Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा127 आतंकियों का कबूलनामा: ISIS में शामिल होने के लिए जाकिर नाइक के भाषणों...

127 आतंकियों का कबूलनामा: ISIS में शामिल होने के लिए जाकिर नाइक के भाषणों ने उकसाया

अब तक आईएसआईएस से संबंधित मामलों में 127 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। जिनमें तमिलनाडु के 33, उत्तरप्रदेश के 19, केरल के 17 और तेलंगाना के 14 लोग शामिल हैं।

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी द्वारा आयोजित एटीएस प्रमुखों की बैठक में आज एनआईए ने कई चौंकाने वाला खुलासे किए। इसमें उन्होंने जाकिर नाइक से जुड़े तथ्य के बारे में भी खुलासा खिया। उन्होंने बताया कि सुरक्षा एजेंसियों द्वारा पकड़े गए ISIS के 127 संदिग्ध आतंकियों में से कई लोगों ने इस बात को स्वीकारा है कि वे सभी कट्टरपंथी इस्लामिक स्पीकर जाकिर नाइक के भाषणों से प्रेरित हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार NIA के निदेशक ने बताया कि आईएसआईएस को ज्वॉइन करने वाले आतंकी और उनके सहानुभूति रखने वाला हर शख्स जाकिर नाइक के भाषणों से प्रेरित था।

इसके बाद योगेश चंद्र मोदी ने पुलिस अधिकारियों के समक्ष देश में बढ़ते आतंकी खतरे को भी साझा किया। उन्होंने बताया कि बांग्लादेशी आतंकी संगठन जमात उल मुजाहिद्दीन अपने पैर बिहार, महाराष्ट्र, केरल और कर्नाटक में पसार रहा है।

वहीं, बता दें कि आईजी आलोक मित्तल ने बैठक को संबोधित करते हुए बताया कि अब तक आईएसआईएस से संबंधित मामलों में 127 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। जिनमें तमिलनाडु के 33, उत्तरप्रदेश के 19, केरल के 17 और तेलंगाना के 14 लोग शामिल हैं।

उनके अनुसार तो तमिलनाडु और केरल के तीन मामलों में, आरोपितों ने इस बात को स्वीकारा कि उन्हें इस राह पर चलने के लिए जहरान हाशिम की वीडियो ने उकसाया। जहरान वही शक्स है जो श्रीलंका में ईस्टर पर हुए धमाकों का मास्टरमाइंड है। 

यहाँ जाकिर नाइक के बारे में बता दें कि जाकिर नाईक भारत में नफरत फैलाने वाले अपने भाषणों से युवाओं को आतंकवादी गतिविधयों के लिए उकसाने और मनी लॉन्ड्रिंग जैसे मामलों का आरोपित है। जिसपर भारत में एनआईए जाँच चल रही है। जाँच एजेंसी ने आतंकरोधी कानून के तहत 2016 में सर्वप्रथनम नाईक के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया था। इसके अलावा बांग्लादेश की राजधानी ढाका में हुए हमले को लेकर भी नाईक पर जाँच चल रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -