Tuesday, November 30, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'अल्लाह आजादी के लड़ाकों को ताकत दे': पाकिस्तानियों ने हंदवाड़ा मुठभेड़ का मनाया जश्न,...

‘अल्लाह आजादी के लड़ाकों को ताकत दे’: पाकिस्तानियों ने हंदवाड़ा मुठभेड़ का मनाया जश्न, ऑफिसर समेत 4 वीरगति को प्राप्त

हंदवारा में आतंकियों से मुठभेड़ के बीच भारतोय सेना और पुलिस के 4 ऑफिसर और जवान फँस गए थे, जिनसे सम्पर्क नहीं हो पा रहा था। अब उन सभी के वीरगति को प्राप्त होने की ख़बर आई है। पाकिस्तानियों ने हंदवारा मुठभेड़ की इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर जश्न मनाना शुरू कर दिया है।

जम्मू कश्मीर के हंदवारा में आतंकियों से मुठभेड़ के बीच भारतोय सेना और पुलिस के 4 ऑफिसर और जवान फँस गए थे, जिनसे सम्पर्क नहीं हो पा रहा था। अब उन सभी के वीरगति को प्राप्त होने की ख़बर आई है। इनमें दो वरिष्ठ रैंक के अधिकारी हैं, जिनमें एक कर्नल रैंक के और एक मेजर हैं। पाकिस्तानियों ने हंदवारा मुठभेड़ की इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर जश्न मनाना शुरू कर दिया है।

पाकिस्तानी ट्विटर हैंडलों ने इस घटना की तुलना अभिनन्दन प्रकरण से की। बता दें कि शनिवार (मई 2, 2020) की रात वहाँ 12 घंटों तक मुठभेड़ चली।

रात भर संशय के माहौल के बाद अब उन जवानों के वीरगति को प्राप्त होने की ख़बर आई है। उन जवानों में एक जम्मू कश्मीर पुलिस से हैं और एक दूसरे सिक्यॉरिटी फोर्स के। शनिवार दोपहर 3:30 बजे सशस्त्र बलों और आतंकियों के बीच फायरिंग चालू हुई थी। हंदवारा उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा में स्थित है। इससे 1 दिन पहले उरी में पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया था, जिसमें 2 जवान वीरगति को प्राप्त हो गए थे।

इसी बीच दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में स्थित डंगरपोरा में भी दो आतंकियों के मारे जाने की ख़बर है। वहाँ स्थानीय लोगों ने भी आतंकियों के समर्थन में पत्थरबाजी की। वहाँ सीआरपीएफ पर ग्रेनेड से हमला किया गया था। अगर हंदवारा की घटना पर लौटें तो सभी जवान चंजमुल्ला क्षेत्र में फँसे हुए थे। उनकी मुठभेड़ पाकिस्तान से घुसपैठ कर के आए आतंकियों से हुई।

इसी बीच पाकिस्तानी ट्विटर हैंडल्स ने आतंकियों की इस कार्रवाई का समर्थन करते हुए भारत का मजाक बनाया। तैयब ज़हीर ने विंग कमांडर (तब) अभिनन्दन की फोटो शेयर करते हुए इसे कोरोना से जोड़ा और लिखा- ‘स्टे होम, स्टे सेफ‘। बता दें कि पाकिस्तानी एफ-16 को मार गिराने वाले अभिनन्दन वहाँ की फ़ौज के कब्जे में आ गए थे, जिसके बाद भारत ने उनकी सकुशल घर-वापसी सुनिश्चित की थी। तब पूरा देश उनकी राह देख रहा था।

राणा मुबाशिर अली ने बॉलीवुड फिल्मों से तुलना कर भारतीय जवानों और ख़ुफ़िया एजेंसियों को नीचा दिखाने की कोशिश की। उसने दिखाया कि रॉ एजेंट फिल्मों में ‘एक था टाइगर’ के सलमान ख़ान जैसे होते हैं जबकि असल में कुलभूषण जाधव की तरह। साथ ही उसने बच्चियों तक को नहीं छोड़ा। उसने दिखाया कि फिल्मों में कश्मीरी लड़की ‘बजरंगी भाईजान’ के मुन्नी की तरह होती है जबकि असली कश्मीरी लड़की के नाम पर उसने एक बच्ची की फोटो शेयर की, जिसका एक आँख जख्मी हो चुका था और वो पट्टी बाँधे है।

इमरान ख़ान की प्रोफाइल पिक्चर वाले ट्विटर यूजर मलिक ने उस दृश्य को शेयर किया, जहाँ पाकिस्तानी फ़ौज अभिनन्दन को लेकर जाते हुए प्रतीत हो रही है। साथ ही उसने लिखा कि इतिहास उसे फ़रवरी 2019 की याद दिला रहा है। अदनान राजपुर नामक व्यक्ति ने दावा किया कि ये सब पीएम मोदी द्वारा रचा गया ‘ड्रामा’ है, ताकि वो ‘जम्मू कश्मीर में किए जा रहे अत्याचार और कोरोना से निपटने में मिली नाकामी’ से लोगों का ध्यान हटा सकें। एक ने लिखा कि अल्लाह उन ‘आज़ादी के लड़ाकों’ को और ताक़त दे।

दरअसल, हंदवारा में एक इमारत में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद जॉइंट ऑपरेशन लॉन्च किया गया था। जवानों ने नागरिकों और उनकी संपत्ति को नुकसान पहुँचाए बिना आतंकियों को मार गिराने का प्रयास किया। आतंकियों को मार गिराने के लिए चार जवान इमारत के भीतर गए, जिनसे संपर्क टूट गया था। वहाँ रजवार में घने जंगल भी हैं, जहाँ और आतंकियों के छिपे होने की आशंका है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe