आर माधवन को माओवंशी लिबरपंथी क्यों दे रहे हैं गालियाँ…

लिबरल्स गलियारे में, विशेष रूप से द्रविड़वादी राजनीति में, पूनल को नरसंहार और उत्पीड़न के प्रतीक से जोड़ा गया। इसे जातिवाद का प्रतीक माना जाता है, न कि हिन्दुओं के एक विशेष वर्ग की परंपराओं का।

बॉलीवुड और तमिल फिल्मों में बड़े पैमाने पर काम करने वाले लोकप्रिय अभिनेता रंगनाथन माधवन (आर माधवन) ने सभी को रक्षाबंधन की शुभकामनाएँ दी और सोशल मीडिया पर अपने बेटे के साथ खुद की एक फ़ोटो शेयर की। इस फ़ोटो में दोनों ने जनेऊ पहन रखा है। फ़ोटो में दिख रहा है कि आर माधवन का बेटा उनकी बहन की अनुपस्थिति में अपने पिता के हाथ पर राखी बाँध रहा है।

इस फ़ोटों के लिए आर माधवन को लिबरल गैंग द्वारा ट्रोल किया जा रहा है। उनके अनुसार, जनेऊ, यज्ञोपवीतम या जिसे तमिल में पूनल कहा जाता है, जातिवाद का प्रतीक है और माधवन को अपने पूर्वजों की परंपराओं को बनाए रखने के लिए ख़ुद पर शर्म आनी चाहिए।

लिबरल्स के अनुसार, माधवन को अपनी पहचान को लेकर शर्मिंदा होना चाहिए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रक्षाबंधन मनाने के लिए भी माधवन पर हमला किया गया।

आज का दिन अवनी अवित्तम का भी शुभ दिन है, जिस दिन ब्राह्मण अपने जनेऊ बदलते हैं। अभिनेता आर माधवन ने इंस्टाग्राम पर ख़ुद की एक फ़ोटो पोस्ट की जिसमें उन्होंने सभी को इस दिन की शुभकामनाएँ दी।

लिबरल्स गलियारे में, विशेष रूप से द्रविड़वादी राजनीति में, पूनल को नरसंहार और उत्पीड़न के प्रतीक से जोड़ा गया। इसे जातिवाद का प्रतीक माना जाता है, न कि हिन्दुओं के एक विशेष वर्ग की परंपराओं का। नाजी जर्मनी में यहूदियों के ख़िलाफ़ घृणा की तर्ज पर नरसंहार का प्रचार मुख्यधारा की द्रविड़वादी राजनीति में काफी प्रचलित है। इस प्रकार, यह वास्तव में आश्चर्य की बात नहीं है कि माधवन को उनकी हाल की फ़ोटो के लिए ट्रोल किया जा रहा है।

इससे पहले, माधवन को कुछ लिबरल्स द्वारा पीएम मोदी के अभियान का समर्थन करने के लिए भी ट्रोल किया गया था। पीएम मोदी और चीन के प्रधानमंत्री शी जिनपिंग के बीच बातचीत का मज़ाक उड़ाने वाली कॉन्ग्रेस पार्टी ने उन्हें ‘सेक्यूलर लिबरल’ का समर्थन करने के लिए आमंत्रित भी किया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

महाराष्ट्र ओपिनियन पोल
देवेंद्र फडणवीस को 39% लोगों ने मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद माना है जबकि 6% लोग उद्धव ठाकरे के पक्ष में थे। बता दें कि उद्धव की शिवसेना भी राजग का हिस्सा है।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

92,030फैंसलाइक करें
15,511फॉलोवर्सफॉलो करें
98,500सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: