Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाबालाकोट में फिर सक्रिय जैश आतंकी: सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए 40-50 फिदायीन...

बालाकोट में फिर सक्रिय जैश आतंकी: सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए 40-50 फिदायीन ले रहे ट्रेनिंग

भारतीय वायुसेना द्वारा एयरस्ट्राइक के बाद से बालाकोट में आतंकियों का ये कैंप बंद था। लेकिन अब तकरीबन 6 महीने बाद इसे खोल दिया गया। जिससे यहाँ आतंकी गतिविधियाँ दोबारा से चालू होने की खबर है।

IAF की एयरस्ट्राइक के 6 महीने बाद पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी एक बार फिर से सक्रिय हो गए हैं। जानकारी के अनुसार जैश-ए-मोहम्मद के 40 से 50 आतंकवादी इस समय वहाँ ट्रेंनिंग ले रहे हैं, जिनमें फिदायीन हमलावर भी शामिल हैं। इन्हें सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए बालाकोट भेजा गया है। जिनके ट्रेनिंग कैंप पर टेक्निकल सर्विलांस के जरिए बराबर नजर रखी जा रही है।

उल्लेखनीय है कि भारतीय वायुसेना द्वारा एयरस्ट्राइक के बाद से बालाकोट में आतंकियों का ये कैंप बंद था। लेकिन अब तकरीबन 6 महीने बाद इसे खोल दिया गया। जिससे यहाँ आतंकी गतिविधियाँ दोबारा से चालू होने की खबर है।

बता दें कि पिछले महीने सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि पाकिस्तान के बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी फिर से सक्रिय हो गए हैं। उन्होंने कहा था कि करीब 500 आतंकवादी इस समय घुसपैठ के इंतजार में हैं और पाक सेना उन्हें बॉर्डर पार से फायरिंग करके मदद करने की कोशिश कर रही है।

लेकिन इस दौरान उन्होंने ये भी आश्वासन दिया था कि किसी भी प्रकार की घुसपैठ को रोकने के लिए भारतीय सेना के जवान अलर्ट पर हैं।

सेनाध्यक्ष ने सरहद पर जारी तनाव के संदर्भ में कहा था कि हमारी उत्तर-पश्चिम की सीमाओं पर तनाव की स्थिति है। हर देश को अपनी सीमाओं को सुरक्षित करना होगा। उन्होंने इस दौरान कहा था। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि देश में किसी भी तरह से घुसपैठ न होने पाए। पाकिस्तान का नाम लिए बिना सेनाध्यक्ष ने बयान दिया था कि हमारा पश्चिमी पड़ोसी राज्य प्रायोजित आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और जम्मू-कश्मीर में हिंसा फैलाने की कोशिश कर रहा है।

ग़ौरतलब है कि पुलवामा में आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी को भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान स्थित बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर एयरस्ट्राइक की थी। भारतीय वायु सेना की इस एयरस्ट्राइक में जैश के ट्रेनिंग कैम्प ध्वस्त हो गए थे। वायु सेना की रिपोर्ट के अनुसार बालाकोट में उनके 80% निशाने सही लगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe