सिद्धू, राजनीति छोड़ो: पंजाब में लगे पोस्टर, ‘गुरू’ की मुश्किलें बढ़ीं

अप्रैल में रायबरेली में सिद्धू ने चुनौती दी थी कि अगर अमेठी के गढ़ में स्मृति राहुल गाँधी को हरा दें तो वह (सिद्धू) राजनीति छोड़ देंगे। और अब पोस्टरों पर लिखा जा रहा है...

लुधियाना की जनता सिद्धू को उनका वादा याद दिला रही है। जब स्मृति ईरानी ने दूसरी बार अमेठी के राजनीतिक अखाड़े में राहुल गाँधी को चुनौती दी थी तो कॉन्ग्रेस नेता और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने उनकी खिल्ली उड़ाते हुए कहा था कि अगर वह (स्मृति) राहुल गाँधी को हरा ले गईं तो सिद्धू राजनीति छोड़ देंगे। अब लुधियाना की पखोवाल रोड पर उन्हें अपना ‘वचन’ निभाते हुए इस्तीफा देने की माँग करने वाले पोस्टर लगने लगे हैं।

अप्रैल में रायबरेली में सिद्धू ने चुनौती दी थी कि अगर अमेठी के गढ़ में स्मृति राहुल गाँधी को हरा दें तो वह (सिद्धू) राजनीति छोड़ देंगे। और अब पोस्टरों पर लिखा जा रहा है, “आप राजनीति कब छोड़ रहे हैं? अपने शब्दों पर टिके रहने का समय आ गया है। हम आपके इस्तीफे का इंतज़ार कर रहे हैं।” हालाँकि यह साफ नहीं हो पाया है कि यह पोस्टर किसने सड़क से लगी दीवारों पर चिपकाए हैं। इससे पहले मोहाली में भी ऐसे पोस्टर सामने आ चुके हैं।

सिद्धू को हाल ही में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने स्थानीय सरकार, पर्यटन, सांस्कृतिक मामले और म्यूज़ियम जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालयों से हटा कर ऊर्जा एवं नवीन ऊर्जा स्रोत मंत्रालयों का प्रस्ताव दिया था। इसे उनके पर कतरे जाना माना जा रहा था। लेकिन दो हफ्ते बीत जाने के बाद भी सिद्धू ने अब तक इस मंत्रालय का प्रभार नहीं संभाला है। माना जा रहा है कि उनकी माँग इस मंत्रालय के साथ प्रदेश कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष बनाए जाने की है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नितिन गडकरी
गडकरी का यह बयान शिवसेना विधायक दल में बगावत की खबरों के बीच आया है। हालॉंकि शिवसेना का कहना है कि एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर सरकार चलाने के लिए उसने कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का ड्राफ्ट तैयार कर लिया है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

113,096फैंसलाइक करें
22,561फॉलोवर्सफॉलो करें
119,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: