Sunday, June 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइस्लाम कबूल करवाने के दबाव के बाद पूर्व पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी ने भारत...

इस्लाम कबूल करवाने के दबाव के बाद पूर्व पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी ने भारत को बताया ‘दुश्मन देश’, साथी खिलाड़ी दानिश कनेरिया ने लपेटे में लिया

"भारत हमारा दुश्मन नहीं है। हमारे दुश्मन वो हैं जो मजहब के नाम पर लोगों को भड़काते हैं। यदि आप भारत को अपना दुश्मन मानते हैं, तो कभी भी किसी भारतीय मीडिया चैनल पर न जाएँ।"

पूर्व पाकिस्तानी कप्तान शाहिद अफरीदी द्वारा पाकिस्तानी पूर्व स्पिनर दानिश कनेरिया पर ‘दुश्मन देश’ (भारत) की मीडिया से बात करने का आरोप लगाने के कुछ दिनों बाद, दानिश ने अफरीदी को किसी भी भारतीय चैनल से बात न करने की सलाह दी है।

बता दें कि इससे पहले दानिश कनेरिया ने अफरीदी पर धर्मांतरण और इस्लाम कबूल करने के लिए राजी करने का भी आरोप लगाया था। सोमवार 9 मई, 2022 को कनेरिया ने ट्वीट किया, “भारत हमारा दुश्मन नहीं है। हमारे दुश्मन वो हैं जो मजहब के नाम पर लोगों को भड़काते हैं। यदि आप भारत को अपना दुश्मन मानते हैं, तो कभी भी किसी भारतीय मीडिया चैनल पर न जाएँ।”

दानिश कनेरिया ने आगे खुलासा किया कि पाकिस्तान में जबरन धर्म परिवर्तन की दुर्दशा पर उन्हें चुप रहने के लिए मजबूर किया गया था। उन्होंने लिखा, “जब मैंने जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ आवाज उठाई तो मुझे धमकी दी गई कि मेरा करियर तबाह कर दिया जाएगा।”

दानिश कनेरिया ने यह भी कहा कि शोएब अख्तर अपनी समस्याओं के बारे में सार्वजनिक रूप से बोलने वाले पहले व्यक्ति थे। अख्तर ने खुलकर कहा था कि कैसे कनेरिया के साथ हिंदू होने की वजह से टीम में बुरा बर्ताव किया जाता था। दानेश कनेरिया ने कहा कि बाद में कई अधिकारियों ने अख्तर पर दबाव बनाया, जिसके बाद अख्तर ने इस बारे में बात करना ही बंद कर दिया।

विवाद की जड़

इस साल 29 अप्रैल को दानिश कनेरिया ने टीम के अपने पूर्व साथी शाहिद अफरीदी पर हिंदू होने के कारण दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था। उन्होंने अफरीदी को चरित्रहीन, जालसाज और झूठा बताया था।

कनेरिया ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, “शाहिद अफरीदी ने हमेशा मुझे निराश किया। वह मुझे बेंच पर रखते थे और मुझे वनडे इंटरनेशनल मैच नहीं खेलने देते थे। वह नहीं चाहते थे कि मैं टीम में रहूँ।”

उन्होंने आगे कहा कि शाहिद अफरीदी चरित्रहीन और झूठे व्यक्ति हैं। उन्होंने समाचार एजेंसी को यह भी बताया कि शाहिद अफरीदी को उनके अच्छे प्रदर्शन से जलन होती थी और उन्होंने अन्य खिलाड़ियों को उनके खिलाफ उकसाया था। कनेरिया ने कहा कि इन सब बातों को नजरअंदाज करते हुए वह सिर्फ क्रिकेट पर ध्यान देते थे।

बाद में 4 मई को ज़ी न्यूज़ के साथ एक अन्य साक्षात्कार में, दानिश कनेरिया ने बताया, “हाँ, अफरीदी अक्सर मुझे इस्लाम कबूल करने के लिए कहते थे। लेकिन, मैं उसे कभी सीरियसली नहीं लेता था। मैं अपने धर्म में विश्वास करता हूँ और यह क्रिकेट पर निर्भर नहीं करता है।”

6 मई को द न्यूज इंटरनेशनल से बात करते हुए, शाहिद अफरीदी ने गाली दी और कनेरिया पर ‘चरित्र पर दृढ़’ नहीं होने का आरोप लगाया।

उन्होंने आरोप लगाया, “कनेरिया मेरे छोटे भाई की तरह थे और मैं उनके साथ कई सालों तक खेला। अगर मेरा रवैया खराब था तो उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड या जिसके लिए खेल रहे थे, उससे शिकायत क्यों नहीं की।”

अफरीदी ने दानिश कनेरिया पर ‘दुश्मन राष्ट्र’ भारत को इंटरव्यू देने का आरोप लगाते हुए कहा, “वह मुझ पर सस्ती प्रसिद्धि पाने और पैसा कमाने के लिए आरोप लगा रहे हैं। वह हमारे दुश्मन देश को इंटरव्यू दे रहे हैं जो धार्मिक भावनाओं को भड़का सकते हैं। उनके बारे में सभी जानते हैं।”

स्पिनर ने अब भारत को ‘दुश्मन देश’ कहने के लिए अफरीदी की खिंचाई की है।

हिंदू विरोधी रुख और शाहिद अफरीदी की भारत विरोधी टिप्पणी

बता दें कि दिसंबर 2019 में, अफरीदी के पुराने साक्षात्कार की एक क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी। जिससे एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया था। उस वीडियो में उन्होंने खुलासा किया कि उन्होंने उस समय अपना टेलीविजन सेट तोड़ दिया था जब उन्होंने अपने एक बच्चे को एक भारतीय सीरियल में ‘आरती’ का दृश्य देखते हुए देखा था।

गौरतलब है कि पूर्व पाकिस्तानी कप्तान को हाल ही में तालिबान का समर्थन करते देखा गया था। उनका कहना था कि तालिबान बहुत ही पॉजिटिव माइंड के साथ आए हैं। वे महिलाओं को काम करने दे रहे हैं। पाकिस्तान की राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान ने यह भी कहा कि तालिब मज़ेदार, क्रिकेट-प्रेमी लोग हैं।

वहीं, 2020 में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की अपनी यात्रा के दौरान, शाहिद अफरीदी ने भारत के खिलाफ टिप्पणी की थी। इसके बाद, भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह और हरभजन सिंह, जिन्होंने उनके एनजीओ का समर्थन करने के लिए वीडियो पोस्ट किया, को आगे आना पड़ा और अफरीदी का समर्थन करने के लिए माफी माँगनी पड़ी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

‘मोदी के दिए घरों में रहते हैं, 100% वोट कॉन्ग्रेस को देते हैं’: बोले असम CM सरमा – राज्य पर कब्ज़ा करना चाहते हैं...

सीएम हिमंता ने कहा कि बांग्लादेशी मूल के अल्पसंख्यकों ने कॉन्ग्रेस को इसलिए वोट दिया, क्योंकि अगले 10 सालों में वे राज्य को कब्जा चाहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -