Tuesday, October 19, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाभारत-पाक सीमा पर कभी भी बिगड़ सकती है स्थिति, जनरल रावत ने कहा- सेना...

भारत-पाक सीमा पर कभी भी बिगड़ सकती है स्थिति, जनरल रावत ने कहा- सेना पूरी तरह तैयार

"हर प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए भारतीय सेना को पूरी तरह तैयार रहना पड़ेगा। एलओसी पर विशेष सतर्कता रखने की ज़रूरत है क्योंकि पाकिस्तान कभी भी भड़काऊ हरकत कर सकता है।"

पाकिस्तान से आ रही परमाणु युद्ध की धमकियों के बीच भारतीय सेना प्रमुख ने बड़ा बयान दिया है। सेनाध्यक्ष जनरल विपिन रावत ने कहा कि सीमा पर स्थिति कभी भी बिगड़ सकती है। उन्होंने कहा कि हर प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए भारतीय सेना को पूरी तरह तैयार रहना पड़ेगा। जनरल रावत ने कहा कि एलओसी पर विशेष सतर्कता रखने की ज़रूरत है क्योंकि पाकिस्तान कभी भी भड़काऊ हरकत कर सकता है। हालाँकि, उन्होंने यह भी बताया कि भारत की सेना ऐसी किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए एकदम तैयार है।

अगस्त में केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त कर दिया था, जिसके बाद जम्मू कश्मीर विशेष राज्य नहीं रहा और इसे मिले विशेषाधिकार भी नहीं रहे। साथ ही राज्य को पुनर्गठित कर दो केंद्र शासित प्रदेशों में बदल दिया गया। इसके बाद से ही बौखलाए पाकिस्तान ने सीजफायर उल्लंघन की घटनाओं में तेज़ी ला दी है। पाकिस्तानी फौज ने भारत को भड़काने के लिए आतंकियों की घुसपैठ चालू कर दी है। हालाँकि पाकिस्तान की लाख कोशिशों के बावजूद भारतीय सेना ने कई पाकिस्तानी बैट कमांडो को सीमा पर ही चित कर दिया है।

इन्हीं सारी घटनाओं के बीच जनरल रावत ने कहा है कि पाकिस्तान ऐसा देश है, जिसे नियंत्रित करने की ज़रूरत ही नहीं है। इसके पीछे कारण बताते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि पाकिस्तान ख़ुद अपने ख़ात्मे की तरफ बढ़ रहा है। अगस्त से अक्टूबर तक पाकिस्तान ने सीमा पार से 950 बार सीजफायर उल्लंघन की वारदातों को अंजाम दिया है। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने संसद में इस बाबत जानकारी दी थी। वहीं सेनाध्यक्ष रावत ने कहा कि पाकिस्तान ख़ुद की हरकतों की वजह से लगातार अनियंत्रित होता जा रहा है।

जनरल रावत ने कहा कि भारतीय सेना के कुछ किए बिना ही पाकिस्तान ख़त्म होने की तरफ बढ़ रहा है। भारत सरकार ने हाल ही में सीएए लागू किया, जिसके तहत पाकिस्तान से आए प्रताड़ित अल्पसंख्यक शरणार्थियों को भारत की नागरिकता मिलेगी। वहाँ के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने इस क़दम का विरोध करते हुए कहा है कि इससे पूरे दक्षिण एशिया में स्थिति बिगड़ सकती है। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत का ये ये क़दम क्षेत्र में परमाणु युद्ध की स्थिति उत्पन्न कर सकता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe