Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिबजट 2019: जब संसद में गूँजा 'हाउ इज़ द जोश?'

बजट 2019: जब संसद में गूँजा ‘हाउ इज़ द जोश?’

कार्यवाहक वित्त मंत्री ने पीयूष गोयल ने कहा कि यह सरकार सैनिक, किसान, महिलाओं, स्वास्थ्य, रोज़गार जैसे विभिन्न मुद्दों के साथ 'नए भारत' के सपने को साकार करने के ले प्रतिबद्ध है।

हाल ही में सर्जिकल स्ट्राइक पर बनी विक्‍की कौशल की फ़िल्‍म ‘उरी: द सर्जिकल स्‍ट्राइक’ बहुत चर्चा में है। कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने भी बजट भाषण के बीच में इस फ़िल्म का ज़िक्र कर बजट भाषण के माहौल में और उत्साह झोंक दिया। इसके साथ ही आज के बजट भाषण में ₹5 लाख तक की वार्षिक आय पर टैक्स में छूट देने की जैसे ही घोषणा हुई, संसद ‘मोदी-मोदी’ के नारों से गूँजने लगी।

दरअसल पीयूष गोयल मनोरंजन जगत के लिए लिए बजट में किए गए प्रावधान की जानकारी दे रहे थे। इसके साथ ही उन्होंने फ़िल्‍म की जमकर तारीफ़ की और एनडीए के सांसदों ने How’s the Josh के डायलॉग को दोहराया। पीयूष गोयल ने कहा, “मनोरंजन जगत से कई लोगों को रोज़गार मिलता है और हम सभी फ़िल्‍में देखते ही हैं।”

अपने बजट भाषण के अंत में जैसे ही पीयूष गोयल ने ₹5 लाख के दायरे को टैक्स मुक्त करने की घोषणा की, सांसदों ने उत्साह में ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगाना शुरू कर दिया।

यह बजट किसानों और माध्यम वर्ग को समर्पित है। कार्यवाहक वित्त मंत्री ने पीयूष गोयल ने कहा कि यह सरकार सैनिक, किसान, महिलाओं, स्वास्थ्य, रोज़गार जैसे विभिन्न मुद्दों के साथ ‘नए भारत’ के सपने को साकार करने के ले प्रतिबद्ध है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -