Thursday, July 29, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाजम्मू-कश्मीरः 14 अक्टूबर दोपहर 12 बजे से बहाल हो जाएँगी पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवाएँ

जम्मू-कश्मीरः 14 अक्टूबर दोपहर 12 बजे से बहाल हो जाएँगी पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवाएँ

पिछले महीने सरकार ने टेलीफोन के सभी एक्सचेंज चालू कर दिए थे और लैंडलाइन सेवाओं को बहाल कर दिया था। सितंबर महीने में कुपवाड़ा जिले में मोबाइल सेवा को भी बहाल कर दिया गया था।

जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे हैं, इसी के मद्देनजर प्रशासन ने पोस्टपेड मोबाइल सेवाएँ बहाल करने का फैसला किया है। सोमवार (अक्टूबर 14, 2019) दोपहर 12 बजे के बाद से मोबाइल सेवाओं पर पाबंदी हटा ली जाएगी। इस बात की जानकारी जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव रोहित कंसल ने दी।

रोहित कंसल ने शनिवार (अक्टूबर 12, 2019) को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया कि स्थिति की समीक्षा करने के बाद जम्मू-कश्मीर के शेष क्षेत्रों में मोबाइल फोन सेवाओं को बहाल करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि सभी इलाकों में सोमवार दोपहर 12 बजे से सभी पोस्टपेड मोबाइल कनेक्शन शुरू कर दिए जाएँगे। इसमें कश्मीर प्रांत के सभी 10 जिले शामिल होंगे।

बता दें कि पिछले महीने सरकार ने टेलीफोन के सभी एक्सचेंज चालू कर दिए थे और लैंडलाइन सेवाओं को बहाल कर दिया था। सितंबर महीने में कुपवाड़ा जिले में मोबाइल सेवा को भी बहाल कर दिया गया था। इसके अलावा आवश्यक सेवाओं और अन्य कार्यालयों से संबंधित अधिकारियों के मोबाइल नंबर भी बहाल किए गए। वहीं सभी स्वास्थ्य संस्थान भी पूरी तरह से काम कर रहे हैं।

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के बाद क्षेत्र में सुरक्षा चिंताओं के मद्देनजर 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में मोबाइल नेटवर्क और लैंडलाइन कनेक्शन निलंबित कर दिए गए थे। स्थिति सामान्य होने के बाद 29 अगस्त को जम्मू जिले के पाँच जिलों- डोडा, किश्तवाड़, रामबन, राजौरी और पुंछ में पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवाएँ फिर से शुरू की गईं। 12 सितंबर को कंसल ने कहा था कि कुपवाड़ा और हंदवाड़ा में काफी संख्या में मोबाइल काम करते हैं। 

सरकार ने कई बार कहा है कि इन सेवाओं के दुरुपयोग को रोकने के लिए घाटी में मोबाइल सेवाओं पर प्रतिबंध लगाए गए थे। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा था कि मोबाइल और इंटरनेट का उपयोग अफवाह फैलाने और भारत विरोधी गतिविधियों के लिए किया जाता है। लोग मोबाइल और इंटरनेट के लिए इंतजार कर सकते हैं, लेकिन वो नहीं चाहते कि किसी एक की भी जान जाए। मोबाइल फोन सेवाओं को बहाल करने का फैसला राज्यपाल द्वारा 10 अक्टूबर से पर्यटकों पर लगी रोक को वापस लेने के 2 दिन बाद लिया गया है। साथ ही रोहित कंसल ने यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर का 99 प्रतिशत हिस्सा अब प्रतिबंध मुक्त है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,735FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe