदर काफी तोड़फोड़ और तबाही भी मचाई गई थी। धीरे-धीरे किले के अंदर हुए नुकसान की सारी तस्वीरें अब सामने आ रही हैं।

वायरल हो रही तस्वीर और वीडियो ने ट्रैक्टर रैली के दौरान तथाकथित किसानों के रूप में शामिल दंगाइयों की पूरी पोल पट्टी खोल दी है। सामने आई तस्वीरों में किले के अंदर चकनाचूर हुए शीशों, पलटे हुए काउंटर को साफ देखा जा सकता है। इसके अतिरिक्त अन्य चीजें भी तितर-बितर हो रखी हैं। इनके साथ लाल किले में पुलिसकर्मियों की टोपियाँ भी पड़ी हैं।

किसान प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिस पर किए हमले का एक वीडियो भी सामने आया है। इसमें देखा गया कि कैसे भीड़ द्वारा किए गए हमले से पुलिसकर्मी एक-एक कर लाल किले की दीवार से नीचे गिरते जा रहे हैं।

एक वायरल वीडियो में यह भी देखा गया कि उपद्रवियों की भीड़ में से लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा लगाने के लिए खम्बे पर चढ़ा और भीड़ में से जब एक आदमी ने उसकी ओर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

एक अन्य वीडियो भी है जिसमें स्पष्टतौर पर फहराए गए ‘खालिस्तानी’ झंडे को देखा जा सकता हैं। वीडियो में तीन युवक लाल किले की प्राचीर पर चढ़े हुए है। वहीं एक युवक नीचे राष्ट्रीय तिरंगे को भी लेकर खड़ा है। ऊपर चढ़ा एक प्रदर्शकारी पहले निशान साहिब के एक झंडे को तिरंगे के पास लगाते हुए नारे लगाता है। उसके बाद वहाँ खड़ा दूसरा आंदोलनकारी खालिस्तानी तिरंगे को ऊपर उठाता है और सिखों के धार्मिक निशान साहिब के झंडे से ठीक ऊपर ‘खालिस्तानी’ झंडे को लहराते हुए दिखाई देता है।

इन सब के अलावा एक और वीडियो वायरल हुई थी जिसमें लाल किले के अंदर घुसे प्रदर्शनकारियों को किले की दीवार पर पेशाब करते हुए भी देखा गया।

मालूम हो कि किसान ट्रैक्टर रैली के बाद जहाँ लाल किला को काफी हानि पहुँची है, वहीं पूरे आयोजन का सबसे बुरा प्रभाव पुलिसकर्मियों पर पड़ा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक लगभग 300 से अधिक पुलिसकर्मी इस हिंसा में घायल हुए थे।

गौरतलब है कि एनकाउंटर स्पेशलिस्ट एसीपी ललित मोहन नेगी को लाल किले पर हुई घटना की जाँच के लिए नियुक्त किए जाने की खबर आने के बाद से ही सोशल मीडिया पर काफी हलचल दिखाई दे रही है। लोग तमाम तरीके के मीम्मस शेयर कर दंगाइयों और उनके सरगनाओं के मजे ले रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -